ताज़ा खबर
 

दावा: कीटनाशकों के एक चौथाई नमूने जांच में फेल, खेती में हुआ अरबों का नुकसान

किसानों के एक प्रमुख संगठन, भारतीय कृषि समाज ने सोमवार को कहा कि बाजार में बिक रहे कीटनाशकों के लगभग एक-चौथाई कीटनाशकों के नमूने जांच में घटिया किस्म के पाए गए हैं।

Author Updated: December 18, 2018 10:29 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

किसानों के एक प्रमुख संगठन, भारतीय कृषि समाज ने सोमवार को कहा कि बाजार में बिक रहे कीटनाशकों के लगभग एक-चौथाई कीटनाशकों के नमूने जांच में घटिया किस्म के पाए गए हैं। संगठन का कहना है कि घटिया कीटनाशक दवाओं के प्रयोग के चलते कृषक समुदाय को सालाना करीब 30,000 करोड़ रुपये की फसल का नुकसान हो रहा है। संगठन ने दावा किया है कि उसने खुले बाजार से एकत्रित कीटनाशकों के कुल 50 नमूनों की जांच गुरुग्राम में स्थित सरकारी प्रयोगशाला- कीटनाशक सूत्रीकरण प्रौद्योगिकी संस्थान(आईपीएफटी) में करायी है। इनमें से 13 नमूने गुणवत्ता में निम्न कोटि के पाए गए हैं। भारतीय कृषि समाज के अध्यक्ष कृष्णा बीर चौधरी ने इस जांच रपट को यहां एक संवाददाता सम्मेलन में जारी किया। इसके अनुसार जैविक कीटनाशकों के नाम पर बेचे जाने वाले कीटनाशकों में से नौ में रासायनिक कीटनाशक की मिलावट पाई गई है।

डा चौधरी ने कहा, ‘ किसानों को कीटनाशकों की जो क्वालिटी बतायी जाती है वह है नहीं.. बायो पेस्टिसाइड्स (जैव कीटनाशक) के नाम पर मकड़जाल फैला है और इसके लिए बहुत कुछ जिला स्तर पर काम सेंपल भरने वाले पेस्टिसाइड इंसपेक्टर और राज्य स्तरीय प्रयोगशालाओं के प्रभारी जिम्मेदार है।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि राज्यों में कीटनाशक निरीक्षक और प्रयोगशाला विश्लेषकों की मिली भगत से घटिया कृषि औषधियों का यह कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है।

संगठन ने कहा कि राज्य स्तरीय कीटनाशक जांच प्रयोगशालाओं के लिए राष्टीय जांच एवं मापांकन प्रयोगशाला मान्यता परिषद (एनएबीएल) से मान्यता अनिवार्य की जाए। चौधरी ने कहा कि नकली (रिपीट नकली) कीटनाशकों का बाजार चार से पांच हजार करोड़ रुपये का है, जबकि नकली कीटनाशकों का उपयोग करने के कारण किसानों को नुकसान 30,000 करोड़ रुपये से भी अधिक का होने का अनुमान है।

 

डा चौधरी ने कहा, ‘‘ भारत कीटनाशकों का बड़ा निर्यातक है और निर्यात माल की गुणवत्ता में कोई शिकायत नहीं दिखती है। गड़बड़ी घरेलू बाजार में बेचे जा रहे माल की है।’’ उन्होंने कहा, “परीक्षण में 50 कीटनाशकों में से 23 जैविक कीटनाशक थे। रासायनिक कीटनाशकों के चार नमूने मानक स्तर के अनुरूप नहीं पाया गए जबकि बायो-कीटनाशकों के नौ नमूने परीक्षण में विफल रहे क्योंकि उनमें रसायन शामिल थे।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 1984 सिख विरोधी दंगे: गवाहों ने लिया था कमलनाथ का नाम, आयोग ने कहा- दोषी ठहराना संभव नहीं
2 राफेल मामला: पहले कभी पेश नहीं हुई सीएजी की संशोधित रिपोर्ट, एक्‍सपर्ट्स ने कहा- ऐसा प्रावधान ही नहीं
3 प्यार में पड़कर पाकिस्तान गया था युवक! 6 साल जेल में काटे, अब लौटेगा घर