ताज़ा खबर
 

CJI पर यौन उत्‍पीड़न का आरोप लगाने वाली महिला का जांच में शामिल होने से इन्कार, बताए चार कारण

महिला के मुताबिक, जस्टिस बोबडे की अध्यक्षता वाले पैनल में किसी वकील या फिर समर्थन करने वाले व्यक्ति के बगैर वह डरा और घबराया हुआ महसूस करेगी।"

सीजेआई रंजन गोगोई। (एक्सप्रेस फोटोः अमित मेहरा)

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने वाली सुप्रीम कोर्ट की पूर्व कर्मचारी महिला ने मामले से जुड़ी आंतरिक जांच में शामिल होने से इन्कार कर दिया। उल्टा महिला ने आरोप लगाया कि आंतरिक समिति की कार्यवाही के दौरान उसके वकील को मौजूद रहने की अनुमति नहीं दी गई। महिला के मुताबिक, जस्टिस बोबडे की अध्यक्षता वाले पैनल में किसी वकील या फिर समर्थन करने वाले व्यक्ति के बगैर वह डरा और घबराया हुआ महसूस करेंगी।”

कोर्ट की पूर्व कर्मचारी ने कहा कि उसे लगा कि उसे इस समिति से न्याय नहीं मिलेगा, लिहाजा उसने कार्यवाही में हिस्सा लेने से मना कर दिया। उसने जांच में शामिल न होने के पीछे चार अहम कारण भी गिनाए, जो कि इस प्रकार हैं:

1- “आंशिक तौर पर (एक कान से) मुझे सुनाई न देने, घबराहट होने और डर महसूस करने के बाद भी मेरे वकील या मुझे समर्थन करने वाले शख्स को जांच के दौरान जाने की इजाजत नहीं दी गई।”

2- “समिति की कार्यवाही की कोई वीडियो और ऑडियो रिकॉर्डिंग भी नहीं होती है।”

3- “मुझे मेरे बयानों की प्रति भी मुहैया नहीं कराई गई, जो कि 26 और 29 अप्रैल को लिए गए थे।”

4- “मुझे उस प्रक्रिया के बारे में भी नहीं बताया गया, जिसका पालन यह समिति कर रही है।”

महिला ने इसके अलावा जांच को औपचारिक पूछताछ के रूप में किए जाने की मांग की है। दरअसल, शुक्रवार को इस मामले में शुरू हुई जांच न्यायिक जांच के बजाय प्रशासन की तरफ से की जाने वाली विभागीय जांच है। उसी दिन सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेट्री जनरल को भी सभी जरूरी दस्तावेजों के साथ समिति के समक्ष मौजूद रहने के लिए आदेश दिया गया था।

बता दें कि इस समिति का गठन 28 पन्नों वाली शिकायत (एक हलफनामा भी शामिल) की जांच करने के लिए किया गया है, जिसमें महिला ने सीजेआई पर यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। पिछले हफ्ते तीन सदस्यी जांच पैनल में शामिल जस्टिस एनवी रमन्ना ने खुद को सुनवाई से अलग कर लिया था। दरअसल, महिला ने पैनल में उनके होने को लेकर आपत्ति जताई थी और कहा था- जस्टिस रमन्ना सीजेआई के करीबी दोस्त हैं और आमतौर पर वह उनके घर भी जाते रहते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App