ताज़ा खबर
 

CAA नहीं लागू किया तो केंद्र सरकार करेगी शक्ति का इस्तेमाल, BJP सांसद ने राज्यों को चेताया

बीजेपी सांसद रविद्र कुशवाहा ने कहा कि मोदी सरकार की बढ़ती लोकप्रियता व लोककल्याणकारी विकास कार्यक्रमों से हताश विपक्षी दल नागरिकता संशोधन विधेयक व जनगणना को लेकर देश के माहौल को अशांत कर रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि विपक्षी दलों के नेताओं को देश के मुसलमानों के हितों से कोई सरोकार नही है।

Author लखनऊ | Updated: December 26, 2019 6:01 PM
भाजपा सांसद रविंद्र कुशवाहा, फोटो सोर्स- फेसबुक

भाजपा सांसद रवींद्र कुशवाहा ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून नहीं लागू करने पर केंद्र सरकार, पश्चिम बंगाल, राजस्थान सहित इसको लागू न करने की घोषणा कर रही राज्य सरकारों के खिलाफ अपनी शक्ति का प्रयोग करते हुए कार्रवाई करेगी । सलेमपुर से भाजपा सांसद ने यहां  संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि संविधान में स्पष्ट व्यवस्था है कि केंद्र सरकार संसद से पारित कराकर कोई कानून बनाती है तो सभी राज्य सरकारों को इसको लागू करना ही होगा ।

 वोट बैंक के लिए लोगों को बरगला रहे विपक्षी दल:  उन्होंने पश्चिम बंगाल एवं राजस्थान सरकार द्वारा इसे अपने राज्यों में लागू न करने की घोषणा करने पर कहा कि अपने वोट बैंक को बरगलाने के लिये भले कोई बयान दे लेकिन यदि यह लागू करने में बाधा डालेंगे तो केंद्र सरकार राज्य सरकारों के खिलाफ अपनी शक्ति का प्रयोग करते हुए कार्रवाई करेगी। कुशवाहा कहा कि मोदी सरकार की बढ़ती लोकप्रियता व लोककल्याणकारी विकास कार्यक्रमों से हताश विपक्षी दल नागरिकता संशोधन विधेयक व जनगणना को लेकर देश के माहौल को अशांत कर रहे हैं । उन्होंने दावा किया कि विपक्षी दलों के नेताओं को देश के मुसलमानों के हितों से कोई सरोकार नही है।

Hindi News Today, 26 December 2019 LIVE Updates: बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

बंगाल सीएम ममता  कर रही है विरोध: गौरतब है कि देश में नागरिकता कानून लागू होने के बाद से ही विपक्षी दल की सरकारे अपने राज्यों में इसे लागू करने से मना कर रही हैं। उनका आरोप है कि यह कानून विभाजनकारी है। इस कानून का विरोध पश्चिम बंगाल की सीएम  ममता बनर्जी समेत लगभग सभी भाजपा विरोधी पार्टीयों के सीएम कर रहे हैं। ममता बनर्जी ने इस कानून के साथ – साथ देश में एनआरसी और एनपीआर का भी विरोध कर रही है।

16 से ज्यादा लोगों की हो चुकी है मौत: बता दें कि CAA कानून के लागू होने के बाद से ही देश के कई राज्यों में हिसंक भरे प्रदर्शन हो रहे हैं। सबसे ज्यादा हिसंक विरोध यूपी में देखने को मिला है। इस राज्य में लगभग 16 लोगों की हिंसा के दौरान मौत हो चुकी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अठावले को नहीं रास आया RSS प्रमुख का बयान, कहा- एक समय देश में सभी बौद्ध थे, सबको हिंदू कहना ठीक नहीं
2 BHU के 51 प्रोफेसरों ने CAA व NRC के खिलाफ उठाई आवाज, हस्ताक्षर अभियान चलाकर जताया विरोध
3 ‘UP में आतंक का राज’, CAA व NRC के प्रदर्शनकरियों के खिलाफ योगी सरकार ने छेड़ा खुला युद्ध; ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट का आरोप
ये पढ़ा क्या?
X