ताज़ा खबर
 

Citizenship Amendment bill: नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में उतरे 1000 भारतीय वैज्ञानिक व स्कॉलर्स, बोले-संविधान की मूल भावना के खिलाफ है सीएबी

Citizenship Amendment bill: इस ऑनलाइन अभियान पर 24 घंटे के भीतर ही करीब 1000 लोगों ने हस्ताक्षर किए हैं। इसमें जवाहारलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से लेकर टोरंटो यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक और स्कॉलर्स शामिल हैं।

Author Edited By मोहित नई दिल्ली | Updated: December 9, 2019 5:40 PM
सिटीजन अमेंडमेंट बिल का हो रहा विरोध। (PTI फाइल फोटो)

Citizenship Amendment bill: नागरिकता संशोधन बिल सोमवार में लोकसभा से पास कर दिया गया। इस बीच बिल के विरोध में 1000 भारतीय वैज्ञानिक और स्कॉलर्स ने मोर्चा खोल दिया है। देश विदेश के भारतीय वैज्ञानिक और स्कॉलर्स ने ऑनलाइन अभियान पर हस्ताक्षर कर बिल के विरोध में आवाज उठाई है। इसमें कहा गया है कि यह बिल संविधान की मूलभूत बातों का उल्लंघन करता है। वैज्ञानिक और स्कॉलर्स का कहना है कि नागरिकता देने के लिए धर्म का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

इस ऑनलाइन अभियान पर 24 घंटे के भीतर ही करीब 1000 लोगों ने हस्ताक्षर किए हैं। इसमें जवाहारलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से लेकर टोरंटो यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक और स्कॉलर्स शामिल हैं। इस ऑनलाइन अभियान में कहा गया है कि ‘इस बिल में हिन्दुओं, बौद्ध, सिख, जैन, पारसी और ईसाई लोगों को नागरिकता दी जाएगी जो कि अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से संबंधित होंगे। इस बिल में कहा गया है कि ये वे लोग होंगे जो कि धार्मिक पताड़ना सह रहे होंगे। यह सरकार का अच्छा कदम है लेकिन यह धर्म के आधार पर भारतीय नागरिकता प्रदान करता है।

आजादी के बाद जो संविधान लिखा गया उसमें सभी धर्मों के लोगों के साथ समान व्यवहार की बात कही गई है। बिल में धर्म को आधार बनाकार नागरिकता देने की बात कही गई जो कि संविधान की मूल संरचना के साथ असंगत होगा। बिल में मुस्लिम समुदाय को बाहर रखना देश के बहुलवादी समाज पर असर डालेगा। ऐसे में कानून के जानकारों को यह तय करना होगा कि क्या यह बिल संविधान का उल्लंघन कर रहा है या नहीं। लेकिन जहां तक हमें महसूस होता है इससे संविधान का उल्लंघन हो रहा है।

गृह मंत्री अमित शाह ने बिल को ऐतिहासिक करार देते हुए सोमवार को कहा कि यह बीेजेपी के घोषणापत्र का हिस्सा रहा है और 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में देश के 130 करोड़ लोगों ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनाकर इसकी मंजूरी दी है। इस दौरान शाह ने कहा कि इस बिल के जरिए अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव नहीं किया जा रहा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘कोई बेवकूफ मेरे खिलाफ नहीं चला सकता केस, मैं परम शिव हूं’ Video जारी कर बोला नित्यानंद, उड़ाया कोर्ट का मजाक
2 नागरिकता संशोधन बिल: शिया मुसलमानों को भी दायरे में लाना चाहते हैं वसीम रिजवी, अमित शाह को लिखी चिट्ठी
3 आडवाणी और बाबरी विध्वंस पर किया आपत्तिजनक पोस्ट, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र व एलुमिनाई पर केस
ये पढ़ा क्या?
X