ताज़ा खबर
 

CAA Protest: मुंबई की सड़कों पर उतरे फरहान अख्तर, अनुराग कश्यप समेत ये बॉलीवुड सितारे, कहा- अपने इरादे साफ करे मोदी सरकार

CAA Protest Bollywood: फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप ने कहा कि, "हम भाग्यशाली हैं कि वह एक ऐसे राज्य में हैं जहां वे (भाजपा) सत्ता में नहीं हैं।" उन्होंने कहा कि सरकार को लगातार नागरिकों के साथ छेड़छाड़ करने के बजाय अपने इरादों को साफ करने की जरूरत है।

बॉलीवुड अभिनेता फरहान अख्तर, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

CAA Protest Bollywood: नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ बॉलीवुड की कई हस्तियों ने मुंबई के अगस्त क्रांति मैदान पहुंचकर विरोध जताया है। इनमें फरहान अख्तर, सुशांत सिंह राजपूत, स्वरा भास्कर, अनुराग कश्यप, हुमा कुरैशी, नंदिता दास और राकेश ओमप्रकाश मेहरा शामिल थे। इस प्रदर्शन में विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के कार्यकर्ता, छात्र और अन्य बॉलीवुड हस्तियां भी शामिल थी। इस कानून के खिलाफ लगभग पूर देश विरोध प्रदर्शन हो रहे है। हालांकि मुंबई से हिंसा की खबरें नहीं आई हैं।

सरकार को अपने इरादे साफ करना चाहिए:  बता दें कि बृहस्पतिवार (19 दिसंबर) को मुंबई में शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के साथ-साथ पूरे भारत में इस कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहा है। कई राज्यों में धारा 144 लागू होने के बाद प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया। इस दौरान फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप ने कहा कि, “हम भाग्यशाली हैं कि वह एक ऐसे राज्य में हैं जहां वे (भाजपा) सत्ता में नहीं हैं।” उन्होंने कहा कि सरकार को लगातार नागरिकों के साथ छेड़छाड़ करने के बजाय अपने इरादों को साफ करने की जरूरत है।

Hindi News Today, 20 December 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

CAA के खिलाफ आवाज उठाने के लिए किया आग्रह: गौरतलब है कि इसी साल अगस्त में कश्यप ने विवादों के बाद ट्विटर  इस्तेमाल करने से मना कर दिया था। उनके राजनीतिक विचारों की वजह से उनके परिवार वालों को धमकियां मिलनी शुरू हो गई थी। जिसके बाद उन्हें यह कदम उठाना पड़ा था। हालांकि चार दिन पहले ही उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि, “सरकार स्पष्ट रूप से फासीवादी है।” उन्होंने अगस्त क्रांति के प्रदर्शन का विवरण ट्विटर पर साझा करते हुए, लोगों से सीएए के खिलाफ आवाज उठाने का आग्रह किया है।

इस कानून के खिलाफ आवाज उठाना जरूरी: अगस्त क्रांति मैदान के प्रदर्शन में मौजूद अभिनेता फरहान अख्तर ने प्रेस से बात करते हुए कहा कि किसी चीज के खिलाफ अपनी आवाज उठाना एक पूर्ण लोकतांत्रिक अधिकार है। इस देश के नागरिक के रूप में और किसी ऐसे व्यक्ति के रूप में जिसने जन्म लिया है और भारत क्या है, इस बारे में एक निश्चित विचार के साथ बड़ा हुआ है, तो उसे इस कानून के खिलाफ आवाज उठाना जरुरी है। इस प्रदर्शन में फरहान अख्तर बहुत कम समय के लिए पहुंचे थे।

सरकार को इस कानून पर संज्ञान लेना चाहिए: बता दें कि इस प्रदर्शन दौरान स्वरा भास्कर, राकेश ओमप्रकाश मेहरा और जावेद जाफरी जैसे अभिनेताओं ने मंच पर भाषण दिए। भास्कर ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सरकार को जनता को सुनने की जरूरत है जिसने उसे चुना है। अगर भारतीय समाज का हर हिस्सा सीएए के खिलाफ विद्रोह कर रहा है, तो सरकार को कर्फ्यू, लाठीचार्ज और फोन सेवाओं को प्रतिबंधित करने के बजाय इस पर संज्ञान लेना चाहिए। उन्होंने सरकार से सवाल करते हुए कहा कि यदि सरकार पाकिस्तनी पिता से लंदन में पैदा हुए अदनान सामी को नागरिकता दे सकती है तो पाकिस्तान, अफगनिस्तान और बांग्लादेश के प्रवासियों को क्यों नहीं दिया जा सकता है। इसके लिए संविधान को बदलने की क्या जरुरत है।

सरकार को रोटी कपड़ा मकान देना चाहिए: इसके बाद अभिनेता जाफरी ने कहा कि सरकार इस खेल को बंद करो। हमें रोटी, कपडा, मकान दें। आपने कहा था कि आप हमें स्वास्थ्य नीति, शिक्षा नीति देंगे, लेकिन सत्ता में आने पर सबसे पहली बात यह है कि आप एक मंदिर का निर्माण करेंगे। अभिनेत्री अदिति राव हैदरी ने कहा कि आज यह मुसलमानों का है कल यह किसी और का भी हो सकता है। इसके खिलाफ भीड़ और यहां अधिक होनी चाहिए।

Next Stories
1 शिवसेना ने बढ़ाई BJP की मुश्किलें? कहा- फडणवीस के कई लोग बन चुके हैं उद्धव सरकार के मित्र, मोदी सरकार पर यूं कसा तंज
2 यूपी सीएम कर रहे रेप मामलों में 19% गिरावट का दावा, पर चार महीनों में पांच बलात्कार पीड़ितों ने तोड़ दिया दम
3 ‘‘लुंगी पहने घुसपैठियों’’ ने फैलाई बंगाल में हिंसा, NRC व CAA विवाद पर बोले BJP नेता
यह पढ़ा क्या?
X