ICMR का दावा, कोवैक्सीन के सामने नहीं टिकेगा कोरोना को कोई भी रूप, SII ने निर्धारित की वैक्सीन की कीमत

सरकार के नए निर्णय के मुताबिक, वैक्सीन निर्माताओं द्वारा उत्पादित लगभग 50 प्रतिशत खुराक पूर्व घोषित मूल्य पर "खुले बाजार में" प्रदान की जाएगी। राज्य सरकारें, निजी अस्पताल और निजी उद्योग 18 से 45 वर्ष की आयु के लोगों के टीकाकरण के लिए ये खुराक खरीद सकते हैं।

Author Edited By Sanjay Dubey पुणे | April 21, 2021 2:49 PM
Coronavirus, Vaccinationसीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने हाल ही में वैक्सीन के लिए कच्चे माल की कमी का मुद्दा उठाया था। (एपी फोटो / डार यासीन, फाइल)

केंद्र सरकार के 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए एंटी कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत करने की घोषणा के दो दिन बाद पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के मुख्यालय ने बुधवार को कहा कि उसकी कोवीशिल्ड वैक्सीन की खुराक राज्य सरकारों को 400 रुपए और निजी अस्पतालों को 600 रुपये में दी जाएगी। आईसीएमआर का दावा है कि कोवैक्सीन के आगे कोरोना का कोई भी रूप नहीं टिकेगा।

अभी यह साफ नहीं है कि निजी अस्पतालों के टीकाकरण केंद्र इस आयु वर्ग के लोगों के पहुंचने पर वे उनसे कितना शुल्क लेंगे। 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को अभी सरकारी केंद्रों पर मुफ्त में टीके लगाए जा रहे हैं, जबकि निजी अस्पतालों में उनसे 250 रुपये प्रति खुराक लिए जा रहे हैं।

राज्यों के पास यह फैसला लेने का अधिकार है कि वैक्सीन निर्माताओं से सीधे खुराक लेने के बाद वे उसे कैसे बेचते हैं।

शेष 50 प्रतिशत केंद्र सरकार को प्रदान किया जाएगा, जिसे राज्यों को एक फार्मुले के तहत आपूर्ति की जाएगी कि सरकार देश भर में इन संसाधनों को वितरित करने के लिए उपयोग कर रही है। हालांकि सरकार ने इस फॉर्मूले का खुलासा नहीं किया है।

भारत के टीकाकरण कार्यक्रम में वर्तमान में उपलब्ध अन्य टीका भारत बायोटेक के कोवाक्सिन है। इस टीके की कीमत अभी तक सार्वजनिक नहीं की गई है।

Next Stories
1 कोरोना: तिहाड़ में शहाबुद्दीन तो भायखला में इंद्राणी मुखर्जी संक्रमित
2 महाराष्ट्र में लॉकडाउन का ऐलान, गुरुवार की रात आठ बजे से पहली मई तक रहेगी कड़ी पाबंदी
3 ऑक्सीजन संकट से निपटने को टाटा ग्रुप ने बढ़ाया मदद का हाथ, PM मोदी ने की तारीफ़
यह पढ़ा क्या?
X