ताज़ा खबर
 

क्रिश्‍च‍ियन मिशेल का दावा- यूपीए की बैठकों तक थी पहुंच, रक्षा बैठकों की भी रखता था जानकारी, प्रधानमंत्री पर बनाता था दबाव

मिशेल ने अपनी चिट्ठी में दावा किया है कि उसे अमेरिका की तत्कालीन सेक्रेटरीज ऑफ स्टेट हिलरी क्लिंटन और पीएम मनमोहन सिंह के बीच हुई गोपनीय बातचीत की जानकारी मिलती रहती है। मिशेल ने अपनी चिट्ठी में इस बात का भी राजफाश किया है कि तत्कालीन सरकार में वित्त मंत्री और रक्षा मंत्री के बीच पावर-स्ट्रगल चल रहा था।

क्रिश्‍च‍ियन मिशेल की चिट्ठी से खुलासा हुआ है कि वह यूपीए सरकार की अहम बैठकों तक पहुंच रखता था. (फोटो सोर्स: पीटीआई)

अगस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर सौदे का बिचौलिया क्रिश्‍च‍ियन मिशेल की एक चिट्ठी ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। इस चिट्ठी में मिशेल का दावा है कि उसकी पहुंच तत्कालीन यूपीए सरकार की संवेदनशील बैठकों तक थी। मनमोहन सिंह की कैबिनेट के कुछ मंत्री उसके संपर्क में थे। वहीं, नौकरशाहों का एक बड़ा तबका भी मिशेल को जानकारियां साझा कर रहा था। यही नहीं सुरक्षा मामलों के लिए कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) की बैठकों की भी जानकारी उसे मिलती रहती थी।

इकनॉमिक टाइम्स के हवाले से लिखी गई ख़बर के मुताबिक 28 अगस्त, 2009 को मिशेल ने ‘अगस्टा वेस्टलैंड’ के मालिक जी ओरसी को एक ख़त लिखा था। इस चिट्ठी में उसने दावा किया कि उसे अमेरिका की तत्कालीन सेक्रेटरीज ऑफ स्टेट हिलरी क्लिंटन और पीएम मनमोहन सिंह के बीच हुई गोपनीय बातचीत की जानकारी मिलती रहती है। मिशेल ने अपनी चिट्ठी में इस बात का भी राजफाश किया है कि तत्कालीन सरकार में वित्त मंत्री और रक्षा मंत्री के बीच पावर-स्ट्रगल चल रहा था।

क्रिश्‍च‍ियन ने अपनी चिट्ठी में 2009 में जुलाई 19 से 23 के बीच हुए हिलरी क्लिंटन और तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह के बीच हुई मीटिंग का जिक्र किया है। उसने अपने पत्र में हिलेरी क्लिंटन ने मनमोहन सिंह क्या कहा, इसका जिक्र किया है। मिशेल ने बताया है कि मनमोहन सिंह किसी अनजान कारणों से अमेरिका से बेहतर संबंध कायम रखने की कोशिश कर रहे थे। इस दौरान उसने सौदे में देरी के लिए मनमोहन सिंह की कार्य-प्रणाली को भी कोसा है और तत्कालीन रक्षा सचिव को घमंडी करार दिया है।

अपनी चिट्ठी में क्रश्चिन मिशेल ने जिक्र किया है कि उसकी टीम (जिसमें कि कुछ नौकरशाह और अहम राजनीतिक शख्सियतें शामिल थीं) को सौदे के हरी झंडी मिलने की उम्मीद थी। लेकिन, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सारा खेल बिगाड़ दिया। उसने लिखा है, “प्रधानमंत्री ने सभी मंत्रियों से सौदे के संदर्भ में जरूरी सवालों को आमंत्रित किया है। जिसकी वजह से यह मामला सीसीएस की बैठक में चला जाएगा।” चिट्ठी में मिशेल ने यह भी लिखा है कि वह बॉस के साथ वित्त मंत्री से मिला था। हमने उन्हें सौदे के बारे में जानकारी नहीं देने के लिए माफी मांगी और प्रधानमंत्री पर दबाव बनाने की कोशिश की।

क्या है पूरा मामला: यूपीए-1 के समय में VVIP के लिए 12 हेलीकॉप्टर खरीदने का सौदा तय हुआ। अगस्टा वेस्टलैंड कंपनी के साथ 3600 करोड़ रुपये की डील फाइनल हुई। लेकिन, इस डील में 10 फीसदी रिश्वत लेने की बात सामने आई। यूपीए की सरकार ने 2013 में इस सौदे को रद्द कर दिया। मामले में पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी समेत 18 लोगों के खिलाफ केस दर्ज हुआ। वहीं, इटली के मिलान स्थित अदालत ने डील में करप्शन की बात कही। अदलात ने अगस्टा वेस्टलैंड के मालिक जी ओरसी को दोषी माना और उसे 4 साल की सजा सुनाई। इस पूरे सौदे में बिचौलिए का काम क्रिश्‍च‍ियन मिशेल कर रहा था। मिशले को अभी हाल में दुबई से मिशेल का प्रत्यर्पण के जरिए भारत लाया गया है।

Next Stories
1 Kerala Sthree Sakthi Lottery SS-137 Today Results: कई लोग हुए मालामाल, जानिए किनकी लगी है लॉटरी
2 नरेंद्र मोदी को लेकर अटल से हो गए थे मतभेद, आडवाणी ने लेख में किया 2002 गुजरात दंगों का जिक्र
3 2013 मुजफ्फरनगर दंगे के मुख्य गवाह सोदान सिंह की फंदे से लटकती मिली लाश, परिवार ने लगाया हत्‍या का आरोप
ये पढ़ा क्या?
X