ताज़ा खबर
 

भारतीय नौसेना की चिंता- लंका में चीन की मौजूदगी बढ़ा सकती है भारत के लिए खतरा

नौसेना के चीफ वाइस एडमिरल जी अशोक कुमार ने कहा, "भारतीय नौसेना देश की समुद्री सीमाओं को सुरक्षित करने के लिए बहुत अच्छी तरह से तैयार है और कोई भी हमें आश्चर्यचकित नहीं कर सकता है।"

चीन की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने की जरूरत। (Source: AP)

देश की उत्तरी सीमा पर चीनी सेना के साथ गतिरोध के बीच भारतीय नौसेना के एक शीर्ष अधिकारी ने बड़ा बयान दिया है। अधिकारी ने कहा कि श्रीलंका में चीनी नौसेना को नया पोर्ट प्रोजेक्ट मिलने से क्षेत्र में भारतीय हितों के लिए ‘खतरा’ हो सकता है। अधिकारी ने चेताया कि इस तरह की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने की जरूरत है।

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए नौसेना के चीफ वाइस एडमिरल जी अशोक कुमार ने कहा, “भारतीय नौसेना देश की समुद्री सीमाओं को सुरक्षित करने के लिए बहुत अच्छी तरह से तैयार है और कोई भी हमें आश्चर्यचकित नहीं कर सकता है।” चीनी श्रीलंका में घुसपैठ कर रहे हैं। उन्हें हाल ही में कोलंबो के पास एक पोर्ट मिला है। इससे पहले वे श्रीलंका का हंबनटोटा पोर्ट अपने कब्जे में ले चुके हैं। जो उनके द्वारा बनाया गया था।

पश्चिम बंगाल: 300 भाजपाइयों ने छोड़ी पार्टी, गंगाजल से “शुद्ध” करके तृणमूल कांग्रेस में कराए गए शामिल

दो प्रीडेटर ड्रोन हिंद महासागर के क्षेत्र में नेवी की निगरानी बढ़ाने में मदद कर रहे हैं। अशोक कुमार ने कहा एमक्यू -9 सी गार्डियन ड्रोन की ताकत हमें एक बड़े क्षेत्र पर नजर रखने में मदद करती है। इससे हमें अपने समुद्री इलाके में निगरानी बढ़ाने में मदद मिली है।

चीन की गतिविधि के संबंध में सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि ड्रोन का इस्तेमाल संभावित विरोधियों पर नजर रखने में किया जाता है, हालांकि जो लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे होते हैं, उन पर भी इनके जरिए नजर रखी जाती है।

बता दें भारत और तीन यूरोपीय देशों ने शुक्रवार को अदन की खाड़ी में हाई वोल्टेज नौसेना वारगेम शुरू किया। दो दिवसीय इस ड्रिल का मकसद आपसी ऑपरेशनल क्षमताओं में सुधार करना और अहम जलमार्गों में शांति, सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ावा देना है।

अधिकारियों ने बताया कि इस संयुक्त नौसेना ड्रिल को ‘यूनावफोर’ नाम दिया गया है। इसमें चारों देशों की नौसेनाओं के पांच वारशिप हिस्सा ले रहे हैं। इस दौरान एडवांस एयर डिफेंस, एंटी सबमरीन ड्रिल, क्रॉस डेक हेलिकॉप्टर ऑपरेशंस, सामरिक युद्धाभ्यास और राहत-बचाव मिशनों का प्रदर्शन किया गया।

Next Stories
1 असीम उड़ान पर निकले ‘फ्लाइंग सिख’, टि्वटर पर उठी मांग- मिल्खा सिंह भारत रत्न के हकदार
2 हम दुनिया में सबसे बेहतर हो सकते हैं, यह यकीन दिलाने वाली शख़्सियत थे मिल्खा सिंह- आनंद महिंद्रा ने ऐसे किया याद
3 बंगाल हिंसाः नहीं करना चाहती सुनवाई…कह SC जज ने खुद को कर लिया केस से अलग
आज का राशिफल
X