ताज़ा खबर
 

मीडिया रिपोर्ट: अंडमान निकोबार में देखी गई चीन की पनडुब्‍बी, इंडियन नेवी ने सुरक्षा बढ़ाई

एनएनसी के कमांड इन चीफ वाइस एडमिरल पीके चटर्जी ने कहा कि ‘हम चीन की हर गतिविधि पर नजर रख रहे हैं। हमने अंडमान एंड निकोबार के करीब इसे देखा है। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है।'

Author कोलकाता | February 27, 2016 2:19 PM
अंडमान-निकोबार देश की सिक्युरिटी के लिहाज से बेहद अहम है, लेकिन इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर की कमी के कारण चीन लगातार इस क्षेत्र में घुसपैठ की कोशिशें करता रहा है।

अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में बीते मंगलवार को इंडियन नेवी के रडार पर चीन की एक सबमरीन की मूवमेंट देखी गई थी। अंग्रेजी अखबार टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। खबर के मुताबिक, अंडमान एंड निकोबार कमांड (एएनसी) ने भी इसको कन्फर्म किया है। एनएनसी के कमांड इन चीफ वाइस एडमिरल पीके चटर्जी ने कहा कि ‘हम चीन की हर गतिविधि पर नजर रख रहे हैं। हमने अंडमान एंड निकोबार के करीब इसे देखा है। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है। चाइना के शिप और सबमरीन्स की इस एरिया में मौजूदगी लगातार महसूस की जाती रही है, इसलिए हमने इस बेल्ट में सिक्युरिटी और कड़ी कर दी है।’

Read Also: US ने रूस-चीन-उत्‍तर कोरिया को दिखाई ताकत, 10 हजार Km तक मार करने वाली परमाणु मिसाइल का परीक्षण किया

चटर्जी ने कहा, ‘अगले पांच साल में यहां बहुत कुछ बदल जाएगा। पिछले 12 महीनों में इन्फ्रास्ट्रक्चर लेवल पर बहुत काम हुआ है। मिलिट्री और सिविल, दोनों क्षेत्र में हम लगातार काम कर रहे हैं। जल्द ही मिसाइल वॉरशिप आईएनएस कर्मक को एनएनसी में तैनात करने के लिए भेजा जाएगा। पोसिएडोन-81 और स्पाई ड्रोन की तैनाती पहले ही हो चुकी है। हमें निगरानी के लिए अतिरिक्‍त रडार भी मिले हैं।’ पोसिएडोन-81 को नेवी का सबसे खतरनाक सबमरीन खोजने और तबाह करने वाला एयरक्राफ्ट माना जाता है। अंडमान-निकोबार देश की सिक्युरिटी के लिहाज से बेहद अहम है, लेकिन इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर की कमी के कारण चीन लगातार इस क्षेत्र में घुसपैठ करता रहा है। लेकिन मोदी सरकार आने के बाद से इस क्षेत्र में कड़े इंतजाम किए जा रहे हैं। हालांकि, विशेषज्ञ मानते हैं कि यहां अभी भी काफी कुछ किया जाना बाकी है।

आपको बता दें कि अंडमान निकोबार में कुल 572 आइलैंड हैं, जो 720 किलोमीटर एरिया में फैले हैं। सरकार का यहां 15 हजार एडिशनल फोर्स तैनात किए जाने का प्लान है। साथ ही नई एयरस्ट्रिप की भी जरूरत है। फिलहाल, यहां 3 हजार सैनिक, 20 छोटे वॉरशिप, कुछ एमआई-8 हेलिकॉप्टर और डोर्नियर एयरक्राफ्ट तैनात हैं।

Read Also: POK में लगातार गतिविधियां चला रहे चीन को भारत ने साउथ चाइना सी में जाकर घेरा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App