ताज़ा खबर
 

जयशंकर से मुलाकात के बाद चीन ने फिर दिखाया अड़ियल रुख, वांग यी बोले- भारत के साथ सीमा पर स्थिति के लिए हम जिम्मेदार नहीं

जयशंकर ने SCO समिट से इतर बैठक के दौरान वांग से कहा कि LAC पर यथास्थिति में कोई भी एकतरफा बदलाव भारत को स्वीकार्य नहीं है और पूर्वी लद्दाख में शांति की पूर्ण बहाली के बाद ही संबंध समग्र रूप से विकसित हो सकते हैं।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र बीजिंग | Updated: July 15, 2021 3:00 PM
भारत और चीन के विदेश मंत्रियों के बीच SCO समिट से इतर हुई थी बैठक। (फोटो- Reuters)

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात के बाद चीन ने एक बार फिर अपना अड़ियल रुख दिखाना जारी रखा है।
चीन के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को अपनी बेवसाइट पर जयशंकर और वांग के बीच हुई बातचीत को लेकर बयान में कहा कि कि भारत और चीन के संबंध ‘निचले स्तर पर’ बने हुए हैं, जबकि गलवान घाटी एवं पैंगोंग झील से बलों की वापसी के बाद सीमा पर हालात आमतौर पर सुधर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद चीन और भारत के संबंध अब भी निचले स्तर पर हैं, जो किसी के हित में नहीं है।

चीन ने अपने पुराने रुख को दोहराया कि वह अपने देश से लगी भारत की सीमा पर स्थिति के लिए जिम्मेदार नहीं है। वांग ने कहा, ‘‘चीन उन मामलों का आपस में स्वीकार्य समाधान खोजने के लिए तैयार है, जिन्हें भारतीय पक्ष के साथ वार्ता एवं विचार-विमर्श के जरिए तत्काल सुलझाए जाने की आवश्यकता है।’’

चीन ने गलवान घाटी और पैंगोंग सो से अपने सैनिकों को पीछे हटा लिया है, लेकिन पूर्वी लद्दाख में हॉट स्प्रिंग्स, गोगरा और डेपसांग जैसे टकराव के अन्य क्षेत्रों से बलों को हटाने की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है।

क्या बोले थे भारतीय विदेश मंत्री?: जयशंकर ने वांग के साथ बैठक में स्पष्ट रूप से कहा कि पूर्वी लद्दाख में मौजूदा स्थिति के लंबा खिंचने से द्विपक्षीय संबंधों पर स्पष्ट रूप से नकारात्मक असर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि फरवरी में पैंगोंग झील क्षेत्रों से बलों को पीछे हटाए जाने के बाद से चीनी पक्ष की ओर से स्थिति को सुधारने में कोई प्रगति नहीं हुई है। जयशंकर ने वांग से कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर यथास्थिति में कोई भी एकतरफा बदलाव भारत को स्वीकार्य नहीं है और पूर्वी लद्दाख में शांति की पूर्ण बहाली के बाद ही संबंध समग्र रूप से विकसित हो सकते हैं।

चीन का बयान- रिश्ते के सकारात्मक पक्ष देखे भारत: चीनी विदेश मंत्रालय के बयान में बताया गया कि वांग ने तत्काल समाधान की आवश्यकता वाले मामलों के आपस में स्वीकार्य समाधान के लिए वार्ता करने पर सहमति जताई और कहा कि दोनों पक्षों को सीमा संबंधी मामले को द्विपक्षीय संबंधों में उचित स्थान पर रखना चाहिए और द्विपक्षीय सहयोग के सकारात्मक पहलुओं को विस्तार देकर वार्ता के जरिए मतभेदों के समाधान के अनुकूल माहौल पैदा करना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘सैन्यबलों के पीछे हटने के कारण मिली उपलब्धियों को आगे बढ़ाना, दोनों पक्षों के बीच बनी सर्वसम्मति एवं समझौते का सख्ती से पालन करना, संवेदनशील विवादास्पद क्षेत्रों में कोई एकतरफा कदम उठाने से बचना और गलतफहमी के कारण पैदा हुए हालत को फिर से पैदा होने से रोकना महत्वपूर्ण है।’’

वांग ने कहा, ‘‘हमें दीर्घकालिक दृष्टिकोण अपनाने की आवश्यकता है, हमें आपात प्रबंधन से सामान्य सीमा प्रबंधन एवं नियंत्रण तंत्र में स्थानांतरण की आवश्यकता है और हमें सीमा संबंधी घटनाओं को द्विपक्षीय संबंधों में अनावश्यक व्यवधान पैदा करने से रोकने की आवश्यकता है।’’

वांग बोले- ‘दोनों देशों के संबंध पर हमारे रुख में बदलाव नहीं’: उन्होंने कहा, ‘‘चीन-भारत संबंधों पर चीन के रणनीतिक रुख में कोई बदलाव नहीं हुआ है। चीन-भारत संबंध एक-दूसरे के लिए खतरा नहीं, बल्कि एक-दूसरे के विकास का अवसर होने चाहिए। दोनों देश साझेदार हैं, वे प्रतिद्वंद्वी और दुश्मन नहीं हैं।’’

वांग ने कहा, ‘‘चीन-भारत संबंधों के सिद्धांत संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के प्रति आपसी सम्मान, गैर-आक्रामकता, एक दूसरे के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करना और एक दूसरे के हितों के प्रति आपसी सम्मान पर आधारित होने चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि चीन और भारत के बीच बातचीत के तरीके में सहयोग, पारस्परिक लाभ और पूरकता, स्वस्थ प्रतिस्पर्धा और टकराव से बचने पर मुख्य रूप से ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए।

Next Stories
1 डोमनिका में जमानत मिलने के बाद एंटीगुआ पहुंचा चोकसी, बेल के लिए जमा किए 10 हजार ईस्टर्न कैरिबियन डॉलर
2 नौ हफ्ते की गिरावट के बाद फिर बढ़ने लगा संक्रमण: WHO Report; वैश्विक स्तर पर 30 लाख केस आए सामने
3 अफगानिस्तान में तालिबान के उभार से चीन को खतरा, चेतावनी में कहा- आतंकी संगठनों से पूरी तरह तोड़ें संबंध
ये पढ़ा क्या?
X