ताज़ा खबर
 

कोरोना पर मदद के बहाने भारत के तीन पड़ोसी देशों से चीन बढ़ा रहा नजदीकियां, पर पीएम मोदी ने तीन महीने में कर ली 40 देशों से बात

गुरुवार को ही भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी ने एक वर्चुअल समिट में ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मोरिसन से बात की। इस दौरान दोनों देशों के बीच अहम सामरिक, रणनीतिक समझौता भी हुआ है।

chinaचीन के राष्ट्रपति ने हाल के दिनों में भारत के तीन पड़ोसी देशों से बात की है।

भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी तनाव के बीच चीन की तरफ से कोरोना मदद के बहाने भारत के तीन पड़ोसी देशों के साथ नजदीकी बढ़ाने की कोशिश हो रही है। हालांकि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस मामले में चीन से काफी आगे हैं। दरअसल पीएम मोदी बीते तीन माह के दौरान 40 देशों के नेताओं से बात कर चुके हैं। बता दें कि चीन आज दुनिया में एक बड़ी ताकत बन चुका है और अब वह कूटनीतिक स्तर पर भी पूरे विश्व में अपना प्रभाव बढ़ाने में जुटा है। खासकर दक्षिण एशिया के देशों में चीन का प्रभाव खासा बढ़ा है।

चीन ने इस क्षेत्र में काफी निवेश किया है और भारत के पड़ोसी देशों श्रीलंका, पाकिस्तान, बांग्लादेश, म्यांमार, मालदीव आदि में काफी ढांचागत निवेश किया है। वहीं भारत की तरफ से भी चीन की इस रणनीति की काट ढूंढने की कोशिश की जा रही है। यही वजह है कि भारतीय नेतृत्व भी लगातार कूटनीतिक स्तर पर काफी सक्रिय है।

गुरुवार को ही भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी ने एक वर्चुअल समिट में ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मोरिसन से बात की। इस दौरान दोनों देशों के बीच अहम सामरिक, रणनीतिक समझौता भी हुआ है। जिसके तहत भारत और ऑस्ट्रेलिया अब एक दूसरे के मिलिट्री, एयरफोर्स, नेवी बेस को इस्तेमाल कर सकेंगे। दोनों देशों के बीच हुए इस समझौते से एशिया प्रशांत महासागर में चीन की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

कोरोना वायरस माहमारी के बीच भारतीय विदेश सचिव हर्ष श्रृंग्ला ने रुस के अपने समकक्ष से भी बात की है। विदेश मंत्रालय के अनुसार, पीएम मोदी ने 11 मार्च से अब तक 40 देशों के नेताओं से बात की है। इस दौरान भारत ने हिंद महासागर के देशों जैसे मालदीव, श्रीलंका, मॉरिशस, मेडागास्कर, सिसिली, कोमोरो आइलैंड और पाकिस्तान को छोड़कर सभी दक्षिण एशियाई देशों को दवाईयां भेजी हैं।

मार्च में पीएम मोदी ने सार्क देशों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक की थी। वहीं 23 मई को श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे और 25 मई को बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना से बात की थी। अप्रैल में पीएम मोदी ने नेपाल के पीएम केपी ओली और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी से भी बात की थी।

वहीं चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भारत के तीन पड़ोसी देशों बांग्लादेश, म्यांमार और श्रीलंका के राष्ट्राध्यक्षों से बात की है। चीनी विदेश मंत्रालय के बयान के अनुसार, चीनी राष्ट्रपति ने इन देशों के नेताओं के साथ कोरोना माहमारी के समय में एकजुटता दिखाई है और जल्द ही इन देशों में किए जा रहे विकास कार्यों का काम फिर से जल्द शुरू करने की बात कही है।

नेपाल में चीन के राजदूत होउ यांगी ने नेपाल के पीएम केपी ओली और नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी के दो अन्य नेताओं से बातचीत की। पाकिस्तान के साथ चीन के द्विपक्षीय संबंधों को 21 मई को 69 साल हो गए। इस दौरान चीन के पाकिस्तान में राजदूत याओ जिंग ने ट्वीट कर दोनों देशों के मजबूत संबंधों का हवाला दिया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भारत-चीन शांति से सीमा विवाद सुलझाने पर सहमत, नेपाल ने भेजा बातचीत का प्रस्ताव
2 तीन साल में चीनी सेना ने LAC पर पैंगॉन्ग झील के किनारे किए कई निर्माण, सैटेलाइट इमेज से खुलासा
3 Amnesty India के पूर्व प्रमुख की राय- भारत में भी हों US जैसे प्रदर्शन, पुलिस ने दंगा भड़काने के आरोप में दर्ज किया केस
यह पढ़ा क्या?
X