LAC पर चीन कर रहा जोरदार तैयारियां, अब मिसाइल रेजिमेंट की तैनाती में जुटा!

सूत्रों ने बताया कि चीनी सेना ने पूर्वी लद्दाख सेक्टर के सामने अक्साई चिन इलाके में नए हाईवे बनाना शुरू कर दिया है।

india china border tension
चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास मिसाइल और रॉकेट रेजिमेंट की तैनाती शुरू की (सोर्स- एक्सप्रेस आर्काइव)

पूर्वी लद्दाख में चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। चीन पूर्वी लद्दाख के पास नए हाईवे और सड़कों का काम तेजी से कर रहा है। साथ ही चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास मिसाइल और रॉकेट रेजिमेंट की तैनाती शुरू कर दी है। चीन की इन हरकतों पर भारत ने आपत्ति जाहिर की है।

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, सूत्रों ने बताया कि चीनी सेना ने पूर्वी लद्दाख सेक्टर के सामने अक्साई चिन इलाके में नए हाईवे बनाना शुरू कर दिया है। उनकी कनेक्टिविटी के साथ-साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा तक पहुंचने का रीएक्शन टाइम पहले से कहीं कम है।

सूत्रों के मुताबिक, सैन्य बुनियादी ढांचे का अपग्रेड बहुत महत्वपूर्ण रहा है क्योंकि चीन हाइवे को चौड़ा कर रहा है। साथ ही काशगर, गर गुनसा और होतान में चीन के ठिकानों के अलावा वह नई हवाई पट्टियों का निर्माण कर रहा है। चीनी सेना ने बड़ी संख्या में मिसाइल और रॉकेट रेजिमेंट की तैनाती बढ़ाई है, जिसे चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी द्वारा नियंत्रित किया जा रहा है. इसके अलावा सर्विलांस के लिए ड्रोन की संख्या भी बढ़ी है।

सूत्रों ने कहा कि चीनी सेना की तिब्बतियों की भर्ती करने और उन्हें मुख्य भूमि हान सैनिकों के साथ सीमा चौकियों पर तैनात करने का प्रयास भी रफ्तार पकड़ रहा है। चीन तिब्बत के लोगों को इस्तेमाल ज्यादा चुनौतीपूर्ण इलाके में करना चाहता है। चीन के मुख्य भूमि के सैनिकों के लिए यहां काम करना कठिन होता है। सूत्रों ने ये भी बताया कि पिछले साल सर्दियों की तुलना में, चीनी शेल्टर्स और सड़क कनेक्टिविटी बेहतर है।

भारत ने चीन के इन हरकतों पर आपत्ति जताई है। जानकारी के मुताबिक, भारत और चीन के बीच हालिया दौर की बातचीत के दौरान, भारत ने सीमा पर चीन के सैन्य निर्माण पर अपनी चिंता व्यक्त की थी।

बता दें कि भारत-चीन की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले साल मई के महीने में गतिरोध सामने आया था। तब गलवान घाटी में दोनों सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इसके बाद से लगातार दोनों देशों के बीच कई स्तर की बातचीत हो चुकी है लेकिन सीमा पर तनाव कम होता दिखाई नहीं दे रहा है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट