ताज़ा खबर
 

नाटक खेलने की सजा भुगत रहे शाहीन स्कूल के बच्चे- मां से दूर, बार- बार पुलिस पूछताछ

बच्चों का कसूर बस इतना था कि उन्होंने सीएए को लेकर एक नाटक का मंचन किया और इसके माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की गई थी।

नाटक में सीएए को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की गई थी। (Photo: ANI)

दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत में स्कूली बच्चों को एक नाटक की कीमत चुकानी पड़ रही है। उन्हें मां-बाप से दूर कर दिया गया है। पुलिस उनसे बार-बार पूछताछ कर रही है। बच्चों का कसूर बस इतना था कि उन्होंने सीएए को लेकर एक नाटक का मंचन किया और इसके माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की गई थी। मामला भाजपा शासित राज्य कर्नाटक के बिडार स्थित शाहीन प्राथमिक और उच्च विद्यालय स्कूल की है।

टेलिग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध में नाटक में शामिल होने वाले 10 साल के बच्ची की मां को गिरफ्तार कर लिया गया है। छठी क्लास में पढ़ने वाली इस बच्ची ने बताया, “यह बात एक बच्चा ही समझ सकता है कि मां के बिना जीना कितना असहनीय होता है।”

लड़की 31 जनवरी से अपने पड़ोसी के यहां रह रही है। उसी दिन उसकी विधवा मां को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उसने कहा, “मुझे नहीं पता कि मेरी मां को क्यों गिरफ्तार किया गया। मैं उसे जल्दी देखना चाहती हूं और अपने घर जाना चाहती हूं।”

इस मामले पर विद्यालय के सीईओ तौसीफ मदीकेरी ने कहा, “अभी तक करीब 80 छात्रों और कई शिक्षकों से पूछताछ की गई है। मुझे सच में नहीं पता कि वे एक ही सवाल बार-बार पूछकर क्या जानने की कोशिश कर रहे हैं।”

इस नाटक का मंचन बीते 21 जनवरी को किया गया था। इसके बाद से पुलिस इस नाटक में शामिल होने वाले सभी बच्चों से मिलकर पूछताछ कर रही है। साथ ही उन लोगों से भी सवाल किए जा रहे हैं जो नाटक देखने आए थे।

बता दें कि पूरे देश में सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। दिल्ली के शाहीनबाग में एक महीने से ज्यादा समय से महिलाएं धरने पर बैठी हुईं हैं। वे अपने छोटे-छोटे बच्चों को लेकर ठंड भरी रात प्रदर्शन स्थल के पास गुजार रही हैं। पिछले सप्ताह ठंड लगने की वजह से एक प्रदर्शनकारी महिला के चार माह के बच्चे की मौत हो गई थी। इसके अलावा उत्तर प्रदेश, बिहार सहित देश के अन्य हिस्सों में भी लगातार प्रदर्शन हो रहे हैं। भाजपा सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की जा रही है।

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X