बच्चों के वैक्सीनेशन को मिली मंजूरी, 2 से 18 साल के बच्चों को लगाई जाएगी कोवैक्सीन, सरकार ने दी मंजूरी

फिलहाल इसको शुरू होने में अभी एक महीना और लगेगा। सरकार की ओर से इसकी तैयारी शुरू हो गई है। सरकारी अस्पतालों में यह मुफ्त लगाई जाएगी।

Vaccination, Covaxine
सरकार ने बच्चों को भी कोविड से बचाव के लिए टीके लगवाने की अनुमति दी। (Source: Getty Images)

भारत सरकार ने एक महत्वपूर्ण फैसले में 2 से 18 साल तक के बच्चों को कोविड से बचाव के लिए कोवैक्सीन लगाने की अनुमति दे दी है। इससे अब बच्चों को भी वैक्सीन लगाने का रास्ता साफ हो गया है। इनको भी बड़ों की तरह ही दो शॉट में इंजेक्शन लगाया जाएगा। वैक्सीन का डोज भी उतना ही होगा। तीसरी लहर की आशंका में सरकार की कोशिश थी कि इसे जल्द से जल्द मंजूरी दी जाए। फिलहाल इसको शुरू होने में अभी एक महीना और लगेगा। सरकार की ओर से इसकी तैयारी शुरू हो गई है। सरकारी अस्पतालों में यह मुफ्त लगाई जाएगी। भारत बायोटेक ने अब तक ट्रायल में इसे पूरी तरह सुरक्षित पाया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि विषय विशेषज्ञ समिति ने राष्ट्रीय दवा नियामक से भारत बायोटेक की कोवैक्सिन को 2 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों को देने के लिए सिफारिश की है। सरकार का यह कदम बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि भारत 2 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए औपचारिक रूप से स्वीकृत कोविड -19 वैक्सीन से सिर्फ एक कदम दूर है। भारत के दवा नियामक ने पहले ही 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए जाइडस कैडिला के डीएनए कोविड -19 वैक्सीन को मंजूरी दे दी है।

भारत बायोटेक के कोवैक्सिन के संबंध में एसईसी की सिफारिश बाल चिकित्सा अध्ययन पर आधारित है, जो कि कोवैक्सिन की सुरक्षा, प्रतिक्रियात्मकता और प्रतिरक्षात्मकता का मूल्यांकन कर रही है। यह 2 वर्ष से अधिक आयु के स्वस्थ बच्चों में देश भर में छह स्थलों पर आयोजित किया जा रहा है।

भारत में बच्चों में जिस तीसरे टीके का परीक्षण किया जा रहा है, वह कोवावैक्स है जिसे पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित किया जाएगा।

नोवावैक्स के पुनः संयोजक नैनोपार्टिकल प्रोटीन-आधारित COVID-19 वैक्सीन – NVX-CoV2373 – का परीक्षण भारत में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) द्वारा Covavax के रूप में किया जा रहा है। ये परीक्षण देश भर में 23 स्थानों पर आयोजित किए जाएंगे।

भारत में बच्चों में जिस चौथे टीके का परीक्षण किया जा रहा है, वह हैदराबाद स्थित बायोलॉजिकल E’s Corbevax है। परीक्षण देश भर में दस स्थानों पर होने की उम्मीद है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट