ताज़ा खबर
 

छत्तीसगढ़: नक्सलियों ने अगवा कोबरा जवान को छोड़ा, किया पत्रकारों के हवाले

अपहृत कोबरा जवान राकेश्वर सिंह मनहास को नक्सलियों ने छोड़ दिया है। नक्सलियों के साथ मुठभेड़ के दौरान उनका अपहरण कर लिया गया था।

Rakeshwar singh cobra jawanसीआरपीएफ के जवान राकेश्वर सिंह मनहास।(क्रेडिट- इंडियन एक्सप्रेस)

अपहृत कोबरा जवान राकेश्वर सिंह मनहास को नक्सलियों ने छोड़ दिया है। नक्सलियों के साथ मुठभेड़ के दौरान उनका अपहरण कर लिया गया था। आज नक्सलियों ने उनको पांच दिन बाद रिहा कर दिया। पद्मश्री धर्मपाल सैनी, गोंडवाना समाज के नेता तेलम बोराये और हेमला सुखमती के साथ बीजापुर के चार पत्रकार गणेश मिश्रा, मुकेश चंद्राकर, रंजन दाश और चेतन कपावर जवान को थाने लेकर आए।

बता दें कि छत्तीसगढ़ में सुरक्षाकर्मियों के एक दल पर नक्सलियों ने घात लगाकर हमला किया था। कल नक्सल समूह ने एक प्रेस नोट जारी किया था। जिसमें अपहृत जवान की सुरक्षा का आश्वासन दिया था। नक्सलियों ने माना था कि सुरक्षाकर्मियों के साथ मुठभेड़ में उनके चार साथियों की जान गई है। इससे पहले नक्सलियों ने छत्तीसगढ़ सरकार से वादा किया कि वे जवान को रिहा करेंगे और रिहाई के लिए सरकार से मध्यस्थों के नाम मांगे थे। नक्सलियों ने दावा किया था कि उनकी हिरासत में सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह मनहास हैं और वह सुरक्षित और स्वस्थ हैं।

नक्सलियों ने कहा था कि जब सरकार उनकी रिहाई के लिए बातचीत के लिए पार्टी भेजेगी तो वे जवान को रिहा कर देंगे।नक्सलियों ने अपने चार साथियों की मौत की बात भी स्वीकार की और सैनिकों से लूटे गए हथियारों की तस्वीरें जारी कीं। इस बीच, अपहृत जवान की पत्नी और बेटी ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी किया था जिसमें राज्य और केंद्र सरकार से मनहास की सुरक्षित वापसी की अपील की थी।

बता दें कि छत्तीसगढ़ के जोनागुड़ा गाँव के पास नक्सलियों ने घात लगाकर हमला किया था। सुकमा-बीजापुर सीमा पर सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में 31 जवान घायल हो गए थे और 22 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए थे। मामले पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि नक्सलियों के खिलाफ अभियान जारी रहेगा और नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में शिविर लगाने का काम तेजी से पूरा होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा, “हमारे जवान लड़ाई में शहीद हो गए, लेकिन उन्होंने हिम्मत से लड़ाई लड़ी। मैं उनकी शहादत को नमन करता हूं।” उन्होंने कहा कि सुरक्षा बल अत्यधिक प्रेरित थे और नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई जीतने के लिए दृढ़ थे।

Next Stories
1 अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर कांग्रेस का सरकार पर तंज- बोले संबित- महादेव इन्हें और आजादी दो, कांग्रेसी सड़क पर फोड़ते दिखें एक दूसरे का सिर
2 भाजपा के लिए हिमाचल से बुरी खबर, स्थानीय निकाय के चुनाव में चार में से दो सीटों पर हार
3 फिल्ममेकर संतोष गुप्ता की पत्नी ने खुद को लगाई आग, बेटी ने भी कर ली खुदकुशी
ये पढ़ा क्या?
X