scorecardresearch

कपिल सिब्बल ने भी छोड़ी कांग्रेस: जानें बीते पांच महीने कौन-कौन से पांच बड़े चेहरे कह गए पार्टी को बाय

एक के बाद एक कद्दावर नेताओं के इस्तीफे ने कांग्रेस को बड़ा झटका दिया है। अब कपिल सिब्बल भी कांग्रेस का हाथ छोड़ समाजवादी पार्टी की साइकिल पर सवार हो गए हैं। पार्टी का मजबूत स्तंभ रहे कपिल सिब्बल का जाना कांग्रेस के लिए बड़ा झटका है।

Kapil Sibal|Congress|Samajwadi Party
वकील और नेता कपिल सिब्बल (Express file photo by Renuka Puri)

कांग्रेस को अलविदा कहने वाले पार्टी के दिग्गज नेताओं में अब कपिल सिब्बल का भी नाम जुड़ गया है। उन्होंने सपा के समर्थन से राज्यसभा जाने का फैसला किया है। कपिल सिब्बल समेत एक के बाद एक कई नेताओं का जाना पार्टी के लिए बहुत बड़ा झटका है। आईए जानते हैं पिछले पांच महीनों में कौन-कौन से बड़े चेहरों ने पार्टी को कर दिया टाटा बाय-बाय..

कपिल सिब्बल
कपिल सिब्बल के पिछले कुछ समय से पार्टी आलाकमान के साथ रिश्ते काफी खराब चल रहे थे। उन्होंने कई बार पार्टी नेतृत्व को लेकर भी सवाल उठाए। उदयपुर में हुए कांग्रेस के चिंतन शिविर के बाद लगा था कि रिश्ते बेहतर होंगे, लेकिन सिब्बल और कांग्रेस के बीच की कमजोर डोर टूट गई। सिब्बल “जी -23” के एक प्रमुख सदस्य थे और वे लगातार पार्टी की स्थिति को सुधारने और नेतृत्व को लेकर आवाज उठाते रहे। आखिरकार, एक लंबा सफर तय करने के बाद उन्होंने पार्टी को अलविदा कह दिया, जो कभी कांग्रेस का मजबूत स्तंभ हुआ करते थे।

सुनील जाखड़
कांग्रेस की पंजाब इकाई के पूर्व प्रमुख सुनील जाखड़ ने कांग्रेस छोड़ने से पहले फेसबुक लाइव आकर इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि पार्टी हाईकमान चापलूसों और चुगलखोरों से घिरा हुआ है। जाखड़ ने एक तीखे संदेश में कहा था कि शीर्ष नेताओं को दोस्तों और दुश्मनों की पहचान करने की जरूरत है। कांग्रेस से इस्तीफे के बाद वे भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं।

हार्दिक पटेल
गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले हार्दिक पटेल ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया। चुनाव से पहले पटेल का चले जाना पार्टी के लिए बड़ा झटका है। पार्टी छोड़ते वक्त उन्होंने राज्य में पार्टी नेतृत्व और राहुल गांधी को लेकर निशाना साधते हुए कहा था कि जब वे उनसे मिले तो शीर्ष नेता मोबाइल फोन में ज्यादा व्यस्त थे। उन्होंने यह भी कहा था कि वे गुजरात कांग्रेस के मुद्दों से ज्यादा उनका ध्यान चिकन सैंडविच पर था। इससे पहले भी हार्दिक पटेल ने उन्हें पार्टी के भीतर दरकिनार करने की बात कही थी।

अश्विनी कुमार
पूर्व कानून मंत्री ने चार दशक के जुड़ाव के बाद फरवरी में कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। सोनिया गांधी को लिखे अपने त्याग पत्र में उन्होंने कहा कि यह कदम “मेरी गरिमा के अनुरूप है”।

आरपीएन सिंह
पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हो गए। मीडिया से बात करते हुए, उन्होंने कहा कि वह 32 साल से कांग्रेस में थे लेकिन “पार्टी अब वह नहीं रही जो पहले हुआ करती थी”।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट