ताज़ा खबर
 

जकात की रकम से आतंकवाद के आरोपी मुसलमानों का केस लड़ने की कवायद कर रहा जमीयत उलेमा ए हिंद

एक मुस्लिम जो कि 75 ग्राम सोना रखता है और उस पर किसी तरह का कोई कर्ज नहीं है तो उसे अपने कुल आय, सेविंग और पॉपर्टी का 2.5 फीसदी जकात के रूप में देना होता है।

Author June 7, 2016 10:18 AM
पेरिस में हुए आतंकी हमले के बाद नई दिल्ली में आतंकी संगठन आईएसआईएस का विरोध करते मुस्लिम समुदाय के लोग। (Photo Source: AP)

इस्लामिक संस्था जमीयत उलेमा ए हिंद ने फैसला किया है कि वह जकात की रकम से आतंक के आरोपी मुसलमानों का केस लड़ेगी। जकात की रकम हर मुस्लिम को सालाना तौर पर अपनी इंकम का 2.5 फीसदी हिस्सा देना होता है। जमीयत उलेमा ए हिंद आतंक के आरोप में बंद मुस्लिम युवाओं के केस लड़ती भी रही है। अब इस संस्थान ने मुस्लिमों से अपील की है कि वे जकात आतंक के आरोप में बंद मुस्लिमों के केस लड़ने के लिए दें। जकात इस्लामिक धर्म का पांचवां मुख्य कर्तव्य है, जो कि रमजान के दौरान इकट्ठा और बांटा जाता है।

Read Also: देवी काली पर अश्‍लील पोस्‍ट करने के आरोपी मुस्लिम युवकों पर रासुका लगाया

जमीयत उलेमा ए हिंद की लीगल सेल के हेड गुलजार आजमी ने बताया, ‘कुरान और हदीस में जकात के इस्तेमाल के आठ तरीके बताए हैं। एक तरीका कि कैद में बंद लोगों की मदद करना भी है। आज के वक्त गरीब मुस्लिम आतंक के मामलों में जेल में बंद हैं। हम ऐसे लोगों के लिए लड़ने के लिए मुस्लिमों से मदद मांग रहे हैं। हम पहले जकात फंड की मेडिकल और एजुकेशन के लिए खर्ज करते थे।’

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback
  • I Kall Black 4G K3 with Waterproof Bluetooth Speaker 8GB
    ₹ 4099 MRP ₹ 5999 -32%
    ₹0 Cashback

पिछले साल संस्था ने दो करोड़ रुपए 410 मुस्लिमों का केस लड़ने में खर्च किए थे, ये सभी 52 आतंक के मामलों के आरोप में जेल में बंद थे। इनमें से 108 लोगों के खिलाफ आरोप हटा लिए गए थे।

Read Also: घर छिन जाने के बाद कब्रिस्तान में रहने को मजबूर हैं 25 मुस्लिम महिलाएं, हिंदुओं ने किया था बसाने का विरोध

मुस्लिम प्रोफेशनल फंड द्वारा किए गए एक विश्लेषण के मुताबिक अगर भारत के 17.8 करोड़ मुस्लिमों में से 10 फीदसी भी जकात देते हैं तो वह योगदान 7500 करोड़ रुपए हो जाएगा।

एक मुस्लिम जो कि 75 ग्राम सोना रखता है और उस पर किसी तरह का कोई कर्ज नहीं है तो उसे अपने कुल आय, सेविंग और पॉपर्टी का 2.5 फीसदी जकात के रूप में देना होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App