ताज़ा खबर
 

चंद्रयान-2 की लैंडिंग दिखा पस्त अर्थव्यवस्था से ध्यान हटाना चाहते हैं PM नरेंद्र मोदी, असेंबली में बोलीं ममता बनर्जी

प.बंगाल की सीएम की यह टिप्पणी तब आई है, जब देश की जीडीपी दर अप्रैल-जून की तिमाही में 5.8 फीसदी से खिसक कर पांच प्रतिशत पर आ गई थी।

Author नई दिल्ली | Updated: September 6, 2019 6:08 PM
प.बंगाल सीएम ने यह भी आरोप लगाया कि लोकतंत्र के सभी स्तंभों इस वक्त देश में सरकार (मोदी के नेतृत्व वाली) द्वारा चलाए जा रहे हैं। (फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) चीफ ममता बनर्जी ने देश की पस्त अर्थव्यवस्था को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और एनडीए सरकार को घेरा है। शुक्रवार (छह सितंबर, 2019) को उन्होंने प.बंगाल विधानसभा में एनआरसी के खिलाफ एक संकल्प पत्र पर चर्चा के दौरान कहा कि चंद्रयान-2 की लैंडिंग दिखाकर पीएम मोदी खराब अर्थव्यवस्था से देश का ध्यान भटकाना चाहते हैं। बता दें कि प.बंगाल की सीएम की यह टिप्पणी तब आई है, जब देश की जीडीपी दर अप्रैल-जून की तिमाही में 5.8 फीसदी से खिसक कर पांच प्रतिशत पर आ गई थी।

उन्होंने कहा, “ऐसा लग रहा है कि चंद्रयान की लॉन्चिंग देश की ओर से पहली बार हो रही हो। ऐस लग रहा है कि इनके सत्ता में आने से पहले कभी कोई स्पेश मिशन हुआ ही नहीं। यह सब आर्थिक तबाही (इकनॉमिक डिजास्टर) से ध्यान भटकाने के लिए किया जा रहा है।” संकल्प-पत्र का जिक्र करते हुए वह बोलीं- जिसने-जिसने इसका समर्थन किया, उसे धन्यवाद देती हूं। उम्मीद है कि एक दिन उन्हें समझ आएगा कि आखिर देश के प्रमुख संस्थानों को किसने बर्बाद किया। यह राजनीतिक प्रतिशोध है।

बकौल दीदी, “लोकतंत्र के सभी स्तंभ (मीडिया और न्यायपालिका आदि) इस वक्त केंद्र द्वारा चलाए जा रहे हैं। एनआरसी लिस्ट (असम में) से वास्तविक तौर पर भारतीय लोगों के नाम भी बाहर कर दिए गए। मैं फिर से डॉ.मनमोहन सिंह (पूर्व पीएम और अर्थशास्त्री) के शब्द दोहराती हूं कि केंद्र राजनीतिक प्रतिशोध के बजाय अर्थव्यवस्था पर ध्यान दे। वे (मोदी सरकार) एयर इंडिया, बैंकों और रेल को ‘बेच’ रहे हैं।”

सीनियर कांग्रेसी नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम की गिरफ्तारी पर सीएम ने बताया, “अचानक से सभी नेता चोर बना दिए गए। चिदंबरम को तिहाड़ जेल भेज दिया गया। आखिर यह सब चल क्या रहा है? लोगों ने आपातकाल के लिए तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी की आलोचना की थी, पर मुझे समझ में नहीं आ रहा कि आखिरकार मौजूदा परिस्थितियों को मैं क्या नाम दूं? क्या यह फासीवाद का आपातकाल है?”

चंद्रयान-2, चांद से जुड़े अनसुलझे रहस्य उजागर करेगा। मिशन के तहत शनिवार तड़के विक्रम लैंडर की सफल ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ के बाद भारत यह उपलब्धि हासिल करने वाला चौथा देश बन जाएगा, जबकि इंडिया से पहले यह काम अमेरिका, रूस और चीन कर चुके हैं। इसरो के इस मिशन के साथ ही भारत पहला ऐसा देश बनेगा, जो चांद के ल्यूनर साउथ पोल पर कदम रखेगा। अभी तक वहां कोई भी देश नहीं पहुंच सका है। इससे पहले, चंद्रयान-1 देश का पहला मून मिशन था, जो कुल 312 दिनों (2009 में)तक चला था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मैग्सेसे पुरस्कार लेने के बाद सवाल-जवाब में बोले रवीश कुमार- प्रोपगैंडा डिलीवरी ब्वॉय बन गए हैं न्यूज एंकर
2 जेएनयू की पूर्व छात्रा शेहला राशिद के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज, सेना पर लगाए थे झूठे आरोप
3 ‘हो चुका है विचार, देंगे उखाड़’: जेडीयू का पलटवार- ‘क्यों करें विचार ठीके तो है नीतीश कुमार’, बिहार में जारी पोस्टर वार