ताज़ा खबर
 

Chandrayaan 2 Today Updates: ISRO की बड़ी कामयाबी, चांद की कक्षा में सफलतापूर्वक दाखिल हुआ Chandrayaan-2, लैंडिंग के लिए अब बस कुछ दिनों का इंतजार

Chandrayaan 2 Today Status Updates, Chandrayaan 2 Current Status Today News: Chandrayaan-2 का चांद तक का बड़ा सफर अब तय हो चुका है। कुछ ही दिनों बाद यह यान चांद की धरती पर उतरेगा। इसके साथ ही भारत ऐसा करने वाले कुछ चुनिंदा देशों यानी अमेरिका, रूस और चीन की श्रेणी में शुमार हो जाएगा।

Author नई दिल्ली | Updated: Aug 20, 2019 15:37 pm
चंद्रयान-2 बीती 22 जुलाई को लॉन्च किया गया था। (फाइल फोटो)

Chandrayaan 2 Today Updates: चांद के लिए भारत के दूसरे अंतरिक्ष अभियान के तहत भेजा गया Chandrayaan-2 मंगलवार (20 अगस्त) को चांद की कक्षा में दाखिल हो गया। चंद्रयान-2’ को चंद्रमा की कक्षा में स्थापित करने के लिए ‘लूनर ऑर्बिट इन्सर्शन’ (एलओआई) प्रक्रिया सुबह नौ बजकर दो मिनट पर सफलतापूर्वक पूरी हुई। प्रणोदन प्रणाली के जरिए इसे संपन्न किया गया। भारतीय अंतरिक्ष संगठन के चीफ के सिवन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस बारे में विस्तार से जानकारी दी।

Chandrayaan-2 का चांद तक का बड़ा सफर अब तय हो चुका है। कुछ ही दिनों बाद यह यान चांद की सतह पर उतरेगा। इसके साथ ही भारत ऐसा करने वाले कुछ चुनिंदा देशों यानी अमेरिका, रूस और चीन की श्रेणी में शुमार हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट पर सरकार का खर्च करीब 978 करोड़ रुपये आया है। इससे पहले, 2008 में भी इसरो ने चंद्रयान 1 मिशन को कामयाब बनाया था। उस वकत चंद्रमा की परिक्रमा करने के लिए इस यान को भेजा गया था।

Live Blog

Highlights

    14:51 (IST)20 Aug 2019
    7 सितंबर की लैंडिंग होगी बेहद तनावपूर्णः इसरो चीफ

    सिवन ने कहा कि सात सितंबर को चंद्रमा की सतह पर ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ कराने की प्रक्रिया के दौरान स्थिति काफी अलग और तनाव भरी होगी क्योंकि इसरो ने ऐसा पहले कभी नहीं किया है। उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ अभी तनाव बढ़ा है, कम नहीं हुआ है।’’

    14:48 (IST)20 Aug 2019
    इसरो चीफ बोले- हमारे दिल की धड़कनें थम सी गई थीं

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने कहा कि मंगलवार को ‘चंद्रयान-2’ को चंद्रमा की कक्षा में स्थापित करते समय ‘‘हमारे दिल की धड़कनें लगभग थम सी गई थीं।’’ सिवन ने कहा कि इसरो के वैज्ञानिकों ने जब ‘चंद्रयान-2’ को चंद्रमा की कक्षा में स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू की तब ‘‘हमारी धड़कनें तेज हो गई थीं।’’

    12:13 (IST)20 Aug 2019
    इसरो चीफ बोले- 2 सितंबर का दिन होगा अहम

    इसरो चीफ के शिवन ने बताया कि चंद्रयान-2 मिशन की सफलता के लिए 2 सितंबर का दिन काफी अहम होगा, क्योंकि इस दिन लैंडर ऑर्बिटर से अलग होगा।

    11:25 (IST)20 Aug 2019
    किसी और देश ने नहीं की यह हिम्मत

    चंद्रयान-2 अभियान की सबसे खास बात यह है कि इसके लैंडर और रोवर सत्तर डिग्री के अक्षांश पर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर जा रहे हैं। अब तक किसी और देश ने चंद्रमा के इस क्षेत्र में जाने की हिम्मत नहीं की है। इस यान की एक खासियत यह है कि इसके ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर भारत में ही निर्मित हैं। इसरो के मुताबिक इस यान के जरिए वहां की चट्टानों को देख कर मैग्निशियम, कैल्शियम और लोहे जैसे खनिज को खोजने की कोशिश की जाएगी। इसके अलावा, वहां पानी होने के संकेत की तलाश और चांद की बाहरी परत की जांच की जाएगी।

    11:21 (IST)20 Aug 2019
    आगे क्या होगा

    यदि सब कुछ ठीक रहा तो चंद्रयान-2 का लैंडर चंद्रमा के साउथ पोल एटकिन बेसिन पर उतरेगा। इसके बाद लैंडर विक्रम रोवर प्रज्ञान को आगे बढ़ने की राह प्रशस्त करेगा। रोवर बहुत धीरे-धीरे चंद्रमा की सतह पर गति करेगा। यह गति 1 सेमी/सेकंड होगी। लैंडर और रोवर दोनों पर एनर्जी जेनरेट करने के लिए सोलर पैनल लगे हैं। रोवर को चंद्रमा पर 14 दिन रह कर प्रयोग करना है। इसकी इलेक्ट्रिक पावर जेनरेट करने की क्षमता 50 वॉट है।

    10:41 (IST)20 Aug 2019
    क्या है पूरा मिशन

    चंद्रयान-2 भारत का एक अत्यंत ही महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट है। इसके तहत भारत चांद की उन बारीकियों की जानकारी एकत्रित करना चाहता है जिसके बारे में अभी सिर्फ कयास ही लगाए जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि यह मिशन पूरे सौर मंडल के विकास को समझने में हमारी मदद कर सकता है। चंद्रमा 3.5 अरब वर्ष पुराना है लेकिन आखिर चंद्रमा कैसे अस्तित्व में आया इसके पीछे क्या थ्योरी रही होगी ये इस मिशन के जरिए इन जानकारियों को पाने के लिए एक कदम बढ़ाया जा रहा है।

    10:41 (IST)20 Aug 2019
    पहली बार चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा कोई यान

    इसरो का चंद्रयान-2 पहला यान होगा, जो कि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। अभी तक चांद का यह क्षेत्र विज्ञान के लिए अंजान रहा है। ऐसे में चंद्रयान-2 से काफी उम्मीदे लगायी जा रही हैं।

    Next Stories
    1 बंगाल: 400 लोगों के लिए बस दो टॉयलेट! ममता बनर्जी ने अपने ही मंत्री को लगाई फटकार
    2 ‘एक भारतीय के तौर पर गर्व नहीं कि…’, Article 370 पर मोदी सरकार के फैसले पर भड़के नोबल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन
    3 आतिश तासीर का ट्वीट- “ग़ज़नी के बाद से किसी ने इतने मंदिर नहीं तोड़े, जितने मोदी ने तुड़वा दिए”