Chandrayaan-2 Moon Landing: ISRO चीफ बोले- विक्रम लैंडर से दोबारा संपर्क बनाने के लिए प्रयास जारी, 14 दिन तक करेंगे इंतजार

Chandrayaan-2 Moon Landing: चंद्रमा के साउथ पोल पर लैंडिंग से पहले लैंडर ‘विक्रम’ ने ‘रफ ब्रेक्रिंग’ और ‘फाइन ब्रेकिंग’ चरणों को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया था लेकिन ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ से पहले इसका संपर्क धरती पर मौजूद स्टेशन से टूट गया।

chandrayaan 2, chandrayaan 2 landing, chandrayaan 2 moon landing,Chandrayaan-2 Moon Landing:अंतिम समय में विक्रम का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटा (Image source: ISRO)

Chandrayaan-2 Moon Landing: ‘चंद्रयान-2’ के लैंडर ‘विक्रम’ का तड़के चांद पर उतरते समय इसरो से संपर्क टूट गया। इसरो चीफ के सिवन ने कहा है कि चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर 7 साल तक काम कर सकता है। जबकि पूर्व में इसके जीवनकाल को एक वर्ष रखने की योजना थी।
विक्रम लैंडर से दोबारा संपर्क बनाने के लिए प्रयास जारी है। हम इसके लिए लगातार 14 दिन तक प्रयास करेंगे। सिवान ने कहा कि मिशन के लक्ष्यों को 90 से 95 फीसद तक हासिल किया जा चुका है और लैंडर से संपर्क टूटने के बावजूद इससे चंद्र विज्ञान में योगदान जारी रहेगा।

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चंद्रयान-2 की यात्रा शानदार और जानदार रही। उन्होंने कहा कि इसरो कभी हार नहीं मानता। पीएम मोदी शनिवार को इसरो सेंटर में इसरो वैज्ञानिकों के साथ ही पूरे राष्ट्र को संबोधित कर रहे थे। पीएम ने कहा कि देश के वैज्ञानिकों ने इस मिशन के लिए खूब मेहनत की है। पीएम ने इस बाधा से निराश नहीं होने की बात कही।

पीएम मोदी ने कहा कि आज पूरा देश इसरो के वैज्ञानिकों के साथ खड़ा है। उन्होंने कहा कि इसरो कभी न हार मानने वाली संस्था है। इससे पहले चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का चांद के दक्षिणी धुव्र पर सॉफ्ट लैंडिंग से महज 2.1 किलोमीटर की दूरी से पहले कंट्रोल रूम से संपर्क टूट गया। इसरो के प्रमुख के. सिवन ने लैंडर विक्रम के कंट्रोल रूम से संपर्क टूटने की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि डाटा का अध्ययन किया जा रहा है।

इसरो के एक वैज्ञानिक ने बताया कि लैंडर का संपर्क टूटने से महज 5 फीसदी का ही नुकसान हुआ है। चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अभी भी चंद्रमा के चक्कर काट रहा है। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लैंडर विक्रम का संपर्क टूट जाने के बाद शनिवार रात को इसरो के वैज्ञानिकों से कहा कि देश को आप पर गर्व है। सर्वश्रेष्ठ के लिए उम्मीद करें। हौसला रखें। जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है।

क्या है Chandrayaan-2? जानें ISRO के इस मिशन के बारे में सबकुछ

ऐसा क्या है चंद्रयान-2 में, जो दुनिया भर की टिकी हैं इस पर निगाहें; भारत को क्या होगा फायदा

 

Live Blog

Highlights

    21:51 (IST)07 Sep 2019
    कांग्रेस नेता उदित राज ने 'वैज्ञानिकों के पूजा-पाठ' पर उठाए सवाल

    चंद्रयान-2 के लैंडर ‘विक्रम’ का चांद पर उतरते समय जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटने के बाद कांग्रेस के शीर्ष नेताओं ने इसरो वैज्ञानिकों की हौसला अफजाई की, लेकिन पार्टी नेता उदित राज ने ''वैज्ञानिकों के पूजा-पाठ'' पर सवाल उठाकर एक विवाद को जन्म दे दिया। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''हमारे वैज्ञानिकों ने अगर नारियल फोड़ने और पूजा पाठ में विश्वास के बजाय वैज्ञानिक शक्ति और आधार पर विश्वास किया होता तो अब तक मिली आंशिक असफलता का मुंह ना देखना पड़ता।''

    20:46 (IST)07 Sep 2019
    विक्रम लैंडर से दोबारा संपर्क बनाने के प्रयास जारी: सिवन

    इसरो चीफ के. सिवन ने कहा है कि चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर 7.5 साल तक काम कर सकता है। विक्रम लैंडर से दोबारा संपर्क बनाने के लिए प्रयास जारी है। चंद्रयान मिशन 95 फीसदी सफल है।

    20:14 (IST)07 Sep 2019
    मिशन से 90 से 95 प्रतिशत उद्देश्य पूरे: ISRO

    चंद्रयान 2 मिशन पर इसरो ने कहा है कि 'इस मिशन से अभी तक 90 से 95 प्रतिशत उद्देश्यों को पूरा किया जा चुका है। हमें जो जानाकारियां हासिल हुई हैं वो चांद से संबंधित विज्ञान को समझने में मदद करेगी। संगठन ने हर चरण के लिए सफलता का मानक पहले से ही तय किया हुआ था।'

    19:52 (IST)07 Sep 2019
    शाहरुख बोले- इसरो पर हमें गर्व है

    ‘चंद्रयान-2’ के लैंडर ‘विक्रम’ का तड़के चांद पर उतरते समय इसरो से संपर्क टूट गया। इस मिशन पर बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान ने प्रतिक्रिया दी है। शाहरुख ने ट्वीट किया, ‘‘कई बार हम जिस मंजिल पर पहुंचना चाहते हैं वहां नहीं पहुंच पाते हैं। महत्त्वपूर्ण यह है कि हमने मंजिल की तरफ बढ़ना शुरू किया और उम्मीदों तथा भरोसे को कायम रखा। हमारी मौजूदा स्थिति कभी भी हमारी अंतिम मंजिल नहीं होती। वह हमेशा समय और विश्वास के साथ आती है। इसरो पर हमें गर्व है।’’

    18:59 (IST)07 Sep 2019
    चंद्रयान-2 पर विदेशी मीडिया ने दी मिली-जुली प्रतिक्रिया

    चंद्रमा के अनछुए दक्षिणी ध्रुव पर रोवर की ‘सॉफ्ट लैंडिंग' कराने का भारत का ऐतिहासिक मिशन भले ही अधूरा रह गया हो लेकिन उसके इंजीनियरिंग कौशल और बढ़ती आकांक्षाओं ने अंतरिक्ष महाशक्ति बनने के उसके प्रयास को गति दी है । दुनिया भर की मीडिया ने शनिवार को यह टिप्पणी की। न्यूयॉर्क टाइम्स, द वॉंशिंगटन पोस्ट, बीबीसी और द गार्डियन समेत अन्य कई प्रमुख विदेशी मीडिया संगठनों ने भारत के ऐतिहासिक चंद्रमा मिशन ‘चंद्रयान-2’ पर खबरें प्रकाशित एवं प्रसारित कीं। अमेरिकी पत्रिका ‘वायर्ड’ ने कहा कि चंद्रयान-2 कार्यक्रम भारत का अब तक का ‘सबसे महत्त्वकांक्षी’ अंतरिक्ष मिशन था।पत्रिका ने कहा, ‘‘चंद्रमा की सतह तक ले जाए जा रहे विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर से संपर्क टूटना भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक बड़ा झटका होगा..लेकिन मिशन के लिए सबकुछ खत्म नहीं हुआ है।’’ न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत की ‘‘इंजीनियंरिंग शूरता और दशकों से किए जा रहे अंतरिक्ष कार्यक्रमों के विकास’’ की सराहना की।

    17:59 (IST)07 Sep 2019
    विराट कोहली ने इसरो को सलाम किया

    ‘चंद्रयान-2’ के लैंडर ‘विक्रम’ के चंद्रमा की सतह पर पहुंचने से कुछ ही मिनटों पहले उससे संपर्क टूट जाने के बाद खेल जगत ने शनिवार को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान (इसरो) के वैज्ञानिकों की तारीफ करते हुए अगली बार मजबूती से वापसी करने को कहा। क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने ट्वीट किया, ‘‘ विज्ञान में असफलता जैसा कुछ नहीं है, हम प्रयोग करते हैं और हमें फायदा होता है। इसरो में वैज्ञानिकों के लिए बहुत सम्मान जिन्होंने दिन-रात लगातार काम किया। राष्ट्र को आप पर गर्व है, जय हिंद।’’

    17:26 (IST)07 Sep 2019
    सफलता जरूर मिलेगी: सोनिया

    चंद्रयान -2 के लैंडर ‘विक्रम’ का चांद पर उतरते समय जमीनी स्टेशन से संपर्क टूटने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को कहा कि यह सफर थोड़ा लंबा जरूर हुआ है लेकिन आने वाले कल में सफलता जरूर मिलेगी। सोनिया ने एक बयान में इसरो के वैज्ञानिकों के उल्लेखनीय प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा, ''''हम इसरो और इससे जुड़े पुरुषों एवं महिलाओं के ऋणी हैं। उनकी कड़ी मेहनत और समर्पण ने भारत को अंतरिक्ष की दुनिया में अग्रणी देशों की कतार में शामिल कर दिया है और आगे की पीढ़ियों को प्रेरित किया है कि वे सितारों तक पहुंचे। मुझे कोई संदेह नहीं है कि हम वहां पहुंचेंगे, भले ही आज नहीं पहुंच पाए, लेकिन कल हम जरूर पहुंचेंगे।''

    16:49 (IST)07 Sep 2019
    मिशन अभी खत्म नहीं हुआ!

    मिशन अभी खत्म नहीं हुआ है। इसके पीछे एक वजह है 'ऑर्बिटर। 'चांद की कक्षा में पहुंचने के बाद ऑर्बिटर अभी भी पूरी तरह 'फिट' है। यह ऑर्बिटर एक साल तक काम करेगा। इसका मुख्य उद्देश्य पृथ्वी और लैंडर के बीच संपर्क करना है। ऑर्बिटर चांद की सतह का नक्शा तैयार करेगा, ताकि चांद के अस्तित्व और विकास का पता लगाया जा सके। इसके साथ ही इमेजिंग आइआरएस स्पेक्ट्रोमीटर की मदद से वहां मौजूद पानी और अन्य तत्वों का पता लगा सकता है। ऑर्बिटर चंद्रमा की कई तस्वीरें लेकर इसरो को भेज सकता है। जो वहां की बारीकियों को समझने में मददगार साबित हो सकती हैं।

    16:21 (IST)07 Sep 2019
    पूरे देश को वैज्ञानिकों के प्रयासों पर गर्व: नीतीश

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसरो के वैज्ञानिकों पर गर्व जताया है। उन्होंने चंद्रयान-2 के लिए इसरो के वैज्ञानिकों की प्रशंसा की और कहा कि पूरे देश को उनके प्रयासों पर गर्व है।

    15:47 (IST)07 Sep 2019
    हमें अपने वैज्ञानिकों पर बहुत गर्व: सीएम योगी

    चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम के चंद्रमा की सतह पर पहुंचने से कुछ ही मिनटों पहले उससे जमीनी संपर्क टूट जाने के बाद उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें वैज्ञानिकों पर गर्व है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया, ‘‘हमें अपने वैज्ञानिकों पर बहुत गर्व है। वे अपनी दूरदृष्टि, प्रतिबद्धता और लगन के साथ हमारे लिए चिरस्थायी प्रेरणा के स्रोत रहे हैं।’’

    15:36 (IST)07 Sep 2019
    मॉरिशस के पीएम ने दी इसरो को बधाई

    चंद्रयान-2 के चंद्रमा के इतने करीब पहुंचने के लिए मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ ने भारत के साथ ही इसरो की टीम को उनके प्रयास के लिए बधाई दी।

    12:38 (IST)07 Sep 2019
    चांद पर पहुंचने का सपना पूरा हो कर रहेगाः मोदी

    पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि चंद्रयान के साथ भेजा गया ऑर्बिटर अभी चांद के चक्कर लगा रहा है। पीएम ने कहा कि चांद पर पहुंचने का हमारा सपना जरूर पूरा होकर रहेगा। पीएम मुंबई में मेट्रो की तीन नई लाइनों का  उद्घाटन करने पहुंचे। इससे पहले पीएम मोदी ने यहां गणेश पूजा की।

    12:04 (IST)07 Sep 2019
    ऑर्बिटर के जरिये लैंडर का पता लगाएंगेः इसरो

    ऑर्बिटर के जरिये लैंडर विक्रम का पता लगाएंगे। अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि इसरो की टीम लैंडर विक्रम से संपर्क टूटने के कारणों का पता लगा रही है। इसरो ने कहा कि लैंडर विक्रम के बारे में अभी कोई खबर नहीं है।

    11:28 (IST)07 Sep 2019
    वैज्ञानिक निराश और हताश कतई ना होंः मायावती

    बसपा प्रमुख ने चंद्रयान-2 मिशन से जुड़े इसरो के वैज्ञानिकों का हौंसला बढाया। मायावती ने ट्वीट में कहा कि  चाँद पर कदम रखने के लिए चन्द्रयान-2 मिशन ने समस्त भारतीय जनमानस को रोमांचित किया है। इस सम्बंध में भारतीय वैज्ञानिकों खासकर ’इसरो’ के वैज्ञानिकों ने अबतक जो भी सफलता प्राप्त की है वह गर्व करने लायक है व उसकी सराहना की जानी चाहिए। साथ ही, आगे बढ़ते रहने के लिए यह जरूरी है कि निराशा, हताशा व दुःखी कतई न हों और यह भी याद रहे कि ’गिरते हैं शहसवार मैदान-ए-जंग में, वह तिफ्ल (बच्चा) क्या गिरे जो घुटनों के बल चले’। वैज्ञनिकों को देशहित में काम करते रहने के लिए उनके हौंसले बढ़ाते रहने की जरूरत है।

    11:07 (IST)07 Sep 2019
    चंद्रयान की बात पर भावुक हुए भाजपा नेता

    चंद्रयान के बारे में बात करते हुए उत्तर प्रदेश के मंत्री और भाजपा नेता मोहसिन रजा भावुक हो गए। रजा ने लैंडर विक्रम से इसरो कंट्रोल रूम से संपर्क टूटने का जिक्र भी किया। उन्होंने भारतीय वैज्ञानिकों के काम की सराहना की।

    10:53 (IST)07 Sep 2019
    राजनेताओं ने बढ़ाया इसरो वैज्ञानिकों का हौंसला

    केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी इसरो वैज्ञानिकों से कहा कि वे निराश न हों और उनकी उपलब्धियों पर देश को गर्व है।

    10:12 (IST)07 Sep 2019
    इसरो का समर्पण हम सब के लिए प्रेरणाः अहमद पटेल

    वरिष्ठ कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने ट्वीट किया कि इसरो की टीम का समर्पण और कठिन परिश्रम ‘‘हम सभी के लिए एक प्रेरणा है।’’ ‘चंद्रयान-2’ के लैंडर ‘विक्रम’ का चांद पर उतरते समय जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया। सपंर्क तब टूटा जब लैंडर चांद की सतह से 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर था।

    09:44 (IST)07 Sep 2019
    14 दिन चांद की सतह पर रह कर आंकड़े जुटाने की थी योजना

    इसरो के अनुसार  विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर को 14 दिन चांद की सतह पर रख कर आंकड़े जुटाए जाने और  प्रयोग किए जाने की योजना थी। चंद्रयान 2 का ऑर्बिटर कंपोनेंट सही काम कर रहा था और कंट्रोल रूम को सिग्नल भेज रहा था। विक्रम लैंडर ने भी रफ्तार कम करने के लिए अपनी गति की दिशा में चार थ्रस्टर्स सफलतापूर्वक फायर किए गए।

    08:41 (IST)07 Sep 2019
    पीएम मोदी ने इसरो प्रमुख को गले लगाया

    अपने संबोधन का बाद रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने इसरो प्रमुख के. सिवन को गले लगाया। पीएम ने इसरो प्रमुख को भविष्य के मिशन के लिए शुभकामनाएं भी दीं। वहीं, इसरो प्रमुख पीएम के गले लगकर भावुक हो गए।

    08:29 (IST)07 Sep 2019
    विज्ञान परिणाम से रुकता, झुकता नहीं हैं

    पीएम मोदी ने कहा कि विज्ञान परिणाम से रुकता या झुकता नहीं है। विज्ञान लगातार प्रयास...प्रयास... और प्रयास करता रहता है। पीएम ने कहा कि मैं पूरे विश्वास के साथ आपके हौंसलों पर भरोसा करता हूं। पीएम ने कहा कि मैंने सुबह-सुबह यह कसरत आपसे प्रेरणा पाने के लिए हैं। पीएम ने वैज्ञानिकों से कहा कि आप खुद जीती जागती प्रेरणा हैं।

    08:27 (IST)07 Sep 2019
    मैं कहीं भी रहा, चंद्रयान-2 की जानकारी लेता रहाः पीएम

    पीएम मोदी ने कहा कि चंद्रयान-2 की यात्रा शानदार, जानदार रही है। उन्होंने कहा कि मैं देश या देश से बाहर रहने के दौरान भी चंद्रयान-2 की जानकारी लेता रहा। पीएम मोदी ने कहा कि हर कठिनाई हमें नया मुकाम देती है। पीएम ने वैज्ञानिकों को आने वाले मिशन को लिए शुभकामनाएं दीं।

    08:22 (IST)07 Sep 2019
    निरंतर लक्ष्य की तरफ बढ़ना हमारी परंपराः मोदी

    पीएम मोदी ने कहा कि ज्ञान का सबसे बड़ा शिक्षक विज्ञान है। उन्होंने कहा कि निरंतर लक्ष्य की तरफ बढ़ना हमारी परंपरा रही है।

    08:21 (IST)07 Sep 2019
    पीएम बोले-पूरा देश इसरो वैज्ञानिकों के साथ खड़ा है

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज पूरा देश इसरो के वैज्ञानिकों के साथ खड़ा है। पीएम ने कहा कि इसरो कभी न हार मानने वाली संस्था है। आज इसरो दुनिया के अग्रणी संस्थानों में से एक है। इसका परिणाम आज सबके सामने है। पीएम ने कहा कि हमें आप सभी के प्रयासों पर गर्व है। पीएम ने एक बार फिर से वैज्ञानिकों से कहा कि वह और पूरा देश उनके साथ है।

    08:19 (IST)07 Sep 2019
    आप पत्थर पर लकीर खींचने वालों में से हैंः मोदी

    पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों से कहा कि आप लोगों ने जो किया है वह किसी ने नहीं किया है। आप लोग पत्थर पर लकीर खींचने वालों में से हैं।

    08:18 (IST)07 Sep 2019
    अच्छा रिजल्ट अभी आना बाकी हैः मोदी

    पीएम मोदी ने कहा कि अभी अच्छा परिणाम आना बाकी है। पीएम मोदी ने अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के परिवारों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिकों के परिवारों का मूक समर्थन सबसे बड़ी संपत्ति है।

    08:14 (IST)07 Sep 2019
    रुकावटों से हौंसला कमजोर नहीं, बल्कि मजबूत होगा

    लैंडर विक्रम से संपर्क टूटने के संदर्भ में पीएम मोदी ने कहा रुकावटों से हमारा हौंसला कमजोर नहीं होगी। पीएम ने कहा कि इस बाधा से हमारा हौंसला अधिक मजबूत होगा।

    08:10 (IST)07 Sep 2019
    वैज्ञानिकों के चेहरे की उदासी का किया जिक्र

    पीएम ने कहा कि मैं आपके चेहरे की उदासी मैं पढ़ पाता था। और इसलिए ज्यादा देर मैं आपके बीच नहीं रुका। मेरा मन करता था एक बार सुबह फिर से आपको बुलाऊं, आपसे बाते करूं। इस मिशन का साथ जुड़ा हुआ हर व्यक्ति एक अलग ही अवस्था में था। बहुत से सवाल थे।

    08:09 (IST)07 Sep 2019
    आप मां भारती की जय के लिए जूझते हैंः मोदी

    पीएम मोदी ने भारत माता की जय के नारे के साथ अपने संबोधन की शुरुआत की। पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों से कहा आप वो लोग हैं जो मां भारती की जय के लिए जूझते हैं। इसलिए पूरा जीवन खपा देते हैं। अपने सपनों को समाहित कर देते हैं। साथियों, मैं कल रात को आप की मनस्थिति को समझता था। आपकी आंखें बहुत कुछ कहती थीं।

    08:05 (IST)07 Sep 2019
    इसरो सेंटर पहुंच प्रधानमंत्री मोदी

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करने के लिए इसरो सेंटर पहुंच गए हैं। इसरो के अध्यक्ष के. सिवन ने पीएम मोदी की अगुवाई की।

    08:02 (IST)07 Sep 2019
    मिशन पूरी तरह असफल नहींः विशेषज्ञ

    विभिन्न विशेषज्ञों ने कहा कि अभी इस मिशन को असफल नहीं कहा जा सकता। लैंडर से पुन: संपर्क स्थापित हो सकता है। उन्होंने कहा कि अगर लैंडर विफल भी हो जाए तब भी ‘चंद्रयान-2’ का ऑर्बिटर एकदम सामान्य है और वह चांद की लगातार परिक्रमा कर रहा है।

    07:56 (IST)07 Sep 2019
    इसरो ने मिशन पर किया बेहतरीन कामः राहुल गांधी

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इसरो वैज्ञानिकों की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने मिशन पर बेहतरीन काम किया तथा कई और महत्वपूर्ण एवं महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष मिशनों की नींव रखी है। गांधी ने ट्वीट किया, 'इसरो को ‘चंद्रयान-2’ मिशन पर उसके बेहतरीन कार्य के लिए बधाई। आपका भाव और समर्पण हर भारतीय के लिए एक प्रेरणा है। आपका काम व्यर्थ नहीं जाएगा। इसने कई और महत्वपूर्ण तथा महत्वाकांक्षी भारतीय अंतरिक्ष मिशनों की नींव रखी है।' कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा कि समूचा देश इस समय इसरो की टीम के साथ खड़ा है। अंतरिक्ष एजेंसी के कठिन परिश्रम और प्रतिबद्धता ने देश को गौरवान्वित किया है।

    07:50 (IST)07 Sep 2019
    ऑर्बिटर से पता लग सकती हैं लैंडर की स्थितिः इसरो वैज्ञानिक

    इसरो के एक वैज्ञानिक ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि लैंडर से संपर्क टूटने के बावजूद 95 फीसदी मिशन ठीक है। इस मिशन की अवधि एक साल की है। ऑर्बिटर इस दौरान चंद्रमा की कई फोटो लेगा और इसरो को भेजेगा। अंतरिक्ष एजेंसी के अधिकारी ने कहा ऑर्बिटर लैंडर की तस्वीर भी ले सकता है। इससे लैंडर की स्थिति की जानने में मदद मिल सकती है।

    07:40 (IST)07 Sep 2019
    इसरो की टीम की असाधारण प्रतिबद्धता दिखाईः कोविंद

    इसरो की तरफ से लैंडर विक्रम के कंट्रोल रूम से संपर्क टूटने की जानकारी के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने कहा कि देश को इसरो के वैज्ञानिकों पर गर्व है। कोविन्द ने ट्वीट किया, ‘‘चंद्रयान-2 मिशन के साथ इसरो की समूची टीम ने असाधारण प्रतिबद्धता और साहस का प्रदर्शन किया है। देश को इसरो पर गर्व है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम सभी सर्वश्रेष्ठ की उम्मीद करते हैं।’’

    07:37 (IST)07 Sep 2019
    इसरो प्रमुख की पीठ थपथपाई

    इसरो प्रमुख के. सिवन ने लैंडर के कंट्रोल रूम से संपर्क टूटने की जानकारी पीएम को भी दी। इसके बाद पीएम मोदी  ने इसरो प्रमुख के. सिवन की पीठ भी थपथपाई।  पीएम मोदी ने मोदी ने बाद में एक ट्वीट में कहा, ‘‘भारत को अपने वैज्ञानिकों पर गर्व है। उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है और भारत को हमेशा गौरवान्वित किया है। ये क्षण हौसला रखने के हैं और हम हौसला रखेंगे। इसरो अध्यक्ष ने चंद्रयान-2 पर अपडेट दिया। हमें उम्मीद है और हम अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम में कठिन परिश्रम जारी रखेंगे।’’ 

    06:30 (IST)07 Sep 2019
    सुबह आठ बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे पीएम मोदी

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने ट्वीट किया, ‘‘माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी आज (7 सितंबर 2019) सुबह आठ बजे इसरो के नियंत्रण केंद्र से राष्ट्र को संबोधित करेंगे।

    02:43 (IST)07 Sep 2019
    पीएम मोदी ने कहा, उतार-चढ़ाव आते रहते हैं, लेकिन यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो के वैज्ञानिकों से कहा, उतार-चढ़ाव आते रहते हैं, लेकिन यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है, देश आप पर गर्व करता है, सर्वश्रेष्ठ की उम्मीद करें, हौसला रखें। यह आपकी कोई छोटी उपलब्धि नहीं है, आपने बहुत उत्तम सेवा की है, मैं पूरी तरह आपके साथ हूं।

    02:20 (IST)07 Sep 2019
    इसरो के कंट्रोल रूम से विक्रम लैंडर का सपर्क टूटा

    इसरो चीफ ने चंद्रयान 2 लेकर छाई मुख्यालय में छाई खामोशी पर जानकारी दी है कि विक्रम लैंडर से सपर्क टूट गया है।

    02:06 (IST)07 Sep 2019
    इसरो मुख्यालय में तनाव

    चंद्रयान 2 को लेकर इसरो मुख्यालय में तनाव बरकरार है। इसरो प्रमुख ने इससे संबंधित जानकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी है।

    01:49 (IST)07 Sep 2019
    बस कुछ मिनट और...

    लैंडर चांद की सतह से करीब 27 किलोमटीर दूर है। जिसमें 6 मिनट का समय लगेगा।

    01:44 (IST)07 Sep 2019
    चंद्रमा की सतह को 15 मिनट से भी कम समय में छू लेगा चंद्रयान 2

    विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग की प्रक्रिया शुरू हो गई है। अगले 15 मिनट से कम समय में चंद्रयान 2 चंद्रमा की सतह को छू लेगा

    01:42 (IST)07 Sep 2019
    पीएम मोदी के पहुंचने के बाद चंद्रयान 2 की लैंडिग को लेकर ISRO ने किया ट्वीट
    01:24 (IST)07 Sep 2019
    ISRO मुख्यालय पहुंचे पीएम मोदी

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ISRO मुख्यालय पहुंच गए हैं। मोदी चंद्रयान-2 की लैंडिंग को देखने के लिए बेंगलुरु पहुंचे हैं। पीएम यहां 70 बच्चों के साथ लैंडिंग देखेंगे।

    01:01 (IST)07 Sep 2019
    पीएम मोदी की अपील

    पीएम नरेंद्र मोदी ने लोगों से अपील की है कि वह चंद्रयान-2 को चंद्रमा की सतह पर उतरने की प्रक्रिया देखें और उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर करें।

    00:40 (IST)07 Sep 2019
    जानिए, कुछ देर बाद होने वाली चंद्रयान 2 की हर हलचल

    ‘चंद्रयान-2’ का लैंडर ‘विक्रम’ शनिवार (शुक्रवार रात) तड़के चांद की सतह पर ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ के लिए तैयार है। लैंडर ‘विक्रम’ चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लगभग 1.55 बजे सतह को छुएगा। इसके लिए निर्धारित समय 1:30 बजे से 2:30 बजे के बीच रखा है। सुबह लगभग 5.30 से 6:30 बजे रोवर चंद्रमा पर उतर जाएगा।

    00:29 (IST)07 Sep 2019
    देखिए, बैंगलुरू से आईं सीधी तस्वीरें

    00:22 (IST)07 Sep 2019
    'अब हम न कहेंगे चन्दा मामा दूर के' प्रसून जोशी ने चंद्रयान-2 को लेकर लिखी कविता

    सेंसर बोर्ड के चीफ और मशहूर गीतकार प्रसून जोशी ने चंद्रयान-2 को लेकर एक कविता लिखी है-

    चन्द्रयान की टीम ने देखोकैसा अद्भुत काम कियायुगों युगों से सूत काततीअम्मा को आराम दिया

    यही चाँद माँगा करता थामोटा एक झिंगोलाइसी चाँद का मुँह टेढ़ा थायही था वो अलबेला

    अब मय्या से ज़िद ना करेंगेबाल कृष्ण मुसकाएँगेचन्द खिलौना हाथ में ले करलीला नयी रचाएँगे

    और हम भी अब पास से जा करदेखेंगे बस घूर केऔर ना कहेंगे चन्दा को हमचन्दा मामा दूर के

    00:07 (IST)07 Sep 2019
    आखिर क्यों चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास लैंड कराया जाएगा चंद्रयान -2

    दरअसल आजतक कोई भी देश दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में लैंडिंग नहीं करवा पाया है। इस क्षेत्र में भारी मात्रा में बर्फ जमी हुई है। अगर भारत यहां पर पहुंचता है तो वहां मौजूदा पानी के मौजूदगी के अन्य सबूतों को एकत्रित कर सकता है।

    23:58 (IST)06 Sep 2019
    चंद्रयान -2 को लेकर अमेज़न के सीईओ ने किया ट्वीट
    23:39 (IST)06 Sep 2019
    जानिए, वो जगह जहां लैंड करेगा चंद्रयान-2

    रात डेढ़ से ढाई बजे के बीच यह पृथ्वी के प्राकृतिक उपग्रह के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरेगा। इसरो ने कहा है कि ‘चंद्रयान-2’ अपने लैंडर को 70 डिग्री दक्षिणी अक्षांश में दो गड्ढों- ‘मैंजिनस सी’ और ‘सिंपेलियस एन’ के बीच ऊंचे मैदानी इलाके में उतारने का प्रयास करेगा।

    23:23 (IST)06 Sep 2019
    अब कुछ ही घंटे और...

    अब कुछ ही घंटे चंद्रयान-2 के चांद पर लैंडिंग में बचे हैं। 7 सितंबर की रात 1:30 बजे विक्रम लैंडर की चांद पर ऐतिहासिक लैंडिंग होगी। ‘विक्रम’ फिलहाल कक्षा में चांद की सतह से इसके करीबी प्वॉइंट लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर है, जहां से यह चांद की तरफ नीचे की ओर बढ़ना शुरू करेगा। 

    Next Stories
    1 चंद्रयान-2 की लैंडिंग दिखा पस्त अर्थव्यवस्था से ध्यान हटाना चाहते हैं PM नरेंद्र मोदी, असेंबली में बोलीं ममता बनर्जी
    2 मैग्सेसे पुरस्कार लेने के बाद सवाल-जवाब में बोले रवीश कुमार- प्रोपगैंडा डिलीवरी ब्वॉय बन गए हैं न्यूज एंकर
    3 जेएनयू की पूर्व छात्रा शेहला राशिद के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज, सेना पर लगाए थे झूठे आरोप
    आज का राशिफल
    X