ताज़ा खबर
 

Chandrayaan 2: दिल तोड़ने वाली खबर, लैंडर ‘विक्रम’ से संपर्क की उम्मीद न के बराबर!

Chandrayaan 2: इसरो के अध्यक्ष के सिवन ने कहा, ‘‘विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह से 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई तक सामान्य तरीके से नीचे उतरा। इसके बाद लैंडर का धरती से संपर्क टूट गया। आंकड़ों का विश्लेषण किया जा रहा है। लैंडर से दोबारा संपर्क स्थापित करना बहुत ही मुश्किल है।"

Author नई दिल्ली | September 7, 2019 11:07 AM
chandrayaan 2, chandrayaan 2 landing, chandrayaan 2 moon landing, chandrayaan 2 landing, chandrayaan 2, chandrayaan 2 moon landing, chandrayaan 2 landing, chandrayaan 2, chandrayaan 2 moon landing telecastchandrayaan 2 today status: लैंडर से दोबारा संपर्क स्थापित करना बहुत ही मुश्किल है। (pc- Indian express)

Chandrayaan 2 failure news, chandrayaan 2 today status, ISRO: चंद्रयान-2 मिशन से जुड़े एक वरिष्ठ इसरो अधिकारी ने शनिवार को कहा कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने ‘विक्रम’ लैंडर और उसमें मौजूद ‘प्रज्ञान’ रोवर को संभवत: खो दिया है। इससे पहले लैंडर जब चंद्रमा की सतह के नजदीक जा रहा था तभी निर्धारित सॉफ्ट लैंडिंग से चंद मिनटों पहले उसका पृथ्वी स्थित नियंत्रण केंद्र से सपंर्क टूट गया।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) के अध्यक्ष के सिवन ने कहा, ‘‘विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह से 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई तक सामान्य तरीके से नीचे उतरा। इसके बाद लैंडर का धरती से संपर्क टूट गया। आंकड़ों का विश्लेषण किया जा रहा है।’’ चंद्रयान-2 मिशन से करीब से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘लैंडर से कोई संपर्क नहीं है। यह लगभग समाप्त हो गया है। कोई उम्मीद नहीं है। लैंडर से दोबारा संपर्क स्थापित करना बहुत ही मुश्किल है।’’

चंद्रयान-2 मिशन के तहत भेजा गया 1,471 किलोग्राम वजनी लैंडर ‘विक्रम’ भारत का पहला मिशन था जो स्वदेशी तकनीक की मदद से चंद्रमा पर खोज करने के लिए भेजा गया था। लैंडर का यह नाम भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक डॉ.विक्रम ए साराभाई पर दिया गया था। इसे चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करने के लिए डिजाइन किया गया था और इसे एक चंद्र दिवस यानी पृथ्वी के 14 दिन के बराबर काम करना था।

लैंडर विक्रम के भीतर 27 किलोग्राम वजनी रोवर ‘प्रज्ञान’ था। सौर ऊर्जा से चलने वाले प्रज्ञान को उतरने के स्थान से 500 मीटर की दूरी तक चंद्रमा की सतह पर चलने के लिए बनाया गया था। इसरो के मुताबिक लैंडर में सतह और उपसतह पर प्रयोग करने के लिए तीन उपकरण लगे थे जबकि चंद्रमा की सहत को समझने के लिए रोवर में दो उपकरण लगे थे। मिशन में ऑर्बिटर की आयु एक साल है।

Next Stories
1 चुल्लू बनाकर पानी पीयो, दातुन का इस्तेमाल करो’, बीजेपी सांसद मीनक्षी लेखी की सलाह
2 भीषण मंदी की चपेट में गुजरात का हीरा कारोबार! दिवाली पर कार-फ्लैट देने वाले कारोबारी बोले- इस बार ऐसा नहीं होगा
3 वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर की किरकिरी, पूछा गाड़ियों की बिक्री क्यों नहीं बढ़ रही, जवाब मिला- नोटबंदी का असर, लोगों के पास पैसा नहीं
ये पढ़ा क्या?
X