ताज़ा खबर
 

विशेष: प्रेम अब भी एक संभावना

‘उसने कहा था’ कहानी की असली ताकत है उसकी ‘फ्लैशबैक’ शैली, जो घायल लहना सिंह की बेहोशी में आती-जाती यादों के ‘फ्लैशबैक’ से मेल खाती है, जिसे पढ़ते हुए हम एक प्रकार से ‘डबल फ्लैशबैक’ का आनंद लेते हैं।

Author Published on: July 1, 2020 5:14 AM
चंद्रधर शर्मा गुलेरी की रचना ‘उसने कहा था’ बताती है कि प्रेम अब भी एक संभावना है।

चंद्रधर शर्मा गुलेरी की रचना ‘उसने कहा था’ प्रेम-विरोधी दिनों में भी एक ऐसी प्रेमकथा के रूप में याद की जाती है जिसमें एकदम खांटी देसी पंजाबी प्रेम भावना के ‘क्लासिकल’ रूप की यकीनी झलक मिलती है।

जिन दिनों प्रेम सिर्फ ‘ब्लाइंड डेटिंग’ या निरी ‘फिजिकल सेक्स’ या ‘वन नाइट स्टैंड’ या पहले ‘लिव-इन’ और फिर ‘आइ हेट यू रास्कल’ या ‘बिच’ या ‘आइ वांट टू लिव आन माई ओन टर्म्स’ या फिर अंतत: ‘डोमेस्टिक वायलेंस’ का केस बनकर अदालत के चक्कर कटवाता हो, उन दिनों हिंदी के पाठक को यह कहानी एक शताब्दी बाद भी आश्वस्त करती है कि प्रेम अब भी एक बड़ी संभावना है।

‘उसने कहा था’ कहानी की असली ताकत है उसकी ‘फ्लैशबैक’ शैली, जो घायल लहना सिंह की बेहोशी में आती-जाती यादों के ‘फ्लैशबैक’ से मेल खाती है, जिसे पढ़ते हुए हम एक प्रकार से ‘डबल फ्लैशबैक’ का आनंद लेते हैं। वैसे भी प्रेम तो है ही स्मृति और कल्पना का रचनात्मक साझे का नाम।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 विशेष: प्रेम का त्यागपत्र
2 विशेष: एक शताब्दी प्रेमकथा
3 चंद्रधर शर्मा गुलेरी : हिंदी साहित्य का ध्रुवतारा