ताज़ा खबर
 

अनुपम खेर ने FTII कैंटीन में स्टूडेंट्स के साथ खाया खाना, पूछा हालचाल

अनुपम खेर ने छात्रों के प्रति बेहद ही दोस्ताना रवैया रखते हुए कैंटीन में उनके साथ खाना भी खाया और कई मुद्दों पर छात्रों के साथ चर्चा भी की।

पुणे स्थित फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष अनुपम खेर (फोटो सोर्स – ANI Twitter)

पुणे स्थित फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के नए अध्यक्ष अनुपम खेर ने आज संस्थान का आकस्मिक दौरा किया और स्टूडेंट्स से बातचीत भी की। एफटीआईआई का चेयरमैन चुने जाने के बाद अनुपम खेर ने आज पद संभाला, उसके बाद उन्होंने छात्रों से मुलाकात की और पहली एक्टिंग क्लास भी ली। इतना ही नहीं अनुपम खेर ने छात्रों के प्रति बेहद ही दोस्ताना रवैया रखते हुए कैंटीन में उनके साथ खाना भी खाया और कई मुद्दों पर छात्रों के साथ चर्चा भी की। 62 साल के एक्टर अनुपम खेर ने आज सोशल मीडिया पर लाइव वीडियो के जरिए जानकारी दी कि वह एफटीआईआई का दौरा करने जा रहे हैं। अनुपम खेर के आने की जानकारी संस्थान में किसी को नहीं थी, इसलिए जब वह इंस्टीट्यूट पहुंचे तब सभी को काफी आश्चर्य हुआ।

इंस्टीट्यूट की ओर जाते वक्त अनुपम खेर ने सोशल मीडिया पर लाइव वीडियो के जरिए बताया, ‘मैं इस वक्त उस संस्थान की तरफ जा रहा हू्ं जहां मैंने 40 साल पहले 1978 में पढ़ाई की थी और जो एक अभिनेता के तौर पर मेरे करियर के लिए काफी महत्वपूर्ण थी। आज मैंने संस्थान में किसी को भी अपने आने की जानकारी नहीं दी है, क्योंकि मैं एक स्टूडेंट की तरह ही वहां जाना चाहता हूं। मैं वहां जाकर यह महसूस नहीं करना चाहता कि मैं महत्वपूर्ण हूं। ‘ओ माई गॉड, मैं 508 फिल्मों में काम कर चुका हूं और बॉलीवुड में पिछले 33 सालों से मैं काम कर रहा हूं, मैं 120 से ज्यादा प्ले में काम कर चुका हूं…’ इस फीलिंग के साथ मैं एफटीआईआई नहीं जाना चाहता। मैं वहां एक विनम्र छात्र के तौर पर जाना चाहता हूं।’

फिल्मों में अपनी बेहतरीन अदाकारी के लिए मशहूर अभिनेता अनुपम खेर ने संस्थान में प्रवेश करते वक्त कैमरे से मैन गेट को फोकस किया और कहा, ‘यह बहुत महत्वपूर्म गेट है, इस गेट ने मेरी जिंदगी बदल दी और नया रास्ता मुझे दिखाया।’ बता दें कि 11 अक्टूबर को अनुपम खेर को संस्थान का नया अध्यक्ष बनाने का ऐलान किया गया था। खेर से पहले मशहूर टीवी एक्टर गजेंद्र चौहान इस पद पर थे, जिन्हें 9 जून 2015 में नियुक्त किया गया था। गजेंद्र चौहान का कार्यकाल 3 मार्च 2017 को खत्म हो गया था। अपने 14 महीने के कार्यकाल के दौरान गजेंद्र चौहान सिर्फ एक बार ही संस्थान में किसी बैठक में शामिल होने गए थे। चौहान को एफटीआईआई का अध्यक्ष बनाए जाने पर छात्र-छात्राओं ने उनका काफी विरोध भी किया गया था। 139 दिनों तक एफटीआईआई के विद्यार्थियों ने हड़ताल की थी, जिनमें से कुछ छात्रों ने अनशन पर भी रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App