ताज़ा खबर
 

समलैंगिक विवाह को हमारा कानून, समाज और मूल्य मान्यता नहीं देते हैं, केन्द्र ने अदालत से कहा

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने यह भी कहा कि हिन्दू विवाह अधिनियम में भी विवाह से जुड़े विभिन्न प्रावधान संबंधों के बारे में पति और पत्नी की बात करते हैं, समलैंगिक विवाह में यह कैसे निर्धारित होगा कि पति कौन है और पत्नी कौन।

Author नई दिल्ली | Updated: September 14, 2020 5:14 PM
Supreme court, same sex marriage, delhi high court,अदालत ने मामले की सुनवाई के लिए 21 अक्टूबर की तारीख तय की है। (फाइल फोटो)

केन्द्र ने सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट से कहा कि समलैंगिक विवाह की ‘‘अनुमति नहीं है’’ क्योंकि ‘‘हमारा कानून, हमारी न्याय प्रक्रिया, समाज और हमारे नैतिक मूल्य’’ इसे मान्यता नहीं देते हैं।

समलैंगिक विवाह को हिन्दू विवाह अधिनियम और विशेष विवाह अधिनियम के तहत मान्यता देने का अनुरोध करने वाली जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मुख्य न्यायाधीश डी.एन. पटेल और न्यायमूर्ति प्रतीक जालान की पीठ के समक्ष ये बातें कहीं। याचिका में किये गये अनुरोध का विरोध करते हुए मेहता ने कहा, ‘‘हमारे कानून, हमारी न्याय प्रणाली, हमारा समाज और हमारे मूल्य समलैंगिक जोड़े के बीच विवाह को मान्यता नहीं देते हैं।

हमारे यहां विवाह को पवित्र बंधन माना जाता है।’’  उन्होंने कहा कि ऐसे विवाहों को मान्यता देने और उनका पंजीकरण कराने की अनुमति दो अन्य कारणों से भी नहीं दी जा सकती है। पहला… याचिका अदालत से इस संबंध में कानून बनाने का अनुरोध कर रही है। दूसरा इन्हें दी गयी कोई भी छूट ‘‘विभिन्न वैधानिक प्रावधानों के विरूद्ध होगी।’’

याचिका में कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से सहमति से समलैंगिक कृत्यों को अपराधमुक्त किए जाने के बावजूद, समलैंगिक जोड़े के बीच विवाह अभी भी संभव नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘जबतक कि अदालत विभिन्न कानूनों का उल्लंघन ना करे, ऐसा करना संभव नहीं होगा।’’

मेहता ने यह भी कहा कि हिन्दू विवाह अधिनियम में भी विवाह से जुड़े विभिन्न प्रावधान संबंधों के बारे में पति और पत्नी की बात करते हैं, समलैंगिक विवाह में यह कैसे निर्धारित होगा कि पति कौन है और पत्नी कौन। पीठ ने यह माना कि दुनिया भर में चीजे बदल रही हैं, लेकिन यह भारत के परिदृश्य में लागू हो भी सकता है और नहीं भी।

अदालत ने इस संबंध में जनहित याचिका की जरुरत पर भी सवाल उठाया। उसका कहना है कि जो लोग इससे प्रभावित होने का दावा करते हैं, वे शिक्षित हैं और खुद अदालत तक आ सकते हैं। पीठ ने कहा, ‘‘हम जनहित याचिका पर सुनवायी क्यों करें।’’ याचिका दायर करने वालों के वकील ने कहा कि प्रभावित लोग समाज में बहिष्कार के डर से सामने नहीं आ रहे हैं इसलिए जनहित याचिका दायर की गयी है।

अदालत ने वकील से कहा कि वह उन समलैंगिक जोड़ों की सूचना उन्हें दे जो अपने विवाह का पंजीकरण नहीं करा पा रहे हैं। अदालत ने मामले की सुनवाई के लिए 21 अक्टूबर की तारीख तय की है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 UP: डेयरी में मावा बनाते वक्त फटा बॉयलर, 1 बच्ची की मौत, 10 मासूमों समेत 18 जख्मी
2 लॉकडाउन नहीं होता तो चली जातीं 38 हजार अतिरिक्त जानें, 29 लाख तक कम रहे मामले; संसद में बोले स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन
3 मोटरसाइकिल पर सफर करने के ये होंगे नियम, केंद्र की गाइडलाइन जारी; जानें क्या हुए बदलाव
ये पढ़ा क्या?
X