ताज़ा खबर
 

31 जनवरी तक करना होगा कोरोना गाइडलाइन्स का पालन, MHA ने कहा- कंटेनमेंट जोन में जारी रहेगी निगरानी

केंद्र सरकार ने आज कहा कि COVID-19 के चलते विभिन्न गतिविधियों पर प्रतिबंध जारी रहेगा। सरकार के मुताबिक देश में कोरोना के एक्टिव मामलों में लगातार गिरावट आई है।

Corona pandemicकोरोना वायरस महामारी की शुरुआत से लगातार डॉक्टर अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने में जुटे हैं।

केंद्र सरकार ने आज कहा कि COVID-19 के चलते विभिन्न गतिविधियों पर प्रतिबंध जारी रहेगा। सरकार के मुताबिक देश में कोरोना के एक्टिव मामलों में लगातार गिरावट आई है। हालांकि यूके में कोरोना के नए स्ट्रेन के चलते भारत में भी निगरानी रखने और सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कोविड -19 के मामले में निगरानी के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं जो 31 जनवरी तक लागू रहेंगे। केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को सख्त निगरानी रखने के लिए कहा है। केंद्र ने कहा है कि नए साल के जश्न और सर्दियों के मौसम के दौरान सभी सतर्क रहें।

केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को कहा है कि वे टीकाकरण अभियान की तैयारी में केंद्रीय अधिकारियों का सहयोग करें। बयान में कहा गया, “देश में कोरोना के एक्टिव मामलों में लगातार गिरावट आई है। यूके में कोरोना के नए स्ट्रेन को ध्यान में रखते हुए निगरानी, नियंत्रण और सावधानी बनाए रखने की आवश्यकता है।”

“कंटेनमेंट ज़ोन में नियम पहले की तरह लागू रहेंगे। इन ज़ोन के भीतर नियमों का सख्ती से पालन किया जाएगा। विभिन्न गतिविधियों में SOP का पालन किया जाएगा।”

मंत्रालय ने कहा कि निगरानी और नियंत्रण के लिए पहले जारी किए गए दिशानिर्देशों का पालन किए जाने की आवश्यकता है।

पिछले महीने,केंद्र ने कहा था कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में COVID-19 के फैलाव को रोकने के लिए रात के समय कर्फ्यू जैसे स्थानीय प्रतिबंध लगा सकते हैं, लेकिन यह स्पष्ट कर दिया था कि कंटेनमेंट क्षेत्रों के बाहर लॉकडाउन लगाने से पहले राज्यों को केंद्र से सलाह लेनी होगी।

आज जारी बयान में कहा गया, “नए साल के जश्न और सर्दियों के मौसम के मद्देनजर मामलों में वृद्धि को रोकने के लिए सख्त सतर्कता बनाए रखने की जरूरत है, जो वायरस के प्रसार के लिए अनुकूल हैं। इस संबंध में, राज्य द्वारा उचित उपाय किए जा सकते हैं। ”

केंद्र ने सोमवार को कहा कि राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह ने COVID-19 वैक्सीन सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों , फ्रंटलाइन वर्कर्स, 50 वर्ष या उससे अधिक आयु के व्यक्तियों और 50 वर्ष से कम आयु के व्यक्ति( जिन्हें कोई गंभीर बीमारी हो) को देने की सिफारिश की है।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पंजाब में आग लगा इटली भाग गए राहुल गांधी, अर्नब गोस्वामी के शो में बोले पंजाब भाजपा किसान मोर्चा सचिव
2 किसान आंदोलन को गंभीरता से नहीं ले रही सरकार? शरद पवार बोले- 4 से 5 लोग कर चुके हैं आत्महत्या…देश की लिए ठीक नहीं होंगे हालात
3 हमारे यहां कैमरा देख कर माता का चरण वंदन नहीं करते, एंकर श्वेता सिंह ने किया सवाल तो गौरव वल्लभ ने भाजपा पर कसा तंज
किसान आंदोलन LIVE:
X