scorecardresearch

गौतम अडानी को जेड सिक्योरिटी, जान‍िए कैसा होगा सुरक्षा इंतजाम और क्‍यों ल‍िया गया फैसला

Centre grants VIP security Gautam Adani: गौतम अडानी (Gautam Adani) को केंद्र सरकार ने सीआरपीएफ कमांडो की ‘जेड’ श्रेणी की वीआईपी सुरक्षा (Z category VIP security cover) दी है।

गौतम अडानी को जेड सिक्योरिटी, जान‍िए कैसा होगा सुरक्षा इंतजाम और क्‍यों ल‍िया गया फैसला
गौतम अडानी को जेड सिक्योरिटी। (फोटो सोर्स: File/ANI)

Centre grants VIP security Gautam Adani: अडानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी (Gautam Adani) को केंद्र सरकार ने सीआरपीएफ कमांडो की ‘जेड’ श्रेणी की वीआईपी सुरक्षा (Z category VIP security cover) दी है। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार (17 अगस्त, 2022) को बताया कि देश भर में यह सिक्योरिटी कवर “भुगतान के आधार” पर होगा। इसका व्यय करीब 15-20 लाख रुपये प्रति माह हो सकता है।

सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों की ओर से तैयार की गई जोखिम के अनुमान वाली रिपोर्ट के आधार पर 60 वर्षीय गौतम अडानी को सुरक्षा मुहैया कराई गई है। उन्होंने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की वीआईपी सुरक्षा विंग को यह काम संभालने को कहा और अब सुरक्षा दस्ता अडानी के पास है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष मुकेश अंबानी को 2013 में केंद्र सरकार द्वारा सीआरपीएफ कमांडो का ‘जेड +’ श्रेणी का कवर दिया गया था, इसके कुछ साल बाद उनकी पत्नी नीता अंबानी को निचली श्रेणी का कवर दिया गया था।

पिछले महीने के अंत में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को मुंबई में अंबानी को प्रदान किए गए सुरक्षा कवर को जारी रखने की अनुमति दी थी, इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि परिवार सुरक्षा कवर के लिए भुगतान कर रहा था। मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना और न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ का यह आदेश उद्योगपति और उनके परिवार के सदस्यों को सुरक्षा कवर देने को चुनौती देने वाली एक जनहित याचिका पर त्रिपुरा उच्च न्यायालय के निर्देश को चुनौती देने वाली केंद्र की अपील के जवाब में था।

बता दें, फोर्ब्स (Forbes) की रीयल-टाइम अरबपतियों की सूची के मुताबिक जुलाई में गौतम अडानी दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति बन गए। इससे पहले दुनिया के सबसे अमीर लोगों में चौथे पायदान पर माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स (Bill Gates) हुआ करते थे।

फोर्ब्स के मुताबिक 60 वर्षीय बिजनेस टाइकून गौतम अडानी की कुल संपत्ति 115.5 बिलियन डॉलर तक पहुंच गई, जबकि बिल गेट्स की दौलत 104.6 बिलियन डॉलर पर रूक गई। 90 बिलियन डॉलर के साथ भारत के मुकेश अंबानी (Mukesh AMbani) सूची में 10वें स्थान पर हैं।

आइए जानते हैं क्या होती है Z+ सिक्‍योरिटी, Z श्रेणी की सुरक्षा, Y श्रेणी की सिक्योरिटी और X श्रेणी की सुरक्षा-

Z+ श्रेणी की सेक्‍योरिटी

देश में Z+ सेक्‍योरिटी को सर्वोच्‍च श्रेणी की सुरक्षा माना जाता है। इसमें 55 सिक्‍योरिटी पर्सन होते हैं, इसमें 10 NSG कमांडो और पुलिस शामिल होते हैं। हर कमांडो मार्शल आर्ट्स में एक्‍सपर्ट होता है और अनआर्म्‍ड कांबैट होता है। Z+ सेक्‍योरिटी NSG कमांडो द्वारा दी जाती है, इनके पास MP5 गन होती है और बिल्‍कुल नये जमाने के मॉर्डन कम्‍युनिकेशन गैजेट्स होते हैं।

Z श्रेणी की सुरक्षा

इस श्रेणी की सेक्‍योरिटी में 22 सुरक्षाकर्मी होते हैं, जिसमें 4 या 6 NSG कमांडो और पुलिस कर्मी होते हैं। यह सुरक्षा दिल्‍ली पुलिस या ITBP या CRPF द्वारा दी जाती है और इसमें एक एस्‍कॉट कार भी शामिल होती है।

Y श्रेणी की सुरक्षा

Y श्रेणी की सुरक्षा में 8 सुरक्षा कर्मी होते हैं, इसमें 1 या 2 कमांडो होते हैं और पुलिस कर्मी। इसमें दो पर्सनल सेक्‍योरिटी ऑफिसर (PSOs) भी होते हैं।

X श्रेणी की सुरक्षा

X श्रेणी की सेक्‍योरिटी में दो सुरक्षा कर्मी होते हैं। कोई कमांडो नहीं होता है। सिर्फ आर्म पुलिस होते हैं। यह पर्सनल सेक्‍योरिटी ऑफिसर होते हैं। यह सुविधा भी बहुत से लोगों को प्रदान की गई है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.