ताज़ा खबर
 

स्मृति ईरानी ने अमेठी में बंटवाईं 10 हजार साड़ियां

स्मृति ईरानी कई सालों से राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र में अपनी पैठ बनाने में जुटी हैं। 2014 लोकसभा चुनाव में अमेठी से मैदान में थीं। हालांकि राहुल गांधी का किला वह भेद नहीं सकी थीं।

Author November 4, 2018 12:29 PM
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (फोटो सोर्स : Indian Express)

मोदी सरकार में टेक्सटाइल मिनिस्ट्री संभाल रहीं स्मृति ईरानी का अनेठी की जनता के प्रति लगाव अब भी बरकरार है। दीवाली के मौके पर स्मृति ईरानी ने दरियादिली दिली दिखाते हुए जिले में महिलाओं को देने के लिए करीब 10 हजार साड़ियां भेजी हैं। इस साडियों के पैकेट पर ईरानी की तस्वीर भी है। अपने भेजे उपहार के साथ उन्होंने एक संदेश भी भिजवाया है। इसमें कहा गया है कि केंद्रीय मंत्री के लिए अमेठी उनका परिवार है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गढ़ को कब्जाने की कोशिश में लगीं स्मृति ईरानी ने अमेठी में दीवाली के खुशियों को बढ़ाने के लिए जिले के सभी बूथ अध्यक्षों के परिवार को उपहार के तौर पर साड़ियां भेजी हैं। जिन पर केंद्रीय मंत्री की तस्वीर के साथ दीवाली की शुभकामनाएं भी हैं। साडियां बांटने का जिम्मा स्मृति के पीआरओ को दिया गया। साडियां बांटते हुए पीआरओ ने कहा, दीदी के लिए अमेठी परिवार की तरह है। वह सभी त्योहार पर लोगों के लिए उपहार भेजती हैं।

गौरतलब है कि, 2019 लोकसभा चुनाव की तैयारी में सभी पार्टियां जुट गई हैं। आम चुनाव में करीब 6 महीने का समय बचा है। समय कम होने के साथ चुनावी सरगर्मियां लगातार बढ़ रही हैं। स्मृति ईरानी कई सालों से राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र में अपनी पैठ बनाने में जुटी हैं। 2014 लोकसभा चुनाव में अमेठी से मैदान में थीं। हालांकि राहुल गांधी का किला वह भेद नहीं सकी थीं । चुनाव हारने के बावजूद स्मृति ईरानी ने अमेठी से दूरी नहीं बनाई। वह लगातार अमेठी का दौरा करती रहती हैं।

बता दें कि, बीते दिनों स्मृति ईरानी उस वक्त चर्चा में आई थीं, जब उन्होंने सबरीमाला मंदिर पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी। स्मृति ईरानी ने कहा था, ‘मैं सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ बोलने वाली कोई नहीं हूं, क्योंकि मैं एक कैबिनेट मंत्री हूं। लेकिन यह साधारण-सी बात है क्या आप माहवारी के खून से सना नैपकिन लेकर किसी दोस्त के घर जा सकते हैं। आप ऐसा नहीं करेंगे।’ इनके इस बयान के बाद उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रोल किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X