ताज़ा खबर
 

व‍िमान में क्‍या करने पर, कितने वक्‍त के ल‍िए आपको कर द‍िया जाएगा बैन, सरकार ने तय क‍िए तीन कैटेगरी के न‍ियम

अगर कोई भी व्यक्ति इन अपराधों को करता पाया जाता है तो उसका नाम हवाई यात्रा की लिस्ट से हटा दिया जाएगा।

यूपी के एक इंजीनियर की दिल्ली से अमेरिका जाते समय हार्ट अटैक से हुई मौत।

केंद्र सरकार द्वारा हवाई जहाज में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए 3 लेवल की आपराधिक कैटेगरी के नियम तय किए हैं जिसके बाद अगर कोई भी व्यक्ति इन अपराधों को करता पाया जाता है तो उसका नाम हवाई यात्रा की लिस्ट से हटाकर नॉ फ्लाई लिस्ट में डाल दिया जाएगा। जिन अपराधों को 3 लेवल की कैटेगरी में रखा गया है उनमें एयरक्राफ्ट को नुकसान पहुंचाना, किसी को जान से मारने की धमकी देना और मारपीट करने जैसे अपराध शामिल हैं। इस प्रकार का अपराध करने वालों पर 2 साल का बैन लगाया जाएगा। वहीं 2 लेवल की कैटेगरी में शारीरिक घृणात्मकर व्यवहार (धक्का देना, लात मारना और गलत ढंग से छोने) शामिल हैं। इस प्रकार का अपराध करने वाले यात्रियों पर 6 महीने का बैन लगाया जाएगा। इसके बाद 1 लेवल कैटेगरी की बात करें तो इसमें गलत तरीके से शारीरिक इशारा, गाली-गलौच और किसी भी प्रकाश का नशा करने जैसे अपराध शामिल हैं। इन अपराधों को करने वाले यात्रियों पर तीन माह का बैन लगाया जाएगा।

इस मामले की जानकारी देते हुए एविएशन मंत्री अशोक गजापती राजू द्वारा ट्वीट कर दी गई। एक के बाद एक ट्वीट करते हुए अशोक ने लिखा एक निर्दलीय कमेटी का गठन किया जाएगा जिसमें रिटायर्ड डिस्ट्रिक्ट जज शामिल होंगे। अगर कोई भी यात्री इन आपराधों को करते हुए पाया जाता है तो ये जज ही उसे नॉ फ्लाई लिस्ट से हटा देंगे। इन यात्रियों पर 30 दिनों के अंदर-अंदर निर्णय लिया जाएगा। इसके बाद उन्होंने बताया कि अगर गृह मंत्रालय से हमें किसी व्यक्ति के बारे में सूचित किया जाता है तो उसे भी नॉ फ्लाई लिस्ट में डाल दिया जाएगा। फ्लाइट में अपराध करने वाले इन यात्रियों पर मौजूदा कानून के मुताबिक लीगल एक्शन लिया जाएगा।

 

इस पर बात करते हुए राज्य सिविल एविएशन मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि नॉ फ्लाय लिस्ट को बनाने के पीछे हमारा उद्देश्य केवल यात्रियों की रक्षा और सुरक्षा करना है। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक फिलहाल अभी यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि सरकार की इन गाइडलाइंस को तुरंत ही लागू किया जाएगा या केवल आगे बढ़ती जाएंगी। अगर यह कानून पहले लागू हुआ होता तो लेवल 3 कैटेगरी का अपराध शिवसेना नेता रविंद्र गायकवाड़ पर भी लागू होता, जिन्होंने मार्च में एयर इंडिया के स्टाफ के साथ बदसलूकी की थी। गायकवाड़ के अलावा यह कानून टीडीपी सांसद जेसी दुवाकर रेड्डी पर भी लागू होता जिन्होंने डून में इंडिगो एयर फ्लाइट की प्रोपर्टी को नुकसान पहुंचाया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गौरी लंकेश हत्या मामला: शिवसेना का मोदी सरकार पर हमला, पूछा- चुप कराने के लिए गुप्त सिस्टम तो नहीं चल रहा?
2 24 घंटे में 4 हादसे: बाल-बाल बचे सैकड़ों यात्री, ट्रेन छोड़ एक किमी आगे निकला इंजन
3 मुस्‍ल‍िम माकपा नेता ने आरएसएस व‍िचारक के समर्थन में क‍िया ट्वीट, पार्टी ने थमा द‍िया नोटिस