30 KG वजनी ब्रास शिप पर भारत और रूस के रक्षा मंत्रियों ने की जोर आजमाइश, सोशल मीडिया पर आने लगे रिएक्शन

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी आज एक दिन के भारत दौरे पर दिल्ली पहुंच रहे हैं। दिल्ली पहुंचने के बाद शाम में हैदराबाद हाउस में पुतिन और प्रधानमंत्री मोदी की मुलाक़ात होगी।

सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू के साथ मुलाक़ात की। (फोटो: ट्विटर/ rajnathsingh)

सोमवार को केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने रूसी समकक्ष सर्गेई शोइगू के साथ मुलाक़ात की। इस दौरान दोनों देशों के रक्षा मंत्री ने करीब 30 किलो वजन वाले ब्रास शिप पर जोर आजमाइश की। पहले भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वजनी शिप को उठाया। उसके बाद रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू ने भारी भरकम जहाज को उठाने की कोशिश की। मुलाक़ात के दौरान रूसी रक्षा मंत्री ने राजनाथ सिंह को एक छोटी पिस्तौल भी भेंट की। ब्रास शिप पर दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों की जोर आजमाइश देखकर सोशल मीडिया यूजर्स ने भी जमकर प्रतिक्रिया दी।

ट्विटर यूजर दिव्या सिंह ने वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि देखो घी का कमाल, पूरा जहाज उठा लिया अंकल ने। वहीं ट्विटर हैंडल @sandyy1144 ने लिखा कि कड़ी निंदा करते हैं। इसके अलावा रूसी रक्षा मंत्री के द्वारा ब्रास शिप उठाने के दौरान राजनाथ सिंह के ताली बजाने पर एक यूजर ने लिखा कि ये इतनी जोर से ताली क्यों बजा रहे हैं क्या ये भी 2014 के बाद की जीत है।  

दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों की बैठक के दौरान भारत और रूस के बीच हुए कई समझौतों पर हस्ताक्षर भी किए गए। बैठक के दौरान भारत रूस प्राइवेट लिमिटेड के माध्यम से बनने वाले मिनी असॉल्ट राइफल AK-203 की खरीद के लिए सैन्य तकनीकी सहयोग जैसे समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। इस दौरान राजनाथ सिंह ने दोनों देशों के संबंध को काफी मैत्रीपूर्ण बताया।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि रक्षा सहयोग हमारी साझेदारी के सबसे महत्वपूर्ण स्तंभों में से एक है। मुझे उम्मीद है कि भारत-रूस साझेदारी पूरे क्षेत्र में शांति लाएगी और इस क्षेत्र को स्थिरता प्रदान करेगी। साथ ही उन्होंने कहा कि भारत और रूस के सैन्य गठबंधन में भी काफी अच्छी खासी प्रगति हुई है। हमें उम्मीद है कि चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में रूस भारत का एक प्रमुख भागीदार बना रहेगा।

वहीं रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू ने कहा कि मौजूदा समय में सैन्य और तकनीकी क्षेत्रों में भारत और रूस का सहयोग विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। हमें उम्मीद है कि भारत और रूस क्षेत्रीय सुरक्षा बढ़ाने में मदद करेंगे। बता दें कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी आज एक दिन के भारत दौरे पर दिल्ली पहुंच रहे हैं। दिल्ली पहुंचने के बाद शाम में हैदराबाद हाउस में पुतिन और प्रधानमंत्री मोदी की मुलाक़ात होगी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।