ताज़ा खबर
 

केंद्र ने कोरोना गाइडलाइन में किया बदलाव, अब कहा, खांसने, छीकने या बात करने से हवा में फैलता है वायरस

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने कोविड -19 क्लीनिकल मैनेजमेंट दिशानिर्देशों को संशोधित करते हुए बुधवार को कहा कि वायरस "मुख्य रूप से हवा के रास्ते फैलता है और संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छींकने या बात करने पर निकलने वाली छोटी बूंद" से भी यह फैलता है।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (एक्सप्रेस फोटो)।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने कोविड -19 क्लीनिकल मैनेजमेंट दिशानिर्देशों को संशोधित करते हुए बुधवार को कहा कि वायरस “मुख्य रूप से हवा के रास्ते फैलता है और संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छींकने या बात करने पर निकलने वाली छोटी बूंद” से भी यह फैलता है। वायरस के प्रसार के बारे में संशोधन इसके पिछले साल के प्रोटोकॉल से एक बदलाव को चिह्नित करता है जिसमें कहा गया था कि संक्रमण निकट संपर्क से फैलता है।

कोविड -19 के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के राष्ट्रीय क्लीनिकल मैनेजमेंट प्रोटोकॉल में कहा गया है, “ये बूंदें सतहों पर भी हो सकती हैं। सतह के प्रकार के आधार पर वायरस कुछ समय की अवधि के लिए पाया जा सकता है। संक्रमण तब भी हो सकता है जब कोई व्यक्ति किसी संक्रमित सतह को छूता है और फिर अपनी आंख, नाक या मुंह को छूता है। इसे फोमाइट ट्रांसमिशन के रूप में जाना जाता है।”

सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार के कार्यालय द्वारा हाल ही में जारी एक गाइडलाइन में यह भी उल्लेख किया गया है कि संक्रमित एरोसोल हवा में 10 मीटर तक फैल सकता है। प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार (पीएसए) के कार्यालय ने अपनी एडवाइजरी ‘स्टॉप द ट्रांसमिशन, क्रश द महामारी-मास्क, डिस्टेंस, सेनिटेशन और वेंटिलेशन’ में कहा कि अच्छी तरह हवादार जगह संक्रमित हवा को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। साथ ही इससे एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे में कोरोना फैलने के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

बूंदों और एरोसोल के रूप में लार और नाक से वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में जा सकता है। एडवाइजरी में कहा गया है कि बड़े आकार की बूंदें जमीन पर और सतहों पर गिरती हैं और छोटे एयरोसोल कणों को हवा में अधिक दूरी तक ले जाया जाता है।

इसमें कहा गया है कि बंद गैर-हवादार इनडोर स्थानों में, बूंदें और एरोसोल जल्दी से केंद्रित हो जाते हैं और लोगों में फैलने के जोखिम को बहुत बढ़ा देते हैं। इसमें कहा गया है कि बूंदें संक्रमित व्यक्ति के 2 मीटर के दायरे में आती हैं और एरोसोल को हवा में 10 मीटर तक ले जाया जा सकता है।

पहले के प्रोटोकॉल में कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए छह फीट (1.8 मीटर) की दूरी बनाए रखने के लिए गया था।

Next Stories
1 ‘सत्ता में बैठे अज्ञानी कट्टरपंथी लक्षद्वीप को तबाह कर रहे’, जानें किस बात को लेकर भाजपा पर भड़के राहुल गांधी
2 लॉकडाउन में मदद करने वाला कोरोना से जीता, पर हार गया ब्लैक फंगस की जंग, चार दिन बाद थी शादी
3 भाजपा नेता बोले, पीएम मोदी ने दी चीन को चुनौती तो फैला दिया कोरोनावायरस, दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार है ड्रैगन
ये पढ़ा क्या?
X