ताज़ा खबर
 

BJP ने कहा, ‘रंग दे बसंती चोला’ गाना गाकर मनाएं होली, शहीदों का करें सम्मान

अब भाजपा चाहती है कि देश का हर नागरिक 'मेरा रंग दे बसंती चोला' गाना गाकर होली मनाएं, इससे देश के लिए बलिदान की भावना जागेगी।
Author नई दिल्ली | March 23, 2016 13:14 pm
भाजपा सांसद जगदंबिका पाल के दिल्ली निवास पर होली खेलते केंद्रीय मंत्री हर्ष वर्धन और कलराज मिश्र। (Express Photo By Anil Sharma)

भारतीय जनता पार्टी कैम्पेन करके ‘राष्ट्रवाद’ के मुद्दे को जिंदा रखना चाहती है। अब पार्टी चाहती है कि देश का हर नागरिक ‘मेरा रंग दे बसंती चोला’ गाना गाकर होली मनाएं, इससे देश के लिए बलिदान की भावना जागेगी। केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता प्रकाश जावेड़कर का कहना है कि कांग्रेस सांसद शशि थरूर द्वारा कथित तौर पर कन्हैया कुमार की तुलना भगत सिंह से करने के बाद पार्टी ने भगत सिंह पर तीन दिनों के कैम्पेन की योजना बनाई है, यह उसी का हिस्सा होगा।

Read Also: राजनीति में मशहूर है इन पांच नेताओं की होली

साथ ही उन्होंने 23 मार्च 1931 को ब्रिटिश शासन द्वारा राजगुरु, भगत सिंह और सुखदेव को फांसी दिए जाने का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस ने शहीदी दिवस से दो दिन पहले शहीदों का अपमान किया है। पार्टी ने अपने सभी कार्यकर्ताओं से कहा है कि कांग्रेस द्वारा भगत सिंह का अपमान किए जाने की आलोचना करते हुए बुधवार को शहीदी दिवस मनाएं।

Read Also: गुजरातः BJP ने कहा, दोबारा सक्रिय हो गए राष्ट्रविरोधी तत्व, पार्टी करेगी भारत माता गौरव कूच का आयोजन

जावेड़कर ने बताया कि 24 मार्च को पूरे देश में ‘मेरा रंग दे बसंती चोला’ गाना गाकर होली मनाई जाएगी। 25 मार्च को शहीदों का अपमान करने वालों के पुतले जलाकर आक्रोश दिवस का आयोजन किया जाएगा। पार्टी कार्यकर्ता उन सब का पुतला जलाएंगे, जिन्होंने शहीदों का अपमान किया है। गौरतलब है कि रविवार को जेएनयू कैम्पस में शशि थरूर ने अपने भाषण में कहा था कि, जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और भगत सिंह में कुछ समानताएं हैं। हालांकि, कांग्रेस ने थरूर के बयान से दूरी बना ली।

Read Also: किसानों को होली का उपहारः जेटली ने लॉन्च की ये दो अहम योजनाएं

जावेड़कर ने मांग की है कि कांग्रेस और थरूर को माफी मांगनी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस कर क्या रही है? पिछले 12 साल से मोदी का विरोध कर रही थी और दो साल से मोदी के नेतृत्व में विकास का विरोध कर रही है। उसके बाद यह जेएनयू में लगाए गए भारत विरोधी नारों का समर्थन करती है और अब शहीदों का अपमान कर रही है। राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस की यह पहचान बन गई है।

Read Also: अकाली दल के नेता ने कहा- सिख भारत माता की जय के नारे नहीं लगा सकते

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. J
    Jashvindra Chauhan
    Mar 23, 2016 at 11:29 am
    हाथ से सत्ता गयी और कुछ नहीं होता है इस ी का मतलब....
    (0)(0)
    Reply