भारत का नंबर 1 दुश्मन चीन है, पाकिस्तान नहीं- बोले सीडीएस बिपिन रावत

जनरल बिपिन रावत ने कहा कि गलवान जैसी घटना या इस तरह के किसी भी दुस्साहस का जवाब देने के लिए भारतीय सेना तैयार हैं। अगर चीन ने इस तरह का दुस्साहस फिर किया तो उसे उसी की भाषा में जवाब मिलेगा।

CDS bipin rawat, indian army
जनरल बिपिन रावत ने कहा कि हमारी कोशिश है कि दोनों देश की सेनाएं अप्रैल 2020 के पहले की स्थिति में आ जाएं(फोटो सोर्स: फाइल/PTI)।

एक तरफ कश्मीर में पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवाद और दूसरी तरफ लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल(एलएसी) पर चीनी सेना की साजिशों का भारत बड़ी मजबूती से सामना कर रहा है। इस बीच चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि पाकिस्तान भारत का नंबर वन दुश्मन नहीं बल्कि चीन है।

बता दें कि पिछले कई महीनों से भारत-चीन सीमा पर गतिरोध बना हुआ है। इस स्थिति को लेकर बिपिन रावत ने टाइम्स नाउ समिट के कार्यक्रम में कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत का प्राथमिक फोकस डी-एस्केलेशन से पहले विघटन है क्योंकि चीन हमारा नंबर एक दुश्मन है, न कि पाकिस्तान। रावत ने कहा कि भारत को आने वाले समय में दो मोर्चों पर दुश्मनों का सामना करना पड़ सकता है।

वहीं अरुणाचल प्रदेश सीमा पर गांव बसाने की खबरों पर उन्होंने कहा कि चीनी सेना ने पुरानी संरचना पर नया ढांचा बनाया है। वो अपनी सीमा क्षेत्र का विकास कर रहे हैं। आज लोगों को सैटेलाइट एवं गूगल के जरिए तस्वीरें मिल रही हैं। इस तरह की तस्वीरें पहले नहीं मिलती थीं। किसी तस्वीर के सामने आने से कब्जे की बात सामने आ जाती है।

उन्होंने कहा कि चीनी सेना सीमा पर विकास कर रही है तो भारत भी लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) और उसके आसपास के क्षेत्रों में विकास कर रहा है। हम एलएसी के आस-पास पहले सड़कों का निर्माण नहीं करते थे। लोगों में भय था कि निर्माण करने से चीनी सैनिक आकर इसे तोड़ देंगे लेकिन अब ऐसा नहीं है।

सीडीएस बिपिन रावत ने कहा कि गलवान घाटी की घटना के बाद भारत और चीन सैनिकों के बीच कई बार आमना-सामना हुआ। दोनों देशों की कोशिश है कि सैनिकों को इतने करीब आने से रोका जाये। हमारी कोशिश है कि दोनों देश की सेनाएं अप्रैल 2020 के पहले की स्थिति में आ जाएं। उन्होंने कहा कि पूर्वी लद्दाख में कुछ जगहों पर डी-एस्केलेशन की प्रक्रिया धीमी चल रही है। इसमें लगने वाले समय के चलते चीन ने एलएसी के अंदरूनी भागों में स्थायी ढांचे बनाए हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
योगी आदित्यनाथ और भाजपा प्रत्याशी समेत अनेक लोगों पर मुकदमा
अपडेट