ताज़ा खबर
 

नीरव मोदी के बाद दूसरा बड़ा घपला: 14 बैंकों को 3500 करोड़ से ज्यादा का चूना, CBI ने लिया एक्शन

इसे जनवरी 2018 के बाद किसी सरकारी बैंक के साथ की गई सबसे बड़ी धोखाधड़ी माना जा रहा है।

Author नई दिल्ली | Published on: January 22, 2020 10:05 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

सीबीआई ने फ्रॉस्ट इंटरनेशनल और उसके निदेशकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। जांच इकाई ने मंगलवार को 13 स्थानों पर कंपनी के वर्तमान और पूर्व निदेशकों से जुड़ी परिसंपत्तियों पर छापा मारा। कंपनी और उसके निदेशक 14 बैंकों के समूह के साथ 3,592 करोड़ रुपए से अधिक की कथित धोखाधड़ी के मामले में सीबीआई की कार्रवाई का सामना कर रहे हैं। सीबीआई अधिकारियों ने कहा कि यह कार्रवाई बैंक ऑफ इंडिया के कानपुर क्षेत्रीय कार्यालय की शिकायत पर की गई। बैंक का आरोप है कि निदेशकों का कोई वास्तविक कारोबार नहीं है फिर भी उन्होंने कर्ज लेने के लिए व्यापारिक गतिविधियों की आड़ ली।

इसे जनवरी 2018 के बाद किसी सरकारी बैंक के साथ की गई सबसे बड़ी धोखाधड़ी माना जा रहा है। जनवरी 2018 में नीरव मोदी और मेहुल चौकसी का पंजाब नेशनल बैंक के साथ 13,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला सामने आया था। बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत के आधार पर सीबीआई ने फ्रॉस्ट इंटरनेशनल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। बैंक ने कहा कि कंपनी ने ऋण भुगतान में जनवरी 2018 से देर करनी शुरू कर दी थी जो बाद में गैर-निष्पादित ऋण में तब्दील हो गया।

सीबीआई ने इस सिलसिले में कंपनी और उसके निदेशक उदय देसाई, सुजय देसाई और अन्य लोगों के परिसरों पर मंगलवार (21 जनवरी, 2020) को छापा मारा। यह कार्रवाई मुंबई, दिल्ली और कानपुर में 13 स्थानों पर की गई। कंपनी और इसके निदेशकों के अलावा 11 अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। इसमें तीन कंपनियां कानपुर की आर. के. बिल्डर्स, ग्लोबिज एक्जिम प्राइवेट लिमिटेड और निर्माण प्राइवेट लिमिटेड शामिल हैं। इन कंपनियों ने फ्रॉस्ट इंटरनेशनल के लिए कारपोरेट गारंटी दी थी।

अधिकारियों ने कहा कि बैंक का आरोप है कि निदेशकों ने बैंक ऑफ इंडिया के अगुवाई वाले ऋणदाता बैंकों के समूह को भुगतान करने में चूक की है। उन्होंने कहा कि कंपनी और उसके निदेशकों, जमानतदारों और अन्य अज्ञात लोगों ने फर्जी दस्तावेज जमा किए और बैंक से ली गई पूंजी की हेराफेरी कर उसे दूसरी जगह भेज दिया। अधिकारियों ने कहा कि कंपनी और उसके निदेशकों ने बैंक समूह के साथ 3,592.48 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सीएम केजरीवाल के खिलाफ 66 उम्मीदवार, कोई टीवी चैनल का मालिक तो कोई नामी वकील
2 “शाहीन बाग” बना वासेपुर: मुस्लिम महिलाओं का संदेश- मां और मुल्क बदला नहीं जाता
3 Weather Update: दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में कोहरे और शीतलहर का कहर बरकरार, अगले 48 घंटे बारिश की आशंका
ये पढ़ा क्या?
X