ताज़ा खबर
 

देश नहीं छोड़ पाएंगी चंदा कोचर, सीबीआई ने जारी किया लुक आउट नोटिस

सीबीआई की एफआईआर में चंदा कोचर का नाम भी शामिल कर लिया गया है, इसलिए लुक आउट नोटिस में भी चंदा कोचर का नाम शामिल किया गया है।

चंदा कोचर के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी होने के बाद वह देश छोड़कर नहीं जा सकेंगी। (image source-ani)

सीबीआई ने आईसीआईसीआई- वीडियोकॉन भ्रष्टाचार मामले में ICICI बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर वेणुगोपाल धूत के खिलाफ लुक आउट नोटिस (LoC) जारी किया है। लुक आउट नोटिस जारी होने के बाद चंदा कोचर समेत तीनों लोग देश छोड़कर नहीं जा सकेंगे। सीबीआई ने देश की सभी इमीग्रेशन अथॉरिटीज, एअरपोर्ट्स और एंट्री-एग्जिट पॉइंट को इस संबंध में सूचित कर दिया है कि चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन ग्रुप एक एमडी वेणुगोपाल धूत देश से बाहर जाने की कोशिशों में जुटे हैं।

बता दें कि आईसीआईसीआई बैंक द्वारा साल 2009 से अक्टूबर, 2011 के बीच वीडियोकॉन ग्रुप को 1,875 करोड़ रुपए के 6 लोन दिए गए थे। इस लोन में कथित भ्रष्टाचार की बात सामने आयी थी। शिकायत के बाद इस मामले में एक एफआईआर दर्ज करायी गई थी। जिसमें दीपक कोचर, वेणुगोपाल धूत के साथ ही चंदा कोचर का नाम भी शामिल है। सीबीआई ने पिछले साल ही दीपक कोचर और वेणुगोपाल धूत के खिलाफ प्रारंभिक जांच के बाद लुक आउट नोटिस जारी कर दिया था। अब एक बार फिर इन दोनों के खिलाफ लुक आउट नोटिस को रिवाइव किया गया है। अब चूंकि सीबीआई की एफआईआर में चंदा कोचर का नाम भी शामिल कर लिया गया है, इसलिए लुक आउट नोटिस में भी चंदा कोचर का नाम शामिल किया गया है।

हालांकि सीबीआई अधिकारियों ने इस पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया कि चंदा कोचर के खिलाफ लुक आउट नोटिस क्या सिर्फ अलर्ट के लिए जारी किया गया है या फिर उन्हें हिरासत में भी लिया जा सकता है? टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के अनुसार, सीबीआई जल्द ही चंदा कोचर, दीपक कोचर और वेणुगोपाल धूत को पूछताछ के लिए भी बुला सकती है। चंदा कोचर पर आरोप है कि उन्होंने वेणुगोपाल धूत से रिश्वत ली और उनके पति दीपक कोचर की निजी कंपनियों में मदद मांगी थी। सीबीआई के अनुसार, आईसीआईसीआई बैंक ने 7 सितंबर, 2009 को वीडियोकॉन ग्रुप की कंपनी वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स को 300 करोड़ रुपए का लोन वितरित किया था। इसके एक दिन बाद ही वेणुगोपाल धूत ने दीपक कोचर की कंपनी NuPower Renewables को 64 करोड़ रुपए की पेमेंट की थी।

गौरतलब है कि मनी लॉन्ड्रिंग के केस में ईडी भी चंदा कोचर से पूछताछ कर सकती है। ईडी चंदा कोचर और दीपक कोचर की संपत्तियों की भी जांच कर सकती है। ईडी ने हाल ही में इन्कम टैक्स के साथ बैठक की थी, जो कि कथित टैक्स अनियमितता के मामले में कोचर दंपत्ति के खिलाफ जांच कर रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App