ताज़ा खबर
 

CBI केस: घूस के आरोप पर SC को CVC ने सौंपी रिपोर्ट, अगली सुनवाई 16 नवंबर को

26 अक्टूबर को बीती सुनवाई में कोर्ट ने सीवीसी से इस बाबत दो हफ्तों में जांच पूरी कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया था, जिसमें सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा पर घूसखोरी के आरोप लगे हैं।

सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना पर घूसखोरी के आरोप लगे हैं। (फाइल फोटो)

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) में मचे उथल-पुथल को लेकर सोमवार (12 नवंबर) को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट में इस दौरान केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के चार अधिकारी मौजूद रहे, जिन्होंने घूस के आरोपों से जुड़ी जांच रिपोर्ट की तीन प्रतियां सीलबंद लिफाफे में कोर्ट को सौंपी। कोर्ट ने इस रिपोर्ट के बारे में कोई जिक्र नहीं किया। सीवीसी अधिकारियों ने इसके अलावा सीबीआई के अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव के फैसलों से जुड़ी रिपोर्ट भी कोर्ट को दी।

सूत्रों के हवाले से कुछ टीवी रिपोर्ट्स में दावा किया कि सीवीसी को पैसों (घूस) के लेन-देन से जुड़े सीधे सबूत नहीं मिले, जबकि कुछ वेबसाइट्स पर खबरों में कहा गया कि सीवीसी ने वर्मा पर लगे आरोप नकार दिए। कोर्ट में सीवीसी की रिपोर्ट पढ़ने की बारी आई, तो इसे शुक्रवार तक के लिए टाल दिया गया। यानी अब इस मामले पर अगली सुनवाई 16 नवंबर को होगी।

सुनवाई टलने पर यह बात भी सामने आई कि रिपोर्ट में देरी को लेकर चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) ने नाराजगी जाहिर की, जिस पर सॉलीसिटर जनरल तुषार ने माफी मांगी। इससे पहले, 26 अक्टूबर को बीती सुनवाई में कोर्ट ने सीवीसी से दो हफ्तों में घूसकांड को लेकर जांच पूरी कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया था। आपको बता दें कि देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई के दो शीर्ष अधिकारियों ने एक-दूसरे पर रिश्वतखोरी के आरोप लगाए हैं।

आरोप-प्रत्यारोप के दौर के चलते सीबीआई की साख प्रभावित हुई, जिसके चलते केंद्र सरकार ने डायरेक्टर आलोक वर्मा और संगठन में नंबर दो ओहदा रखने वाले स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को छुट्टी (फोर्स लीव) पर भेज रखा है। वर्मा ने इसी को लेकर कोर्ट में याचिका के जरिए केंद्र के फैसले को चुनौती दी थी।

अस्थाना ने वर्मा पर मीट कारोबारी मोइन कुरेशी से रिश्वत लेने के आरोप लगाए, जबकि वर्मा का दावा है कि अस्थाना भ्रष्टाचार संबंधित गतिविधियों में लिप्त हैं। यह सारा बवाल पिछले माह तब शुरू हुआ, जब अस्थाना और कुछ अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। इनमें डीएसपी देवेंद्र कुमार का नाम भी शामिल है, जो इस वक्त घूस के मामलों को लेकर सीबीआई हिरासत में हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App