ताज़ा खबर
 

खाली एटीएम पर चौतरफा घिरी मोदी सरकार, नेताओं ने साधा निशाना तो लोग भी कर रहे प्रहार

राहुल गांधी ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि मोदी जी ने बैंकिंग सिस्टम को बर्बाद कर दिया। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर ताना मारा की 'साहब' कर रहे विदेश में ऐश,जनता खोज रही बैंकों में कैश !

देश के कई राज्यों में ATM खाली पड़े हैं। ‘कैश क्रंच’ से जनता परेशान है।

अचानक आधा हिन्दुस्तान पाई-पाई के लिए तरसने लगा है और एटीएम के बाहर लटके तालों से सन्नाटा सा मालूम पड़ने लगा है। जेहन में साल 2016 की नोटबंदी कौंधने लगी है और डर सताने लगा है एक फिर से जेब के ‘कैश लेस’ हो जाने का। अफरा-तफरी में लोग बैंकों और एटीमों की दौड़ लगा रहा है और फिर खाली हाथ लौटकर खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। देश की आर्थिक परेशानियों का हल निकालने वाले वित्त मंत्रालय के मंत्री अरुण जेटली ने भी मान लिया है कि हां वन्स अगेन इट्स कैश क्रंच।

हालांकि उन्होंने भरोसा भी दिला दिया है कि समस्या ज्यादा लंबी नहीं चलेगी जल्द ही इसका हल निकाल लिया जाएगा। फिलहाल यह समस्या ज्यादा देर तक ना चले? यह देखना मंत्रालय का काम है लेकिन इस कैश किल्लत को लेकर जनता और हमारे नेता दोनों की ही बातों का लंबा सिलसिला चल पड़ा है। खासकर सोशल मीडिया पर एटीएम में धन की कमी को लेकर भूचाल आ गया है। कई तरह के कॉमेन्ट्स लगातार सोशल मीडिया पर आ रहे हैं।

सबसे पहले बात राजनीतिक प्रतिक्रियाओं की: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि मोदी जी ने बैंकिंग सिस्टम को बर्बाद कर दिया। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर ताना मारा की ‘साहब’ कर रहे विदेश में ऐश,जनता खोज रही बैंकों में कैश ! बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया की बिहार में पिछले कई दिनों से अधिकांश एटीएम बिल्कुल खाली हैं। लोगों के सामने नकदी की गंभीर संकट है। लोगों का बैंकों में जमा अपना पैसा भी बैंक जरूरत के हिसाब से उन्हें नहीं दे रहे हैं। नोटबंदी घोटाले का असर इतना व्यापक है कि बैंको ने हाथ खड़े कर रखे हैं। नए नोट सर्कुलेशन से क्यों गायब हैं?

टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि यह आर्थिक आपातकाल है। पीएम ने कहा था कि 50 दिन के बाद सबकुछ ठीक हो जाएगा लेकिन डेढ़ साल के बाद भी सबकुछ ठीक नहीं हो सका। टीएमसी अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि कई सारे राज्यों में कैश के किल्लत से जुड़ी रिपोर्ट आ रही है जो नोटबंदी के दिनों की याद दिला रहा है। क्या इस देश में कोई आर्थिक आपातकाल है? आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष ने ट्वीट किया की ‘देश की अच्छी भली अर्थव्यवस्था को बरबाद करने के लिये मोदी जी का शुक्रिया । नौकरी नहीं, रोज़गार नहीं, अब कैश भी नहीं’

जनता की प्रतिक्रिया: इधर ‘कैशलेस एटीएम’ पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए एक यूजर ने ट्विटर पर लिखा कि कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव में पैसा बहाया जा रहा है इसीलिए कैश की कमी हो गई है। एक दूसरे यूजर ने लिखा कि यह कैश क्रंच सरकार ने जानबूझ कर कराया है ताकि डिजिटल पेमेंट की संख्या बढ़ाई जा सके। एक यूजर ने लिखा कि कैशलेस एटीएम से देश परेशान है। लेकिन इस बीच बीजेपी की आय 570 करोड़ रुपये से बढ़कर 1034 करोड़ रुपये हो गई है।

कुछ यूजर्स ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि कठुआ और उन्नाव गैंगरेप के मुद्दे पर सरकार बैकफुट पर थी, इसी से ध्यान भटकाने के लिए यह समस्या खड़ी की गई है। अमानुतुल्लाह नाम के एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि यह आर्थिक आपातकाल की तरह है। नेहा नाम की एक और ट्विटर उपयोगकर्ता ने लिखा कि ऐसा लग रहा है कि एक बार फिर से नोटबंदी हो गई है। मशहूर लेखक चेतन भगत ने लिखा कि अल्कोहल के लिए ड्राइ डे शब्द का इस्तेमाल किया जाता है। अब कैश के लिए ड्राई डे है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App