पंजाब में चल रही सियासी उठापटक के बीच अमित शाह से मिले अमरिंदर सिंह, बोले- मुलाकात में किसानों के मुद्दों पर चर्चा हुई

पंजाब में चल रहे सियासी घमासान के बीच कांग्रेस से नाराज कैप्टन अमरिंदर सिंह, बुधवार (29 सितंबर) को दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे। शाह के आवास पर यह मुलाकात करीब 45 मिनट तक चली।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के घर पर मुलाकात करने पहुंचे कैप्टन अमरिंदर सिंह। Photo Source- Twitter @drapr007

पंजाब में चल रहे सियासी घमासान के बीच कांग्रेस से नाराज कैप्टन अमरिंदर सिंह, बुधवार (29 सितंबर) को दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे। शाह के आवास पर यह मुलाकात करीब 45 मिनट तक चली, जिसके बाद राजनीति में उनके भविष्य को लेकर अटकलें तेज हो गई।
पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के कुछ दिनों बाद सिंह मंगलवार (28 सितंबर) को दिल्ली पहुंचे थे। यह बैठक इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि कैप्टन ने अपने पत्ते नहीं खोले थे, लेकिन दावा किया था कि उन्होंने राजनीति नहीं छोड़ी है और वह आखिर तक लड़ेंगे।

कानूनों को निरस्त करने और MSP की गारंटी की मांग की : हालांकि कहा जा रहा है कि कैप्टन अमरिंदर ने केंद्रीय गृहमंत्री से अपील की है कि तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करके और MSP की गारंटी देकर पिछले 10 महीनों से चल रहे किसानों के आंदोलन के मुद्दे का समाधान किया जाए। अमरिंदर सिंह के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल द्वारा किये गये ट्वीट के मुताबिक, पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिला। कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन को लेकर चर्चा की और उनसे आग्रह किया कि कानूनों को निरस्त करके, एमएसपी की गारंटी देकर इस संकट का तत्काल समाधान किया जाए।

कैप्टन अमरिंदर सिंह की दोस्ती पीएम मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से पुरानी मानी जाती है। राष्ट्रीय मुद्दे पर कैप्टन कई बार पार्टी लाइन से हटकर बोल चुके हैं। कई मौके पर बीजेपी नेता भी उन्हें राष्ट्रवादी भी बता चुके हैं। ऐसे में उनके भाजपा में शामिल होने के कयासों ने जोर पकड़ लिया है।

कैप्टन ने दिया था इस्तीफा: पंजाब में पिछले कई महीनों से तकरार की स्थिति बनी हुई हैं, लंबी खींचतान के बाद नवजोत सिंह सिद्धू को अमरिंदर सिंह के साथ टकराव के बीच 18 जुलाई को कांग्रेस की पंजाब इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। अमरिंदर सिंह ने दस दिन पहले मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।

सिद्धू के इस्तीफे पर नहीं हुआ है फैसला: पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे से जुड़े घटनाक्रम को लेकर पार्टी का शीर्ष नेतृत्व नाराज है। हालांकि अभी सिद्धू के त्यागपत्र पर कोई फैसला नहीं हुआ है।

सिद्धू की नाराजगी की वजह: कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष के पद से अचानक इस्तीफा देने के एक दिन बाद चुप्पी तोड़ते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने पुलिस महानिदेशक, राज्य के महाधिवक्ता और ‘‘दागी’ नेताओं की नियुक्तियों पर बुधवार को सवाल उठाए।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट