scorecardresearch

क्या मोदी, शाह लव जिहाद को परिभाषित कर सकते हैं? ओवैसी ने बीजेपी प्रवक्ता से पूछा सवाल

यूपी में लव जिहाद को कानून बने एक महीने का समय बीत चुका है और इस कानून के तहत यूपी पुलिस ने महीने भर में 14 मामले दर्ज किए हैं और 51 लोगों की गिरफ्तारी हुई है। जिसमें से 49 लोग जेल में हैं।

Hydrabad, telangana, AIMIM, Asaduddin owaisi
AIMIM चीफ असदउद्दीन ओवैसी। (फाइल फोटो)
AIMIM नेता असदु्द्दीन ओवैसी ने बीजेपी सांसद सुधांशु त्रिवेदी से सवाल किया कि क्या गृह मंत्रालय लव जिहाद की परिभाषा दे सकता है? ओवैसी ने कहा, ”केंद्र सरकार ने कहा है कि ऐसी कोई चीज नहीं है। हम इसकी परिभाषा नहीं दे सकते हैं। आपकी सरकार को किसने ये हक दिया कि जो वयस्क हैं उनकी जिंदगी का फैसला आप करेंगे। लव जिहाद जैसी चीज भारत के संविधान के खिलाफ है। सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि एक वयस्क को यह अधिकार है कि वह अपनी जिंदगी जैसे मर्जी गुजारे।”

डिबेट में ओवैसी बोले, ”ये तो नाजीवाद है। दक्षिण अफ्रीका में भी बापू को भेदभाव का सामना करना पड़ा था। उन्हें रेल से फेंक दिया गया था। देश को किस दिशा में ले जा रहे हैं आप लोग। आपको तो देश को कानून देना चाहिए था जिसमें कि किसानों को एमएसपी की लिखित गारंटी हो।”

ओवैसी ने कहा, ”पीएम को आगे आकर कहना चाहिए था कि हम किसानों को एमएसपी दे रहे हैं। आप एमएसपी का कानून नहीं बना रहे हैं बल्कि लव जिहाद के नाम पर नफरत फैलाने का काम करते हैं। लॉकडाउन के समय पर मीडिया और कुछ लोगों ने तबलीगी जमात पर कोरोना जिहाद का आरोप लगाया। बाद में देश के अलग- अलग हाईकोर्ट ने सबको बाइज्जत बरी कर दिया। कोरोना जिहाद, लव जिहाद, यूपीएससी जिहाद झूठ है। बीजेपी के इतने सांसद हैं लेकिन वे फिर भी हिंदू भाइयों के मन में मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने चाहते हैं।”

बता दें कि मध्य प्रदेश मंत्रिमंडल ने मंगलवार को राज्य में लव जिहाद मामलों से निपटने के लिए अध्यादेश को मंजूरी दे दी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “पांच से 10 साल की कैद का प्रावधान और सामूहिक धर्म परिवर्तन के लिए कम से कम 1,00,000 रुपये का जुर्माना लगाया जा रहा है।”

एमपी सरकार ने योगी सरकार की तरह अध्यादेश का रास्ता अपनाया जिससे कानून को साफ तौर पर बदला जा सके। गौरतलब है कि यूपी में लव जिहाद को कानून बने एक महीने का समय बीत चुका है और इस कानून के तहत यूपी पुलिस ने महीने भर में 14 मामले दर्ज किए हैं और 51 लोगों की गिरफ्तारी हुई है। जिसमें से 49 लोग जेल में हैं।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.