ताज़ा खबर
 

COVID-19 से ठीक हुए मरीज को फिर हो सकता है संक्रमण? ICMR चीफ ने दिया ये जवाब

क्या वायरस के संक्रमण से एक बार स्वस्थ हो चुका मरीज क्या संक्रमण का दोबारा शिकार बन सकता है? इस बात का जवाब भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ICMR के महानिदेशक प्रोफेसर बलराम भार्गव ने दिया।

कोरोना संक्रमित शख्स की जांच करता स्वास्थ्यकर्मी। (फाइल फोटो)

पूरी दुनिया में में फैले कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच भारत में रिकवरी दर 75 प्रतिशत से ज्यादा होने की सुखद खबर यह रही है। लेकिन इस बीच सबसे बड़ा सवाल ये उठता है कि क्या वायरस के संक्रमण से एक बार स्वस्थ हो चुका मरीज क्या संक्रमण का दोबारा शिकार बन सकता है? इस बात का जवाब भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ICMR के महानिदेशक प्रोफेसर बलराम भार्गव ने दिया।

हाल ही में हांगकांग में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें संक्रमण से मुक्त हो चुका मरीज दोबारा फिर से संक्रमण से ग्रस्त हो गया। इसी घटना को मद्देनज़र रखते हुए प्रोफेसर भार्गव ने बताया कि ऐसा होना कई कारणों पर निर्भर करता है। यह संबंधित व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है। यदि यह कमजोर है तो वायरस फिर से हमला कर सकता है। स्वस्थ हो जाने के बाद भी हमें बचाव सम्बन्धी नियमों का पालन करने की आवश्यकता है।

हांगकांग में एक रोगी के दोबारा संक्रमित पाए जाने के सम्बन्ध में सूक्ष्मजीवी वैज्ञानिक डॉ केलविन काई वांग टो ने कहा कि आनुवंशिक परीक्षणों में सामने आया है कि अगस्त मध्य में स्पेन की यात्रा से हांगकांग लौटे 33 वर्षीय एक व्यक्ति में कोरोना वायरस का अलग रुप या उपप्रकार देखने को मिला है जबकि मार्च में संक्रमण की चपेट में आने के दौरान उसमें यह वायरस अन्य प्रकार का था। पहली बार व्यक्ति में हल्के लक्षण थे जबकि दूसरी बार उसमें कोई भी लक्षण नहीं हैं। हांगकांग हवाईअड्डे पर स्क्रीनिंग एवं जांच के दौरान उसके संक्रमित होने का पता चला।

टो ने आगे कहा कि यह मामला दिखाता है कि कुछ लोगों में वायरस के प्रति जीवनपर्यंत प्रतिरोधक क्षमता नहीं होती है। हमें नहीं पता कि कितने लोग दोबारा संक्रमण की चपेट में आ सकते हैं। संभवत: ऐसे बहुत से लोग हो सकते हैं।

अगर कोई व्यक्ति दूसरी बार संक्रमित होता है तो अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि उसमें गंभीर बीमारी के खिलाफ प्रतिरक्षा क्षमता होगी या नहीं क्योंकि आम तौर पर प्रतिरक्षा तंत्र पूर्व में असर डाल चुके वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी बनाना याद रखता है।

अभी तक भारत में कोरोना वायरस से संक्रमण के लगभग 32 लाख मामले आ चुके हैं। जिनमे से 58883 लोगों की मृत्यु भी हो गई है।  इसके अतिरिक्त लोग अभी तक वायरस से प्रभावित कुल मामले 7 लाख 10 हजार हैं। देश में 24 लाख से भी अधिक लोग वायरस को मात दे कर अपनी आम जिंदगी को जी रहे हैं।  ऐसे में उन्हें भी सावधान रहने की आवश्यकता है।

Next Stories
1 राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम की रिपोर्ट पर NGT से पड़ी पर्यावरण मंत्रालय को फटकार, प्रेजेंटेशन कर दी नामंजूर
2 पति के पैसों पर सिर्फ पहली पत्नी को दावा ठोंकने का अधिकार- बोला बॉम्बे HC
3 पुलवामा केसः NIA की चार्जशीट में मसूद अजहर समेत 19 के नाम, मुख्यारोपी उमर फारूख ने भारत में ऐसे की थी घुसपैठ
ये पढ़ा क्या?
X