Exclusive Audio: सुनें, इशरत मामले में गृह मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी ने गवाह को कैसे दी ट्रेनिंग - Jansatta
ताज़ा खबर
 

Exclusive Audio: सुनें, इशरत मामले में गृह मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी ने गवाह को कैसे दी ट्रेनिंग

जांच का नेतृत्‍व कर रहे अधिकारी की यह कोचिंग लोकसभा में 10 मार्च को केन्‍द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह द्वारा घोषित की गई जांच पर सवाल खड़े करती है।

Author नई दिल्‍ली | June 16, 2016 11:03 AM
इशरत और उसके साथी 2004 में हुई एक कथित फर्जी मुठभेड़ में मारे गए थे। उस समय नरेंद्र मोदी गुजरात के सीएम थे और केंद्र में यूपीए की सरकार थी। (फाइल फोटो)

25 अप्रैल को दोपहर करीब 3.45 बजे द इंडियन एक्‍सप्रेस ने वर्तमान में एडिशनल सेक्रेट्री (विदेशी) प्रसाद को फोन किया था। उनसे पूछा गया था कि सरकार ने चीनी मूल के डोलकुल इसा को वीजा देने से क्‍यों मना कर दिया। बातचीत को स्‍पष्‍ट रूप से लिखने के लिए यह कॉल रिकॉर्ड की गई थी। बातचीत के दौरान, प्रसाद ने द इंडियन एक्‍सप्रेस का फोन होल्‍ड पर रखा और दूसरे फोन पर इशरत जहां एनकाउंटर केस के गायब डॉक्‍युमेंट्स की जांच पर बात कर रहे थे। यह बातचीत भी द इंडियन एक्‍सप्रेस ने रिकॉर्ड की। वह जो भी बोल रहे थे, उससे यह साफ था कि वह किसी अधिकारी से बात कर रहे हैं जिसे अगले दिन अपना बयान देना था।

READ ALSO: इशरत जहां एनकाउंटर: गायब पेपर्स की जांच करने वाले अफसर ने गवाह को दी थी पूछताछ की ट्रेनिंग

READ ALSO: यहां पढ़ें, दोनों अधिकारियों के बीच फोन पर क्‍या बात हुई

बाद में, द इंडियन एक्‍सप्रेस ने पुष्टि की कि प्रसाद ने वाणिज्‍य मंत्रालय के अशोक कुमार, ज्‍वाइंट सेक्रेट्री (संसद, हिन्‍दी विभाग और कोर्ट केसेज की मॉनि‍टरिंग के नोडल अफसर) से बात की थी।

Ishrat Jahan, Ishrat jahan fake encounter, Ishrat jahan encounter, Ishrat Jahan fake encounter inquiry, Ishrat Jehan fake encounter panel इशरत जहां व तीन अन्‍य की 15 जून, 2004 को हत्‍या कर दी गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App