ताज़ा खबर
 

CAA पर केंद्रीय मंत्री बोले- बंगाल भी देश का हिस्सा, ममता पढ़ें इतिहास-सविधान; वहां भी लागू होगा कानून

नकवी ने ममता बनर्जी की आलोचना करते हुए कहा कि सीएम ममता बनर्जी को इतिहास और संविधान के बारे में पढ़ लेना चाहिए।

मुख्तार अब्बास नकवी ने ममता बनर्जी पर साधा निशाना। (एक्सप्रेस/ एएनआई)

संशोधित नागरिकता कानून को लेकर जारी घमासान के बीच केन्द्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर निशाना साधा है। बता दें कि सीएम ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल में संशोधित नागरिकता कानून को लागू नहीं करने की बात कह चुकी हैं। केन्द्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि “CAA संसद में पास हो चुका है, इसलिए अब यह पूरे देश में लागू होगा। पश्चिम बंगाल भी भारत का हिस्सा है, ऐसे में यह वहां भी लागू होगा।”

नकवी ने ममता बनर्जी की आलोचना करते हुए कहा कि “सीएम ममता बनर्जी को इतिहास और संविधान के बारे में पढ़ लेना चाहिए। बता दें कि ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल में संशोधित नागरिकता कानून को लागू नहीं करने की बात कह चुकी हैं।” बता दें कि मुख्तार अब्बास नकवी ने ये बातें ममता बनर्जी के उस बयान के संदर्भ में कही है, जिसमें ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में संशोधित नागरिकता कानून लागू नहीं करने की बात कही है। पश्चिम बंगाल के अलावा केरल, पंजाब, झारखंड, मध्य प्रदेश की सरकारों की तरफ से भी इसी तरह की बात कही गई है।

क्या कहता है कि संविधानः संविधान की सातवीं अनुसूची में केन्द्र और राज्यों के बीच ताकत का बंटवारा किया गया है। भारत के संघीय ढांचे में राज्यों के पास भी अधिकार हैं, लेकिन वह केन्द्रीय लिस्ट वाले अधिकारों में दखल नहीं दे सकते। संविधान में केन्द्रीय लिस्ट में 100 विषय हैं, जिन पर कानून बनाने का अधिकार केन्द्र सरकार के पास है, वहीं राज्य सरकारों के पास 52 विषय हैं, जिन पर राज्य सरकार कानून बना सकती हैं। नागरिकता संबंधी कानून का अधिकार केन्द्र सरकार के पास हैं, ऐसे में राज्य सरकार नागरिकता संबंधी कानूनों को अपने राज्य में लागू करने से इंकार नहीं कर सकते।

शनिवार को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य के दौरे पर गए, तब भी ममता बनर्जी ने पीएम मोदी के सामने संशोधित नागरिकता कानून का मुद्दा उठाया। राजभवन में पीएम मोदी के साथ मुलाकात में ममता बनर्जी ने पीएम मोदी से CAA, NRC और NPR का मुद्दा उठाया और पीएम से इन्हें वापस लेने की मांग की। हालांकि पीएम मोदी ने ममता बनर्जी से दिल्ली आकर इस संबंध में बात करने को कहा। पीएम मोदी से मुलाकात के बाद ममता बनर्जी टीएमसी स्टूडेंट विंग के सीएए के खिलाफ जारी धरने-प्रदर्शन में शामिल हुई।

पीएम मोदी के साथ मीटिंग के बारे में बताते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि “वह मेरे मेहमान हैं, इसलिए मैं नहीं जानती कि क्या यह मुद्दा उठाना सही था या नहीं, लेकिन मैंने उन्हें साफ बता दिया है कि बंगाल के लोग सीएए, एनपीआर और एनआरसी की निंदा करते हैं। हम देश के लोगों के बीच दुश्मनी नहीं चाहते हैं और उन्हें अपनी मातृभूमि से दूर नहीं जाने देंगे। सरकार को एनआरसी और सीएए पर फिर से विचार करना चाहिए।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आंध्र प्रदेशः सरकारी अस्पताल में नहीं मिला डॉक्टर, तो सड़क पर हुई डिलीवरी, साड़ियों का घेरा बना राहगीरों ने की महिला की मदद
2 VIDEO: रेलवे बना रहा कुतुबमीनार व एफिल टॉवर से भी ऊंचा ब्रिज, कश्मीर को जोड़ने के लिए चिनाब नदी पर दुनिया का सबसे ऊंचा रेल पुल
3 JNU हिंसाः Whatsapp ग्रुप के 7 और लोगों की शिनाख्त, छात्र अक्षत अवस्थी पर कसा शिकंजा; पूछताछ को भेजा समन
ये पढ़ा क्या?
X
Testing git commit