ताज़ा खबर
 

‘जितना पूछा, उतनी ही गाली दी, घुटने और पेट पर बरसाए डंडे’, मुस्लिम महिला ने सुनाई लखनऊ में पुलिसिया जुल्म की दास्तां

CAA Protest: पुलिस के अधिकारिक बयान में कहा गया है कि अबतक उत्तर प्रदेश में अबतक 1100 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 5,558 लोगों को एहतियात के तौर पर हिरासत में लिया गया है।

NRC, CAA, BJP,Lucknow Police पुलिस के अधिकारिक बयान में कहा गया है कि अबतक उत्तर प्रदेश में अबतक 1100 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 5,558 लोगों को एहतियात के तौर पर हिरासत में लिया गया है। (सांकेतिक तस्वीर-PTI)

CAA Protest: नागरिकता संशोधित कानून और एनआरसी के विरोध प्रदर्शन के दौरान उत्तर प्रदेश के कई जिलों में हिंसा की घटनाएं सामने आई। प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा को लेकर स्थानीय लोगों ने पुलिस पर भी ज्यादती के आरोप लगाए हैं। द प्रिंट की एक खबर के अनुसार 19 दिसंबर को लखनऊ में हुई हिंसा के दौरान रजिया खातून के साथ पुलिस बर्बरता से पेश आई।

खातून अपनी आप बीती सुनाती हैं। 65 वर्षीय खातून कहती हैं कि 19 दिसबंर को उनके दौलतगंज स्थित आवास पर दो लोग अचानक घुसे और छत कीओर भागे। उनका पीछा करते हुए पुलिस भी उनके पीछे आई, घर में दाखिल होने के बाद पुलिस ने उन लोगों को ढूंढने के बजाए हम लोगों पर लाठियां बरसाने लगी। अपने सूजे हुए घुटनों को दिखाते हुए रजिया खातून कहती हैं कि ‘जितना पूछा, उतनी ही गाली दी, घुटने और पेट पर बरसाए डंडे’ पुलिस के लोगों ने हमारे साथ बहुत जुर्म किया।

खातून की बहू इखतारा ने भी लखनऊ पुलिस पर घर में तोड़फोड़ का आरोप लगाया। इखतारा कहती हैं कि, पुलिस के आने पर हमने कहा कि हमारा उन लोगों से कोई लेना देना नहीं है आप जाकर उन्हें गिरफ्तार कर सकते हैं लेकिन पुलिस के लोगों ने एक ना सुनी और घर में लगातार तोड़फोड़ करते रहे।

दौलतगंज के स्थानीय लोगों का कहना है कि प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के बाद काफी कुछ बदल गया है। अब दुकानें शाम को 6 बजे ही बंद हो जाती हैं। औरतें पहले खरीदारी के लिए जाया करती थी लेकिन हिंसा के बाद से औरतों ने घर से बाहर निकलना बंद कर दिया है।

नाम ना बताने की शर्त पर एक शख्स कहता है कि पुलिस ने कई जगहों पर पोस्टर लगाए हैं जिसमें कई लोगों की फोटो है और उन्हें हिंसक प्रदर्शन के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। उस शख्स का कहना है कि पुलिस को कैसे पता की भीड़ में कौन हिंसक प्रदर्शनकारी था कौन नहीं… यह पोस्टर लोगों की जिंदगी पर असर डालेगा और निर्दोष लोगों की छवि धूमिल करेगा।

बता दें कि इस प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा को लेकर पुलिस पर और भी जगहों पर बर्बरता से पेश आने का आरोप लगाया गया है। पुलिस के अधिकारिक बयान में कहा गया है कि अबतक उत्तर प्रदेश में अबतक 1100 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 5,558 लोगों को एहतियात के तौर पर हिरासत में लिया गया है। प्रदर्शन के दौरान अबतक 19 लोगों की मौत हुई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 “सोनिया- मनमोहन की सरकार में आलिया, मालिया, जमालिया जवानों के सिर काट ले जाते थे”, लेकिन PM उफ तक नहीं करते: अमित शाह
2 झारखंड में BJP सरकार गिरते ही RIMS में लगा लालू प्रसाद यादव का दरबार, कई नेता पहुंचे
3 Maharashtra Police की अनोखी पहल, महिला पुलिसकर्मियों को ड्यूटी के बहाने बुलाकर दिखाई Mardaani 2; ये था मकसद
ये पढ़ा क्या?
X