ताज़ा खबर
 

CAA-NRC Shaheen Bagh Protest: फिर उसी मोड़ पर शाहीनबाग? 70 दिन बाद एक गुट ने खोला रास्ता, दूसरे ने करा दिया बंद

Shaheen Bagh Protest CAA NRC : साउथ ईस्ट के डीसीपी के मुताबिक रोड नंबर 9 को प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने खोल दिया लेकिन बाद में एक अन्य समूह ने इसे बंद कर दिया।

प्रदर्शनकारियों ने खोली एक सड़क। फोटो: ScreenGrab/ANI

CAA-NRC Shaheen Bagh Protest: संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ बीते 70 दिनों से बंद शाहीन बाग का एक रास्ता शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने खोल दिया हालांकि प्रदर्शनकारियों के दूसरे ग्रुप ने इसे कुछ ही देर में बंद भी कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने कालिंदी कुंज 9 नंबर सड़क के सामने से बैरिकेडिंग हटाई लेकिन बाद में इसे बंद कर दिया गया। हालांकि एक अन्य समूह ने बैरिकेटिंग का एक छोटा हिस्सा खोल दिया। यह रास्ता नोएडा से फरीदाबाद की तरफ जाता है।

साउथ ईस्ट के डीसीपी के मुताबिक रोड नंबर 9 को प्रदर्शनकारियों के एक  समूह ने खोल दिया लेकिन बाद में एक अन्य समूह ने इसे बंद कर दिया। इसके बाद प्रदर्शनकारियों के एक और समूह ने बैरेकेडिंग का छोटा हिस्सा खोल  दिया। सभी प्रदर्शनकारियों की इस पर सहमति है, अब तक इसपर कोई स्पष्टता नहीं है।’

वहीं सुप्रीम कोर्ट द्वारा शाहीन बाग के धरने प्रदर्शन पर बातचीत के लिए नियुक्त किए गए वार्ताकारों और प्रदर्शनकारियों के बीच चौथे दिन भी सहमति नहीं बन पायी। शनिवार को वार्ताकार साधना रामचंद्रन फिर से शाहीन बाग पहुंची। जहां प्रदर्शनकारियों ने कई मांगें उनके सामने रखीं, लेकिन बातचीत आखिर में बेनतीजा रही।

शाहीन बाग के धरने प्रदर्शन को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त मध्यस्थता पैनल में शामिल वार्ताकार साधना रामचंद्रन ने कहा है कि हम यहां शाहीन बाग के धरने प्रदर्शन को खत्म कराने के लिए नहीं आए हैं, हम सिर्फ यहां रास्ता खुलवाने के लिए आए हैं।

#WATCH Delhi: Celebrations underway as protestors open Noida-Kalindi Kunj Road via Road No. 9 (Okhla road) #ShaheenBaghProtests pic.twitter.com/UIqL4ms6a5

एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने शाहीन बाग विरोध प्रदर्शन पर कहा है कि वहां लोग संविधान बचाने के लिए निकले हैं। ओवैसी ने शाहीन बाग को ऑर्गेनिक प्रोटेस्ट यानि कि अपनी तरह का खास धरना प्रदर्शन करार दिया है। ओवैसी ने एनपीआर को भी मुस्लिम विरोधी साथ ही गरीब विरोधी बताया है।

Live Blog

Highlights

    14:08 (IST)23 Feb 2020
    महिलाओं ने तिरंगा लेकर 'आजादी' के नारे लगाए

    विरोध प्रदर्शन कर रहीं महिलाओं ने तिरंगा लेकर 'आजादी' के नारे लगाए और सरकार से सीएए को वापस लेने की मांग की। कानून-व्यवस्था को देखते हुए प्रशासन ने मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया है। प्रदर्शनकारियों के सड़क पर बैठने की वजह से इधर से लोगों की आवाजाही बंद हो गई है। 

    13:58 (IST)23 Feb 2020
    जाफराबाद मेट्रो स्टेशन बंद हुआ

    रविवार को जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए गए। इस स्टेशन पर ट्रेनों का ठहराव भी नहीं होगा। इस बात की जानकारी दिल्ली  मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने ट्वीट कर दी। डीएमआरसी ने लिखा 'जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं। इन स्टेशनों पर ट्रेन नहीं रुकेगी।'

    11:47 (IST)23 Feb 2020
    शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन का औचित्य नहीं: थावर चंद गहलोत

    शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन पर केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा, ‘‘लोगों को अपनी समस्याओं के हल के लिए प्रदर्शन करने का हक है लेकिन इस प्रदर्शन का कोई औचित्य नहीं है। सीएए किसी के खिलाफ नहीं है। यह किसी की नागरिकता छीनने के लिए नहीं है, बल्कि नागरिकता देने के लिए है।’’ उन्होंने कहा कि सीएए के खिलाफ ये प्रदर्शन जानबूझकर भारत सरकार की उपलब्धियों को दबाकर लोगों को भ्रमित करने के प्रयास हैं जो असफल साबित होंगे।

    इस बयान को यहां पहले भूलवश राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत का बता दिया गया था। इस भूल के लिए हमें खेद है।

    थावर चंद गहलोत ने शनिवार को यह भी कहा था, ‘‘देश विरोधी नारे कोई भी लगाए, निंदनीय है। जो राजनीतिक दल ऐसे लोगों का समर्थन करते हैं, मैं उनकी निंदा करता हूं और उनको सलाह देता हूं कि जो पाकिस्तान समर्थित नारे लगाते हैं और देश विरोधी बातें करते हैं, उनको समर्थन देना बंद करें।"

    04:11 (IST)23 Feb 2020
    उत्तर प्रदेश की तरफ बंद जारी

    नोएडा को दक्षिणपूर्वी दिल्ली और हरियाणा में फरीदाबाद तक जोड़ने वाली सड़क को शाहीन बाग में सीएए विरोधी प्रदर्शन के मद्देनजर गत 15 दिसम्बर से बंद किया हुआ है। पुलिस के अनुसार प्रदर्शनकारियों ने कालिंदी कुंज की ओर जाने वाली एक सड़क के एक छोटे हिस्से को खोला था ताकि स्थानीय लोग अपने दोपहिया वाहनों से वहां से गुजर सके। एक अधिकारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि नोएडा यातायात पुलिस हालांकि सड़क पर उत्तर प्रदेश की तरफ प्रतिबंधों को जारी रखे हुए है।

    22:07 (IST)22 Feb 2020
    Supreme Court ने सड़क बंद रहने पर की है ये टिप्पणी

    सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा है कि शाहीन बाग में सड़क बंद होने से लोग परेशान हैं। कोर्ट ने प्रदर्शनकारियों को दूसरे स्थान पर जाने का सुझाव दिया है, जहां कोई सार्वजनिक स्थान इसके चलते बंद न हो। प्रदर्शनकारियों को मनाने और उनसे बातचीत के लिए कोर्ट ने वार्ताकारों की नियुक्ति की है।

    21:42 (IST)22 Feb 2020
    हैदराबाद में शाहीनबाग जैसा आंदोलन नहीं होने दिया जाएगा: पुलिस हैदराबाद

    देश के विभिन्न हिस्सों में सीएए विरोधी प्रदर्शनों के जारी रहने के बीच हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनि कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में शाहीन बाग जैसे आंदोलन की अनुमति नहीं दी जाएगी। शीर्ष पुलिस अधिकारी ने राजनीतिक दलों और अन्य से प्रदर्शन करने के लिए उपयुक्त प्रक्रिया के तहत अनुमति के लिए आवेदन देने का अनुरोध किया। कुमार ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'हैदराबाद में शाहीन बाग जैसी घटना नहीं है। हैदराबाद की तुलना अन्य स्थानों से मत कीजिए जहां ये सभी नकारात्मक चीजें हो रही हैं। हैदराबाद में शाहीनबाग जैसा कुछ होने नहीं दिया जाएगा.... असंभव। आम लोगों के लिए असुविधा पैदा की गयी तो हैदराबाद पुलिस कानूनी कार्रवाई करेगी।'

    21:19 (IST)22 Feb 2020
    सरकार को शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बातचीत करनी चाहिए: अरशद मदनी

    देश के प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रमुख मौलाना अरशद मदनी कहा है कि सरकार को शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बातचीत करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सीएए, एनपीआर और एनआरसी का विरोध हिन्दू-मुसलमान का मुद्दा नहीं है, बल्कि यह धर्मनिरपेक्ष संविधान को बचाने की लड़ाई है।

    20:44 (IST)22 Feb 2020
    सड़क पर उत्तर प्रदेश की तरफ प्रतिबंध जारी

    नोएडा को दक्षिणपूर्वी दिल्ली और हरियाणा में फरीदाबाद तक जोड़ने वाली सड़क को शाहीन बाग में सीएए विरोधी प्रदर्शन के मद्देनजर गत 15 दिसम्बर से बंद किया हुआ है। पुलिस के अनुसार प्रदर्शनकारियों ने कालिंदी कुंज की ओर जाने वाली एक सड़क के एक छोटे हिस्से को खोला था ताकि स्थानीय लोग अपने दोपहिया वाहनों से वहां से गुजर सके। एक अधिकारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि नोएडा यातायात पुलिस हालांकि सड़क पर उत्तर प्रदेश की तरफ प्रतिबंधों को जारी रखे हुए है।

    20:12 (IST)22 Feb 2020
    कुछ लोग भ्रम फैलाकर सौहार्द, धर्मनिरपेक्षता को नुकसान पहुंचा रहे: नकवी

    सीएए के खिलाफ शाहीन बाग में जारी विरोध प्रदर्शन को लेकर केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शनिवार को कहा कि कुछ लोग भ्रम फैलाकर देश के सौहार्द, धर्मनिरपेक्षता और संविधान के ताने-बाने को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं । भारतीय छात्र संसद के 10वें वार्षिक राष्ट्रीय सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए नकवी ने कहा, ‘‘हमारे संविधान में जहां संसद, विधानमंडल की शक्ति एवं विशेषाधिकार को अनुच्छेद 105 स्पष्ट करते हैं, वहीँ इससे पहले अनुच्छेद 51 ए मूल कर्तव्यों का उल्लेख करते हैं। भारतीय संविधान ने मूल कर्तव्यों के प्रति भी जिम्मेदारी तय की है।’’ नकवी ने कहा, ‘‘ जिस तरह से मौलिक अधिकारों के सम्बन्ध में हम जागरूक रहते हैं उसी तरह से मूल कर्तव्यों के प्रति भी हमें जिम्मेदारी समझनी होगी।’’

    19:13 (IST)22 Feb 2020
    प्रदर्शनकारियों के सड़क खोलने पर पुलिस ने दी यह जानकारी

    सीएए विरोधी प्रदर्शन के कारण शाहीन बाग में लगभग दो महीनों से बंद एक सड़क को प्रदर्शनकारियों के एक समूह द्वारा शनिवार को खोले जाने के तुरंत बाद बंद कर दिया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस उपायुक्त (दक्षिणपूर्व) आर पी मीणा ने कहा, ‘‘लगभग दो घंटे पहले प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने शाहीन बाग में सड़क संख्या नौ को फिर से खोला लेकिन एक अन्य समूह ने इसे फिर बंद कर दिया।’’ पुलिस ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने कालिंदी कुंज की ओर जाने वाली एक सड़क के एक छोटे हिस्से को खोला था ताकि स्थानीय लोग अपने दोपहिया वाहनों से वहां से गुजर सके।

    18:52 (IST)22 Feb 2020
    शाहीनबाग धरना मुस्लिम देशों का भारत के खिलाफ एक वैश्विक षड्यंत्र: भाजपा विधायक

    भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह ने राजधानी दिल्ली के शाहीनबाग में संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में हो रहे धरने को ‘‘देश को बांटने’’ के लिए मुस्लिम देशों का एक वैश्विक षड्यंत्र बताया है। सिंह ने शुक्रवार रात यहां संवाददाताओं से कहा कि सीएए और प्रस्तावित एनआरसी के खिलाफ शाहीनबाग में प्रदर्शन वैश्विक स्तर पर मुस्लिम देशों द्वारा प्रायोजित एक षड्यंत्र है।

    18:25 (IST)22 Feb 2020
    70 दिन बाद एक गुट ने खोला रास्ता, दूसरे ने करा दिया बंद

    संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ बीते 70 दिनों से बंद शाहीन बाग का एक रास्ता शनिवार शाम को प्रदर्शनकारियों ने खोल दिया हालांकि प्रदर्शनकारियों के दूसरे ग्रुप ने इसे कुछ ही देर में बंद भी कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने कालिंदी कुंज 9 नंबर सड़क के सामने से बैरिकेडिंग हटाई लेकिन बाद में इसे बंद कर दिया गया। यह रास्ता नोएडा से फरीदाबाद की तरफ जाता है।

    17:27 (IST)22 Feb 2020
    शाहीन बाग का एक रास्ता खोला गया

    शाहीन बाग का एक रास्ता शनिवार शाम को खोल दिया गया। ABP न्यूज के मुताबिक कालिंदी कुंज 9 नंबर के सामने से बैरिकेडिंग हटाई गई। यह रास्ता नोएडा से फरीदाबाद की तरफ जाता है।

    17:16 (IST)22 Feb 2020
    तीन दिन की बातचीत पर कोई हल नहीं

    वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों से अबतक तीन दिन की बातचीत की है लेकिन मसले का हल नहीं निकल सका है। सुबह साधना रामचंद्र पहुंचीं तो शाम में संजय हेगड़े प्रदर्शनकारियों को समझाने पहुंचेंगे।

    16:46 (IST)22 Feb 2020
    वार्ताकार ने कहा- किसी और जगह प्रदर्शन करें, महिलाएं बोलीं- ऐसा कतई नहीं होगा

    वार्ताकार साधना रामचंद्रन ने प्रदर्शनकारियों से अपील कि वे किसी अन्य जगह पर अपना प्रदर्शन चालू रखें लेकिन महिलाओं ने साफ मना कर दिया। साधना ने बातचीत के दौरान कहा कि क्या आपको मेरा ये आइडिया पसंद है जिसके जवाब में महिलाओं ने कहा कि वे इसे नहीं मान सकती।

    16:24 (IST)22 Feb 2020
    शाहीन बाग में व्यापार ठप!

    शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन से अबतक स्थानीय व्यापार को 150 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। क्षेत्र के मार्केट एसोसिएशन के सदस्यों का दावा है कि इनमें से 250 के करीब आउटलेट पिछले ढाई महीने से बंद हैं और लगभग 3,000 कर्मचारी प्रदर्शन से प्रभावित हुए हैं, जिनमें से अधिकांश को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है।

    15:35 (IST)22 Feb 2020
    असदुद्दीन ओवैसी ने शाहीन बाग के प्रोटेस्ट को बताया ऑर्गेनिक

    एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने शाहीन बाग विरोध प्रदर्शन पर कहा है कि वहां लोग संविधान बचाने के लिए निकले हैं। ओवैसी ने शाहीन बाग को ऑर्गेनिक प्रोटेस्ट यानि कि अपनी तरह का खास धरना प्रदर्शन करार दिया है।

    14:42 (IST)22 Feb 2020
    स्मृति ईरानी ने शाहीन बाग प्रोटेस्ट पर साधा निशाना

    केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने एक कार्यक्रम के दौरान शाहीन बाग में जारी धरने प्रदर्शन पर निशाना साधते हुए कहा कि जब बच्चे नारे लगा रहे हों कि हम मोदी को मारेंगे, तब आप क्या कहेंगे। जब लोग कहते हैं कि भारत तेरे टुकड़े होंगे, या फिर हम 15 करोड़ हैं...तब आप क्या कहेंगे।

    13:50 (IST)22 Feb 2020
    वार्ताकार वकील संजय हेगड़े ने प्रदर्शनकारियों से कहा- प्रदर्शन आपका अधिकार है

    वार्ताकार वकील संजय हेगड़े शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों को समझाने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रदर्शन करना आपका अधिकार है लेकिन आपके अधिकार के चलते किसी और के अधिकार का हनन नहीं होना चाहिए , इसलिए लोगों को दिक्कत ना हो यह सड़क खोल देनी चाहिए और प्रदर्शन किसी और जगह पर होना चाहिए।

    12:58 (IST)22 Feb 2020
    चौथे दिन भी बातचीत के लिए शाहीन बाग पहुंची साधना रामचंद्रन

    शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से मिलीं साधना रामचंद्रन..

    12:01 (IST)22 Feb 2020
    दिल्ली पुलिस ने स्वीकार किया सुरक्षा के लिए अवरोधक लगाए हैं

    दिल्ली पुलिस ने स्वीकार किया कि प्रदर्शनकारियों ने समानांतर सड़क अवरुद्ध नहीं की है लेकिन उन्होंने प्रदर्शन स्थल पर सुरक्षा देने के लिये अवरोधक लगाए हैं। एक महिला प्रदर्शनकारी ने वार्ताकारों को बताया, ‘‘इलाके की कई दूसरी सड़कें जब खुली हुई हैं तो वे हमें इस सड़क से हटाने पर क्यों जोर दे रहे हैं। दिल्ली-नोएडा को जोड़ने वाली यह एकमात्र सड़क नहीं है।’’

    11:10 (IST)22 Feb 2020
    केरल के राज्यपाल आरिफ खान ने शाहीन बाग के धरने प्रदर्शन पर साधा निशाना, बोले- यह भी एक दूसरी तरह का आतंकवाद है

    केरल के राज्यपाल आरिफ खान ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शाहीन बाग में जारी धरने प्रदर्शन की आलोचना की है। उन्होंने कहा कि "संसद के पास किसी कानून या सरकार की किसी भी पॉलिसी पर मतभेद जताने का सभी को अधिकार है और इस अधिकार का सम्मान भी किया जाना चाहिए। लेकिन अगर पांच लोग दिल्ली के विज्ञान भवन में बैठ जाएं और कहें कि जब तक संसद हमारे मुताबिक कोई प्रस्ताव पारित नहीं करती है तब तक हम नहीं उठेंगे तो यह ठीक नहीं है, यह एक दूसरी तरह का आतंकवाद है।"

    11:01 (IST)22 Feb 2020
    हैदराबाद यूनिवर्सिटी में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन पर छात्रों पर लगा जुर्माना

    हैदराबाद यूनिवर्सिटी में कुछ छात्रों ने बीते दिनों शाहीन बाग नाईट का आयोजन किया था। जिसके बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने छात्रों पर विश्वविद्यालय नियमों का उल्लंघन करने पर 5-5 हजार रुपए का जुर्माना लगा दिया है।

    10:08 (IST)22 Feb 2020
    अल्पसंख्यकों को नुकसान पहुंचाने वाली कोई गतिविधि नहीं होने देंगे :अन्नाद्रमुक

    तमिलनाडु में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) पर मुसलमानों के विरोध प्रदर्शनों के बीच सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक ने समुदाय तक पहुंच बनाने का प्रयास करते हुए शुक्रवार को कहा कि वे ऐसी कोई चीज नहीं होने देंगे जो अल्पसंख्यकों को नुकसान पहुंचाए। पार्टी ने चिर प्रतिद्वंद्वी द्रमुक पर दुष्प्रचार करके भ्रम पैदा करने का आरोप भी लगाया। अन्नाद्रमुक ने कहा कि राज्य की के पलानीस्वामी सरकार ने केंद्र सरकार को भी पत्र लिखकर कहा है कि आगामी जनगणना की प्रक्रिया में कुछ सूचनाओं और आधार जैसे दस्तावेजों से बचना चाहिए। पार्टी का इशारा परोक्ष रूप से एनपीआर की प्रक्रिया के कुछ पहलुओं को लेकर उठ रही आशंका की ओर था।

    10:06 (IST)22 Feb 2020
    हेगड़े बोले- पुलिस ने बिना किसी स्पष्ट कारण सड़क पर अवरोधक लगाए

    हेगड़े ने कहा, ‘‘हम पुलिस द्वारा नोएडा-फरीदाबाद सड़क खोले जाने से सुबह बहुत खुश थे। इससे फरीदाबाद के यात्रियों को काफी राहत मिली। हालांकि हमें सूचित किया गया कि कुछ ही देर बाद पुलिस ने किसी स्पष्ट कारण के बिना सड़क पर फिर अवरोधक लगा दिए। यह हमारे लिए काफी निराशाजनक है और हम इस बात पर जोर देते हैं कि सड़कों पर फिर अवरोधक लगाने से पुलिस की ओर से विश्वास जीतने की कोशिश विफल हो जाएगी।’’

    09:22 (IST)22 Feb 2020
    वार्ताकारों ने पुलिस की कार्रवाई से जतायी नाराजगी

    सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित मध्यस्थता कमेटी के सदस्य रामचंद्रन ने कहा, ‘‘जब हमनें सड़कों का निरीक्षण किया तो पाया कि आप (प्रदर्शनकारी) सही थे। कई सड़कें खुली हैं जिन्हें पुलिस ने बंद कर रखा है। मैं यह कहते हुए बेहद व्यथित हूं कि नोएडा-फरीदाबाद मार्ग जो शुक्रवार को खुला था उसे पुलिस ने फिर बंद कर दिया है। जिस किसी ने भी यह किया है वह अब उच्चतम न्यायालय के प्रति जवाबदेह है।’’

    09:21 (IST)22 Feb 2020
    प्रदर्शनकारियों की मांग एनआरसी नहीं आएगा, इसके लिए सर्कुलर जारी करे सरकार

    गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि एनआरसी जल्द नहीं आने जा रही, इसलिये उनसे एक सर्कुलर जारी करने को कहिए जिसमें यह बात हो कि वे अब एनआरसी नहीं ला रहे हैं। हम चाहते हैं कि अगर प्रदर्शन स्थल के बगल वाली सड़क खोली जाती है तो उच्चतम न्यायालय हमारी सुरक्षा के लिए एक आदेश जारी करे।’’

    08:37 (IST)22 Feb 2020
    प्रदर्शनकारी अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित

    एक महिला प्रदर्शनकारी ने वार्ताकारों को बताया, ‘‘सरकार सोचती है कि महिलाएं अशिक्षित हैं। हम सभी शिक्षित महिलाएं हैं जो जानती हैं कि हम किस लिये लड़ रहे हैं। हमें सीएए और एनआरसी के बारे में और जानकारी दे रहे, जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों को पीटा जा रहा है। पुलिस अगर हम पर गोली चलाने वाले लोगों को नहीं रोक सकती, तो वे ये दावा कैसे कर रहे हैं कि अगर समानांतर सड़क खुल जाती है तो वे हमारी सुरक्षा करेंगे।’’ एक अन्य महिला प्रदर्शनकारी ने कहा, ‘‘हम लिखित में चाहते हैं कि अगर हमला या गोली चलने की एक भी घटना हुई तो थानाध्यक्ष से लेकर पुलिस आयुक्त तक सभी पुलिस अधिकारियों को हटा दिया जाएगा।

    08:35 (IST)22 Feb 2020
    पुलिस ने कहा- प्रदर्शनकारियों की सुरक्षा के लिए उठाया कदम

    पुलिस के एक अधिकारी ने वार्ताकारों को बताया कि समानांतर सड़क के साथ ही कुछ अन्य सड़कों को भी प्रदर्शन स्थल को सुरक्षा मुहैया कराने के लिये बंद किया गया है। पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘हमनें प्रदर्शन स्थल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये समानांतर सड़क पर बैरीकेड लगाए हैं। अगर सड़क यात्रियों के लिये खोल दी जाती है तो हम प्रदर्शनकारियों के लिये दोगुनी सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे।’’

    08:34 (IST)22 Feb 2020
    प्रदर्शनकारियों ने कहा- पुलिस ने लगाए बैरीकेड

    प्रदर्शनकारियों ने वार्ताकारों को बताया कि उनके तंबू की समानांतर सड़क पर पुलिस ने बैरीकेड लगाए हैं । इसके अलावा शाहीन बाग-कालिंदी कुंज मार्ग को जोड़ने वाली दो अन्य सड़कों को भी अवरुद्ध किया गया है। वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों से मामले पर चर्चा के लिये पुलिस को भी मौके पर बुलाया था।

    Next Stories
    1 असम में NRC सूची पर नया विवाद, एनआरसी प्रमुख बोले- लिस्ट में अयोग्य लोग शामिल हो गए हैं, उनकी पहचान करो
    2 ‘सरकार को खतरनाक शक्तियां देता है डेटा प्रोटेक्शन बिल’, मसौदा तैयार करने वाले SC के पूर्व जज बोले-विदेशी कंपनियों का दिख रहा दबाव
    3 टीचर ने ठीक तरीके से ‘हरिपाठ’ नहीं करने पर 11 वर्षीय छात्र को पीटा, अस्पताल में भर्ती
    ये पढ़ा क्या?
    X