ताज़ा खबर
 

मुनव्वर राणा की बेटियों पर FIR, CAA पर विरोध के दौरान लेडी कॉन्स्टेबल के साथ धक्का-मुक्की का लगा आरोप

पुलिस ने आरोप लगाया कि सुमैय्या राणा और फौजिया राणा (मुनव्वर राणा की दोनों बेटियां) और दो अन्य महिलाएं घंटाघर पर मौजूद थीं और एक महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया।

शायर मुनव्वर राणा (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के घंटाघर पर CAA और NRC के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस सख्त रवैया अपना रही है। पुलिस ने शायर मुनव्वर राणा की दो बेटियों समेत प्रदर्शन कर रही 16 महिलाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया है। इन पर आरोप है कि इन्होंने एक महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया है।  बता दें कि सोमवार (20 जनवरी) को शहर के गोमती नगर के उजियारी क्षेत्र में करीब 15 महिलाएं एक दरगाह के पास बैठकर सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन रही थी। लखनऊ पुलिस ने कहा कि प्रदर्शन के माध्यम से आम लोगों के भीतर भय और भ्रम फैलाया जा रहा था। एडिशनल डीसीपी (पश्चिम लखनऊ) विकास चंद्र त्रिपाठी के मुताबिक, एफआईआर में दर्ज अज्ञात आरोपियों की पहचान की जा रही है।

100 से 125 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है:  पुलिस ने रविवार (20 जनवरी) को सीआर पीसी की धारा 144 के उल्लंघन के लिए तीन प्राथमिकी दर्ज कीं। इसमें 24 लोगों के खिलाफ नामजद और 135 अज्ञात लोगों पर एफआइआर दर्ज की गई है। दरोगा की तहरीर पर दोनों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है। यही नहीं दरोगा सेठ पाल सिंह ने भी 18 नामजद और 100 से 125 अज्ञात लोगों पर एफआइआर दर्ज कराई है।

Hindi News Live Hindi Samachar 21 January 2020: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

धारा 188 और धारा 353 के तहत मामला दर्ज: महिलाओं के खिलाफ दर्ज एफआईआर में से एक के अनुसार, पुलिस ने आरोप लगाया कि सुमैय्या राणा और फौजिया राणा (मुनव्वर राणा की दोनों बेटियां) और दो अन्य महिलाएं घंटाघर पर मौजूद थीं और एक महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया। पुलिस ने उन्हें धारा 188 (सरकारी आदेशों की अवहेलना) और धारा 353 (सार्वजनिक कर्तव्यों से बचने वाले लोक सेवक) के तहत दर्ज किया है।

शांति भंग करने के लिए महिलाओं का उकसाया: महिला कांन्स्टेबल ज्योति कुमारी ने कहा कि इस पर सुम्मैया राणा, फौजिया, रूखसाना व सफी फातिया और 10 अज्ञात प्रदर्शनकारी महिलाओं ने एक राय होकर महिला कांन्स्टेबल के साथ धक्का मुक्की की। इसी दौरान अचानक कुछ महिलाएं व पुरुष घंटाघर पर पहुंच गईं व सीएए का विरोध करने लगीं। इस दौरान लईक हसन और नसरीन जावेद ने महिलाओं को शांति भंग के लिए भी उकसाया।

Next Stories
1 Arvind Kejriwal के सामने ये हैं बीजेपी-कांग्रेस कैंडिडेट्स, दिल्ली चुनाव की सबसे हाई प्रोफाइल सीट पर ऐसा है मुकाबला
2 दिल्ली चुनाव: कांग्रेस ने बताए 7 और उम्मीदवार, अयोग्य घोषित किए गए नेता को भी दिया टिकट
3 जानिए कौन हैं कारोबारी सीसी थंपी और रॉबर्ट वाड्रा से कनेक्शन, ED ने किया है गिरफ्तार
ये पढ़ा क्या?
X