ताज़ा खबर
 

CAA पर अब मेघालय में उबाल, एक की मौत; खासी छात्रों और गैर आदिवासी गुटों में झड़प, इंटरनेट बंद

मेघालय के ईस्ट खासी हिल्स जिले में सीएए और इनर लाइन परमिट (आईएलपी) पर एक बैठक के दौरान केएसयू सदस्यों और गैर आदिवासियों के बीच झड़प हो गई। जिसके बाद शिलॉन्ग में कर्फ्यू लगा दिया गया था और छह जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई थी।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: February 29, 2020 12:32 PM
शिलॉन्ग में लगाया गया कर्फ्यू हटा दिया गया है लेकिन छह जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक जारी है। (indian express)

संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर दिल्ली में हुई हिंसा के बाद अब मेघालय में हालात बिगड़ते दिख रहे हैं। मेघालय के ईस्ट खासी हिल्स जिले में सीएए और इनर लाइन परमिट (आईएलपी) पर एक बैठक के दौरान केएसयू सदस्यों और गैर आदिवासियों के बीच झड़प हो गई। जिसके बाद शिलॉन्ग में कर्फ्यू लगा दिया गया था और छह जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई थी। इस झड़प में एक व्यक्ति मारा गया है। यह बैठक शुक्रवार को भारत-बांग्लादेश सीमा के समीप स्थित जिले के इचामति इलाके में हुई थी।

ताजा मिली जानकारी के अनुसार शिलॉन्ग में लगाया गया कर्फ्यू हटा दिया गया है लेकिन छह जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक जारी है। अधिकारियों ने बताया कि कर्फ्यू खत्म होने के बाद भी शहर में ज्यादातर दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद हैं।

दिल्ली हिंसा के वीडियो में खुलासा- जमीन पर पड़े घायल से जबरन बोलवाया ‘वंदे मातरम’ और ‘जन गण मन’

अधिकारियों ने बताया कि सीएए विरोधी और आईएलपी के समर्थन में हुई बैठक के दौरान खासी स्टूडेंट्स यूनियन के सदस्यों और गैर आदिवासियों के बीच झड़प हो गई। उन्होंने बताया कि झड़पों के बाद शिलॉन्ग और आसपास के इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया और राज्य के छह जिलों ईस्ट जयंतिया हिल्स, वेस्ट जयंतिया हिल्स, ईस्ट खासी हिल्स, री भोई, ईस्ट खासी हिल्स और साऊथ वेस्ट खासी हिल्स में शुक्रवार रात से 48 घंटों के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गई। अधिकारियों ने बताया कि एसएमएस भेजने की सीमा प्रति दिन पांच तक दी गई है।

हिंसक भीड़ में घिरे SI दिनेश की मोहम्मद साबिर ने बचाई थी जान, अफसर का बुलेट प्रूफ जैकेट हटाकर पहनाई दूसरी जैकेट, फिर यूं किया था रेस्क्यू!

मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय ने लोगों से शांत रहने और अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की है। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘मैं मेघालय में सभी नागरिकों आदिवासी या गैर आदिवासियों से शांत रहने की अपील करता हूं। अफवाहें न फैलाएं और उन पर ध्यान न दें। मुख्यमंत्री ने मुझसे बात की है। उन्होंने मुझे आवश्यक कदम उठाने का आश्वासन दिया है। अब सबसे बड़ी जरूरत कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाए रखना है।”

मेघालय के गृह मंत्री एल रिमबुई ने इचामति में घटना की निंदा की। उन्होंने कहा कि सच्चाई का पता लगाने के लिए घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि एहतियातन कदम के तौर पर कर्फ्यू लगाया गया और मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई।
(भाषा इनपुट के साथ)

दिल्ली हिंसा से जुड़ी सभी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

Next Stories
1 हिंसक भीड़ में घिरे SI दिनेश की मोहम्मद साबिर ने बचाई थी जान, अफसर का बुलेट प्रूफ जैकेट हटाकर पहनाई दूसरी जैकेट, फिर यूं किया था रेस्क्यू!
2 MP: ‘कहां छिपे हो आपलोग? यहां नफरत फैलाया जा रहा और आप चुपचाप पड़े हो’, कांग्रेस विधायक ने अपनी ही पार्टी नेताओं को ललकारा
3 Delhi Violence, CAA Protest Updates: दंगाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सामान्य हो रही स्थिति, सड़कों पर दिखी चहल-पहल
ये पढ़ा क्या?
X