ताज़ा खबर
 

उपचुनाव 2017: भारी हिंसा के बीच श्रीनगर में सिर्फ 6.5 फीसदी वोटिंग, जानिए कहां पड़े कितने वोट

श्रीनगर में रविवार को हुई हिंसा में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई है।

Author April 10, 2017 12:03 AM
श्रीनगर में वोट डालने के बाद उंगली पर लगी स्‍याही दिखाती महिला। (PTI Photo)

एक लोकसभा व 10 विधानसभा सीटों के लिए रविवार (9 अप्रैल) को मतदान हुआ। श्रीनगर की लोकसभा के अलावा दिल्ली की राजौरी गार्डन विधानसभा, कर्नाटक की नानजंगड और गुंडलूपेट विधानसभा सीट, झारखंड की लिटीपारा, राजस्थान की धौलपुर, पश्चिम बंगाल की कंठी दक्षिण, मध्य प्रदेश की अटेर व बांधवगढ़, हिमाचल प्रदेश की भोरंज और असम की धेमई सीट पर वोटिंग हुई। श्रीनगर-बडगाम संसदीय सीट के उपचुनाव के लिए रविवार (9 अप्रैल) को सिर्फ 6.5 फीसदी मतदान हुआ। रविवार को हुई हिंसा में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई है। कश्मीर में चुनावी हिंसा की अबतक की यह सबसे बड़ी घटना है। ये मौतें तब हुईं, जब प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षा बलों ने मध्य कश्मीर के बडगाम जिले में गोलीबारी की। पुलिस ने कहा कि दो प्रदर्शनकारियों की मौत चरार-ए-शरीफ विधानसभा क्षेत्र के दलवान गांव में हुई, जबकि तीन अन्य की मौत बीरवाह में और एक की वाथुरा इलाके में हुई। सुरक्षा बलों ने कथित तौर पर हिंसक भीड़ द्वारा दलवान गांव में एक मतदान केंद्र पर हमला करने और ईवीएम मशीनों के साथ तोड़फोड़ करने तथा मतदान में व्यवधान उत्पन्न करने के कारण गोलीबारी की। पुलिस ने कहा, “सुरक्षा बलों ने मतदान स्थल पर तैनात कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए गोलीबारी की।” पुलिस अधिकारी ने कहा कि हिंसक भीड़ ने एक बस में आग लगा दी और बडगाम में कुछ अन्य मतदान केंद्रों पर ईवीएम तोड़ दिए। बडगाम, श्रीनगर और गांदरबल जिलों में सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ और दोपहर तक केवल पांच प्रतिशत मतदान ही हुआ।

झारखंड के लिट्टीपाड़ा विधानसभा उप चुनाव के लिए रविवार को शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न हुआ और 68 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। एक निर्वाचन अधिकारी ने यह जानकारी दी। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ। बड़ी संख्या में सेना और सचल सुरक्षा दल को मतदान केंद्रों पर तैनात किया गया था। झारखंड मुक्ति मोर्चा पिछले 40 सालों से इस सीट को जीतता आ रहा है। भाजपा इस सीट को हासिल करने की पुरजोर कोशिश कर रही है। उप चुनाव के मद्देनजर झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास ने खुद पांच दिनों तक पार्टी उम्मीदवार के लिए प्रचार किया। भाजपा ने झारखंड मुक्ति मोर्चा के पूर्व नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री हेमलाल मुरमु को मैदान में उतारा है। झारखंड मुक्ति मोर्चा ने एक बार फिर कद्दावर नेता सिमोन मरांडी को उतारा है। इस साल जनवरी में दिल का दौरा पड़ने से झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायक अनिल मुरमु के देहांत के बाद इस सीट पर चुनाव की जरूरत पड़ी।

असम विधानसभा के धेमाजी निर्वाचन क्षेत्र के लिए उप चुनाव में रविवार को शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न हुआ। एक निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि निर्वाचन क्षेत्र में मौजूद 2,19,751 मतदाताओं में से 66.97 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। धेमाजी की मुख्य निर्वाचन अधिकारी रोशनी अपारनजी कोराटी ने आईएएनएस को फोन पर बताया, “धेमाजी विधानसभा सीट पर उप-चुनाव के तहत कुल 66.97 फीसदी मतदान हुआ।” अधिकारियों ने कहा कि सुबह सात बजे से ही मतदान केंद्रों में मतदाताओं की लंबी कतारें लगनी शुरू हो गई थीं। उन्होंने कहा कि राज्य में पहली बार मतदान के लिए वोटर वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रायल (वीवीपीएटी) मशीनों का इस्तेमाल किया गया है। कोराटी ने कहा कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के लिए पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया था। उन्होंने साथ ही कहा कि 20 मतदान केंद्रों को ‘अति संवेदनशील’ और 141 को ‘संवेदनशील’ घोषित किया गया था। असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के अपने संसदीय सीट से इस्तीफा देने के बाद भारतीय जनता पार्टी के विधायक प्रधान बरुआ के लखीमपुर निर्वाचन क्षेत्र से संसद सदस्य चुने जाने के बाद यहां उप चुनाव जरूरी हो गया था।

हिमाचल प्रदेश में इसी वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले रविवार को भोरंज विधानसभा सीट पर हुए उप-चुनाव में 63 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। हमीरपुर जिले में मतदान के लिए मतदाताओं की लंबी कतारें देखी गईं। मतदाताओं ने सुबह आठ बजे मतदान शुरू होने से पहले ही मतदान केंद्रों की ओर जाना शुरू कर दिया था। निर्वाचन अधिकारी मदन चौहान ने आईएएनएस को बताया, “भोरंज विधानसभा सीट पर उप-चुनाव के लिए मतदान शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गया। कुल 63.33 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया।”

राजस्थान के धौलपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिये आज शाम छह बजे तक 80 प्रतिशत मतदान हुआ। 2013 के विधानसभा चुनाव मतदान का प्रतिशत 81.34 प्रतिशत था। धौलपुर उपचुनाव में भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों के अलावा 13 अन्य उम्मीदवारों के राजनीतिक भाग्य का फैसला मतपेटियों में बंद हो गया है।मध्य प्रदेश के भिंड जिले के अटेर और उमरिया जिले के बांधवगढ़ विधानसभा क्षेत्र में हो रहे उपचुनाव में रविवार को छिटपुट हिंसा के बीच दोपहर दो बजे तक 40 फीसदी से अधिक मतदान हुआ। अटेर क्षेत्र में कई स्थानों पर वाहनों में तोड़फोड़, पथराव और गोलीबारी की भी सूचना है। प्रदेश में पहली बार दोनों उपचुनाव में ईवीएम के साथ वीवीपीवीटी का उपयोग हो रहा है। हिमाचल प्रदेश की भोरंज विधानसभा सीट के लिए रविवार को हो रहे चुनाव में दोपहर एक बजे तक 47 फीसदी मतदान हुआ। हमीरपुर जिले में मतदान के लिए मतदाताओं की लंबी कतारें देखी गईं। मतदाताओं ने सुबह आठ बजे मतदान शुरू होने से पहले ही मतदान केंद्रों की ओर जाना शुरू कर दिया था। पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर जिले में कंठी दक्षिण विधानसभा सीट पर उपचुनाव में शाम पांच बजे तक करीब 79.7 फीसदी मतदान हुआ। जिला चुनाव अधिकारी ने कहा, ‘‘कंठी दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में आज शाम पांच बजे तक करीब 79.7 फीसदी मतदान दर्ज किया गया। अबतक किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं आयी है।’’

EVM की विश्वसनीयता पर उठे सवालों के जवाब में चुनाव आयोग का ओपन चैलेंज- "आइए EVM की जांच करें"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App