ताज़ा खबर
 

‘मैं देश नहीं बचने दूंगा’ AAP नेता संजय सिंह ने बजट पर उठाए सवाल, कहा- कपूत परिवार की संपत्ति को बेचता है

आप सांसद ने कहा- प्रधानमंत्री का नारा है कि मैं देश नहीं बचने दूंगा। सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो भी शेयर किया है।

आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह (फोटो – PTI)

आप नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने आम बजट पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना की है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी का नारा था कि देश नहीं बिकने दूंगा। मगर अब पूंजीपतियों के प्रेम में नारा बदल गया है। आप सांसद ने कहा- प्रधानमंत्री का नारा है कि मैं देश नहीं बचने दूंगा। सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो भी शेयर किया है।

वीडियो में उन्होंने कहा- पीएम मोदी ने एक बार कहा था कि ये देश नहीं बिकने दूंगा। मैं देश नहीं मिटने दूंगा। मगर बजट देखने के बाद चार लाइन याद आती हैं। पीएम का नारा बदलकर हो गया है ‘ये देश नहीं बचने दूंगा…ये खेत-खलिहान नहीं बचने दूंगा, किसान नहीं बचने दूंगा…नौजवान नहीं बचने दूंगा, ये देश नहीं बचने दूंगा…ये देश नहीं बचने दूंगा, व्यापार नहीं बचने दूंगा…कर्मचारी नहीं बचने दूंगा, बैंक नहीं बचने दूंगा…LIC नहीं बचने दूंगा, ये देश नहीं बचने दूंगा…ये देश नहीं बचने दूंगा, ये सेल नहीं बचने दूंगा…ये रेल नहीं बचने दूंगा, BPCL नहीं बचने दूंगा…एयरपोर्ट नहीं बचने दूंगा, ये देश नहीं बचने दूंगा…ये देश नहीं बचने दूंगा।’

आप सांसद ने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए पूछा कि उनकी सरकार ने बजट किन लोगों के लिए बनाया है? उन्होंने कहा- चार पूंजीपतियों के लिए बनाया है। उन्हें लाभ पहुंचाने और पूरा देश उन्हीं को बेचने के लिए बनाया है। देश की जनता समझ चुकी है कि मोदी देश के नहीं सिर्फ चार पूंजीपति मित्रों के प्रधानमंत्री हैं। उन्हीं के हाथों में देश की संपत्ति गिरवी रख सबकुछ बेचना चाहते हैं। एक सपूत होता है जो अपने परिवार की संपत्ति की बढ़ाता है और एक कपूत होता है जो परिवार की संपत्ति को बेचता है।

यहां देखें ट्वीट-

आप के अलावा बजट पर अन्य राजनीतिक दलों ने भी प्रतिक्रियाएं दी हैं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि सरकार की योजना भारत की संपत्तियों को ‘अपने पूंजीपति मित्रों’ को सौंपने की है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘सरकार लोगों के हाथों में पैसे देने के बारे में भूल गई। मोदी सरकार की योजना भारत की संपत्तियों को अपने पूंजीपति मित्रों को सौंपने की है।’

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा, ‘वित्त मंत्री ने भारत के लोगों खासकर गरीबों, कामकाजी तबकों, मजूदरों, किसानों, स्थायी रूप से बंद हुईं औद्योगिक इकाइयों और बेरोजगार हुए लोगों को धोखा दिया है। उन्होंने उनका भाषण सुन रहे सांसदों समेत उन सभी लोगों के साथ धोखा किया है जिनको इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी कि पेट्रोल एवं डीजल समेत कई उत्पादों पर उपकर लगा दिया गया है।’ पूर्व वित्त मंत्री ने कहा, ‘इस बजट से इतनी निराशा हुई है जितनी कभी नहीं हुई। पिछले साल की तरह इस बजट की सच्चाई सामने आ जाएगी।’

वाम दलों ने आम बजट को लेकर सोमवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि सिर्फ बयानबाजी हुई है तथा इस बजट से सिर्फ कॉरपोरेट जगत के लोगों को फायदा होगा। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि यह बजट न तो आम लोगों और न ही अर्थव्यवस्था में गति लाने के लिए है, बल्कि यह अमीरों को और अमीर तथा गरीबों को और गरीब बनाने वाला है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्रीय बजट को ‘जन-विरोधी’ करार देते हुए आरोप लगाया कि यह जनता को छलने वाला बजट है और राष्ट्रवाद की बात करने वाली भाजपा देश के संसाधनों को निजी क्षेत्र के लोगों को बेच रही है। शिवसेना ने दावा किया कि केन्द्रीय बजट में महाराष्ट्र की अनदेखी की गई है। (एजेंसी इनपुट)

Next Stories
1 बजट की बात कर कृषि मंत्री ने की किसानों को मनाने की कोशिश, यूनियन ने कर दिया चक्का जाम का ऐलान
2 Budget 2021: आपके पीएफ पर सरकार की नज़रें, ज्यादा बचा रहे हैं तो नहीं मिलेगी छूट, देना होगा टैक्स
3 बजट 2021: कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, बजट था या बेचने की प्रतियोगिता, बैंक बेच दो, रेल बेच दो, ज़फर इस्लाम का जवाब
ये पढ़ा क्या?
X