ताज़ा खबर
 

मायावती का भीम आर्मी चीफ पर हमला, कहा- UP के बजाए दिल्ली में जबरन प्रदर्शन कर जेल चला जाता है

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने आरोप लगाया कि भीम पार्टी के नेता चंद्रशेखर आजाद दिल्ली में होने वाले चुनाव का फायदा उठाने के लिए नागरिकता संशोधन कानून के नाम पर विरोध करने जामा मस्जिद पहुंच गए।

bsp, bhim army, upभीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर और बीएसपी चीफ मायावती फोटो- सोशल मीडिया/ट्विटर

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भीम पार्टी के नेता चंद्रशेखर आजाद पर दलित नेता बनने का नाटक करने का आरोप लगाया। कहा कि दिल्ली में चुनाव होने वाले हैं। इसके चलते वह मौके का फायदा उठाने के लिए नागरिकता संशोधन कानून के नाम पर विरोध करने जामा मस्जिद पहुंच गए। उन्होंने कहा कि वह बिना पुलिस की इजाजत के प्रदर्शन कर जानबूझकर जेल गए। उन्होंने अपनी पार्टी के लोगों से अपील की कि वे चंद्रशेखर आजाद और उन जैसे अन्य लोगों से सचेत रहें।

एक के बाद एक कई ट्वीट कर कार्यकर्ताओं से कहा सचेत रहें : बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर चंद्रशेखर आजाद पर हमला बोला और कहा कि “दलितों का आम मानना है कि भीम आर्मी का चन्द्रशेखर, विरोधी पार्टियों के हाथों खेलकर खासकर बी.एस.पी. के मज़बूत राज्यों में षड़यन्त्र के तहत चुनाव के करीब वहाँ पार्टी के वोटों को प्रभावित करने वाले मुद्दे पर, प्रदर्शन आदि करके फिर जबरन जेल चला जाता है।” एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा “जैसे यह यू.पी. का रहने वाला है, लेकिन CAA/NRC पर यह यू.पी. की बजाए दिल्ली के जामा मस्जिद वाले प्रदर्शन में शामिल होकर जबरन अपनी गिरफ्तारी करवाता है क्योंकि यहां जल्दी ही विधानसभा चुनाव होने वाला है।” एक अन्य ट्वीट में मायावती ने लिखा, “अतः पार्टी के लोगों से अपील है कि वे ऐसे सभी स्वार्थी तत्वों, संगठनों व पार्टियों से हमेशा सचेत रहें। वैसे ऐसे तत्वों को पार्टी कभी लेती नहीं है, चाहे वे कितना प्रयास क्यों ना कर ले?”

National Hindi News 22 December 2019 Live Updates: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

बिना इजाजत दिल्ली में निकाली थी रैली : भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर आजाद ने शनिवार को दिल्ली की जामा मस्जिद से जंतर मंतर तक विरोध मार्च निकाला था। हालांकि उन्होंने पुलिस से इसकी इजाजत मांगी थी, लेकिन मिली नहीं थी। बाद में पुलिस ने उन्हें हिरासत में लिया और देर शाम उन्हें गिरफ्तार कर लिया। आजाद ने अपनी गिरफ्तारी का विरोध करते हुए कहा था कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं कि उन्होंने जामा मस्जिद पर जमा भीड़ को दिल्ली गेट जाने के लिए उकसाया था, जहां पहुंचकर प्रदर्शनकारी उग्र हो गए थे।

कोर्ट ने भेजा तिहाड़ जेल : चंद्रशेखर ने अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ जमानत याचिका दाखिल की थी, लेकिन पुलिस ने कोर्ट से उनको 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजने की मांग की। कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारित करते हुए उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। पुलिस ने दलील दी थी कि भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं, इसलिए उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजा जाना जरूरी है।

Next Stories
1 नागरिकता संशोधन कानून, एनआरसी से भारतीय मुसलमानों का कोई लेना देना नहीं है, बोले पीएम मोदी
2 ‘2 किलोमीटर दूर चीन छोड़कर 1769 KM दूर भारत क्यों आने चाहते हैं रोहिंग्या?’ पूर्व बीजेपी सांसद ने पूछा तो लोग उठाने लगे ज्ञान पर सवाल
3 CAA के समर्थन में RSS-BJP की तिरंगा यात्रा, सड़क पर उतरे हजारों लोग; देखें VIDEO
ये पढ़ा क्या?
X