ताज़ा खबर
 

दिल्ली-लखनऊ के पॉश इलाकों में मायावती की प्रॉपर्टीज, जानें क्यों सबसे अमीर राजनेताओं में है गिनती

मायावती के पास उनके नाम से दिल्ली के गुरुद्वारा रकाब गंज रोड पर एक सरकारी बंगला भी है। 8,250 स्क्वायर फीट में बने इस बंगले में 8 बेडरूम, चार सर्वेंट क्वॉर्टर हैं। दिल्ली की अन्य अचल संपत्तियों की बात करें तो मायावती की राजधानी के पॉश कनॉट प्लेस में दो कॉमर्शियल इमारतें हैं।

Author February 11, 2019 11:16 AM
बसपा प्रमुख मायावती। (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट की एक टिप्पणी की वजह से बसपा सुप्रीमो मायावती राजनीतिक विरोधियों के निशाने पर हैं। सुप्रीम कोर्ट ने बीते शुक्रवार को कहा था कि बसपा प्रमुख को उत्तर प्रदेश में सार्वजनिक स्थानों पर अपनी तथा पार्टी के चुनाव चिह्न ‘हाथी’ की मूर्तियां बनवाने में खर्च किया गया सार्वजनिक धन सरकारी खजाने में जमा कराना चाहिए। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने रविवार को आरोप लगाया कि यूपी की सीएम रहते हुए आंबेडकर समेत विभिन्न दलित नेताओं की मूर्तियां स्थापित करने के पीछे मायावती का असल मकसद खुद की प्रतिमाएं लगवाना था। वहीं, मायावती ने मीडिया और भाजपा नेताओं को नसीहत दी है कि वे ‘कटी पतंग’ न बनें तो बेहतर है। राजनीतिक विरोधी जो भी आरोप लगाएं, लेकिन मायावती की गिनती बेहद अमीर राजनेताओं में होती है।

चार बार यूपी की सीएम रह चुकीं मायावती ने 2012 के राज्यसभा चुनावों के समय नॉमिनेशन दाखिल करते वक्त अपनी संपत्तियों की जानकारी दी है। चुनाव आयोग के पास दाखिल हलफनामे के आंकड़ों के मुताबिक, बसपा प्रमुख की दिल्ली और लखनऊ के पॉश इलाकों में करोड़ों रुपये की संपत्तियां हैं। मायावती की ज्यादातर संपत्तियां रियल एस्टेट में हैं। उनकी दिल्ली और लखनऊ में पॉश इलाके में रेजिडेंशियल इमारतें हैं। मायावती के पास दिल्ली में एक आधिकारिक रेजिडेंस कम ऑफिस भी है। दिल्ली में तीन बंगलों को मिलाकर मायावती का यह रेजिडेंस कम ऑफिस तैयार किया गया है। इसके एक हिस्से को को बहुजन प्रेरणा ट्रस्ट के नाम से आवंटित किया गया है। हलफनामे के मुताबिक, बसपा सुप्रीमो की लखनऊ और दिल्ली, दोनों ही जगहों पर रेजिडेंशियल और कॉमर्शियल प्रॉपर्टीज हैं। इसके अलावा, उनके पास कैश और जूलरी भी है। यह सब मिलाकर कुल 111 करोड़ रुपये से ज्यादा की प्रॉपर्टी है। बता दें कि 2010 में मायावती की कुल संपत्तियों की वैल्यू करीब 88 करोड़ रुपये जबकि 2007 में 52.27 करोड़ रुपये बताई गई थी।

मायावती के पास उनके नाम से दिल्ली के गुरुद्वारा रकाब गंज रोड पर एक सरकारी बंगला भी है। 8,250 स्क्वायर फीट में बने इस बंगले में 8 बेडरूम, चार सर्वेंट क्वॉर्टर हैं। दिल्ली की अन्य अचल संपत्तियों की बात करें तो मायावती की राजधानी के पॉश कनॉट प्लेस में दो कॉमर्शियल इमारतें हैं। दिल्ली के डिप्लोमेटिक एनक्लेव में भी मायावती के पास प्रॉपर्टी है, जिसकी 2012 में कीमत 61 करोड़ रुपये आंकी गई थी। वहीं, बसपा प्रमुख ने 2010 में लखनऊ के माल एवेन्यू में एक आवासीय इमारत खरीदी जिसकी 2012 में कीमत 12 करोड़ रुपये आंकी गई।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 2009 में दायर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए मायावती को सरकारी पैसा लौटाने के लिए कहा था। याचिकाकर्ता वकील का आरोप है कि 2008-09 और 2009-10 के राज्य बजट से करीब दो हजार करोड़ रुपये का इस्तेमाल मायावती ने मुख्यमंत्री रहते हुए विभिन्न स्थानों पर अपनी तथा बसपा के चुनाव चिन्ह हाथी की मूर्तियां लगाने में किया। सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा कि अपनी मूर्तियां लगाने तथा राजनीतिक दल के प्रचार के लिए सरकारी धन का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। चीफ जस्टिस की अगुआई वाली बेंच ने कहा था, ‘सुश्री मायावती, पूरा धन वापस कीजिए। हमारा नजरिया है कि मायावती को खर्च किया गया पूरा धन वापस लौटाना चाहिए।’ (एजेंसी इनपुट के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App