ताज़ा खबर
 

सरकारी टेलिकॉम कंपनी BSNL में पहली बार, पैसों की कमी की वजह से अटकी 1.76 लाख कर्मचारियों की सैलरी

कर्मचारी संघ ने दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि सरकार कंपनी को वेतन देने के साथ-साथ फर्म को पुनर्जीवित करने के लिए फंड जारी करे। कंपनी के कर्मचारी धरना प्रदर्शन भी कर रहे हैं।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (file photo)

BSNL fails to pay Salary: राज्य के स्वामित्व वाली दूरसंचार फर्म बीएसएनएल बुरे दौर से गुजर रही है। बीएसएनएल वित्तीय बाधाओं के कारण अपने लगभग 1.76 लाख कर्मचारियों को फरवरी के वेतन का भुगतान करने में विफल रही। ये पहली बार है जब ऐसा हुआ है। यह आगे आने वाले कठिन समय को ध्यान में रखते हुए करते हुए कंपनी की कर्मचारियों के वेतन भुगतान पर चूक की पहली घटना है। कर्मचारी संघ ने दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि सरकार कंपनी को वेतन देने के साथ-साथ फर्म को पुनर्जीवित करने के लिए फंड जारी करे। कंपनी के कर्मचारी धरना प्रदर्शन भी कर रहे हैं।

बीएसएनएल का लगभग 55 प्रतिशत राजस्व वेतन के भुगतान में जाता है और जबकि कंपनी का वेतन बिल प्रति वर्ष 8 प्रतिशत बढ़ता है। इसका राजस्व स्थिर है। बीएसएनएल के संघों और यूनियनों ने भी कहा है कि रिलायंस जियो के मूल्य निर्धारण के कारण दूरसंचार उद्योग की फाइनेंसियल हेल्थ को नुकसान हुआ है। सिन्हा ने बीएसएनएल (एयूएबी) के सभी यूनियनों और एसोसिएशनों के एक पत्र में कहा, “अन्य ऑपरेटरों द्वारा भी वित्तीय संकट का सामना किया जा रहा है, लेकिन वे भारी मात्रा में निवेश करके स्थिति का प्रबंधन कर रहे हैं।” बीएसएनएल के एक अधिकारी ने कहा कि कंपनी ने केरल, जम्मू और कश्मीर, ओडिशा और कॉरपोरेट कार्यालय में कर्मचारियों को फरवरी का वेतन देना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा “जब आय उत्पन्न होगी तो कर्मचारियों को वेतन का भुगतान किया जाएगा। क्योंकि सरकार ने कोई वित्तीय सहायता नहीं दी है, इसलिए वेतन में देरी हो रही है।”

सूत्र ने बताया कि मार्च महीने के वेतन में कुछ दिनों की देरी होगी, इस तथ्य के बावजूद कि महीने में नकदी प्रवाह आमतौर पर उद्यम व्यवसाय से बिलिंग के कारण अधिक होता है। एक अन्य सूत्र ने कहा कि बीएसएनएल बोर्ड ने बैंक लोन लेने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है लेकिन दूरसंचार विभाग ने अभी तक इसे आगे नहीं बढ़ाया है। बीएसएनएल का घाटा हर साल बढ़ता जा रहा है। इसने वित्त वर्ष 18 के लिए लगभग 8,000 करोड़ रुपये का घाटा दर्ज किया, जबकि वित्त वर्ष 17 में यह 4,786 करोड़ रुपये था।

Next Stories
1 Hindi News Today, 13 March 2019 Updates: विकलांगों को रेलवे का पृथक पहचान पत्र: अदालत ने केन्द्र से मांगा जवाब
2 Election 2019: मोदी के खिलाफ प्रचार करने के लिए वाराणसी जाना चाहती हैं ममता बनर्जी, 5 राज्यों के लिए बनाया यह प्लान
3 नीरव मोदी प्रत्यर्पण मामला: ईडी ने मीडिया में छपी खबरों का किया खंडन, कहा- कोई कोताही नहीं बरती गई
यह पढ़ा क्या?
X